सर्दियों में प्रेगनेंट महिलाओं को इस तरह रखना चाहिए अपना ख्याल, भूलकर भी ना करें ये गलतियाँ

सर्दियों में प्रेगनेंट महिलाओं को इस तरह रखना चाहिए अपना ख्याल, भूलकर भी ना करें ये गलतियाँ

सर्दियों में प्रेगनेंट महिलाओं की परेशानियाँ और बढ़ जाती हैं। सर्दियों में प्रेगनेंट महिलाओं को अपना खास ख्याल रखना चाहिए। आज के इस लेख में हम आपको बताएंगे कि सर्दियों में प्रेगनेंट महिलाओं को किस तरह अपनी देखभाल करनी चाहिए।

प्रेगनेंसी में महिलाओं की इम्युनिटी कमजोर हो जाती है जिसकी वजह से वे संक्रमण और बीमारियों का खतरा अधिक होता है। ऐसे में सर्दियों में प्रेगनेंट महिलाओं की परेशानियाँ और बढ़ जाती हैं। सर्दियों में प्रेगनेंट महिलाओं को अपना खास ख्याल रखना चाहिए। आज के इस लेख में हम आपको बताएंगे कि सर्दियों में प्रेगनेंट महिलाओं को किस तरह अपनी देखभाल करनी चाहिए- 

इसे भी पढ़ें: अगर घटाना चाहते हैं वजन तो नाश्ते में भूलकर भी ना खाएं ये 5 चीज़ें

प्रेगनेंसी में महिलाओं की इम्युनिटी कमजोर हो जाती है जिसकी वजह से वे संक्रमण की चपेट में जल्दी आ जाती हैं। ऐसे में सर्दियों में प्रेगनेंट महिलाओं को सर्द हवाओं और ठंड से बचाना बहुत जरुरी है। इसलिए जब भी घर से बाहर निकलें तो गर्म कपड़े, मोजे, टोपी और दस्ताने पहनकर जाएं।  

प्रेगनेंसी में गर्भवती महिला को अपने खानपान का ख्याल रखना बहुत जरुरी है। प्रेगनेंसी में इम्युनिटी कमजोर होने की वजह से सर्दी-जुकाम और बुखार हो सकता है। ऐसे में इम्युनिटी को मजबूत करने के लिए हाई प्रोटीन वाला और पोषक आहार लें। अपने खाने में मौसमी फल-सब्जियां दालें, दूध, घी, मेवे आदि जरूर शामिल करें। 

सर्दियों में प्यास कम लगती है लेकिन फिर भी आपको पर्याप्त मात्रा में पानी पीना चाहिए। प्रेगनेंसी में महिला के शरीर में पानी की ज्यादा आवश्यकता होती है।  पानी की कमी से आपके और आपके शिशु को नुकसान हो सकता है। प्रेगनेंसी में डिहाइड्रेशन के कारण कमजोरी, चक्कर और सिरदर्द जैसी समस्याएं हो सकती हैं इसलिए पर्याप्त मात्रा में पानी पिएँ। इसके अलावा आप जूस, स्मूदी या गर्म दूध का सेवन भी कर सकती हैं। 

अगर आप प्रेगनेंसी में फ्लू से सुरक्षा पाना चाहती हैं तो फ्लू वैक्सीन लगवा सकती हैं। इससे माँ और शिशु दोनों को फ्लू से सुरक्षा मितली है। डॉक्टर्स के अनुसार इससे प्रेगनेंट महिलाओं को रेस्पिरेटरी इंफेक्शन से बचाव होता है। इतना ही नहीं, फ्लू वैक्सीन से बच्चे के जन्म के छह महीने बाद तक फ्लू से सुरक्षा मिलती है।

इसे भी पढ़ें: अबॉर्शन रोकने वाली गोलियों से बच्चे में हो सकता है कैंसर, स्टडी में हुआ चौंका देने वाला खुलासा

प्रेगनेंसी में क्रेविंग होना आम है लेकिन संक्रमण से बचने के लिए बाहर का खाना खाने से बचें। इसके अलावा प्रेगनेंसी में बासी खाना खाने से भी बचें क्योंकि  इससे आपकी और आपके शिशु की सेहत को नुकसान हो सकता है। 

प्रेगनेंसी में अपने आसपास की साफ़-सफाई का भी खास ख्याल रखें। खाना बनाने से पहले सब्जियाँ और हाथ जरूर धोएँ। इसके साथ ही घर में पोछा लगते समय डिसइन्फेक्टेंट का इस्तेमाल करें। 

प्रेगनेंसी में त्वचा में भी बदलाव आने लगता है। सर्दियों में ठंड के कारण त्वचा और ज्यादा रूखी और बेजान हो जाती है। ऐसे में नहाने के लिए ज्यादा गर्म पानी का इस्तेमाल ना करें। इसके साथ ही त्वचा की नमी बरकरार रखने के लिए किसी अच्छी मॉइस्चराइज़िंग क्रीम का इस्तेमाल अवश्य करें।

- प्रिया मिश्रा





डिस्क्लेमर: इस लेख के सुझाव सामान्य जानकारी के लिए हैं। इन सुझावों और जानकारी को किसी डॉक्टर या मेडिकल प्रोफेशनल की सलाह के तौर पर न लें। किसी भी बीमारी के लक्षणों की स्थिति में डॉक्टर की सलाह जरूर लें।