इस तरह तेजी से फैलती है टीबी की बीमारी, बचने के लिए यह सावधानी बरतें

इस तरह तेजी से फैलती है टीबी की बीमारी, बचने के लिए यह सावधानी बरतें

टीबी को तपेदिक, दण्डाणु और राजयक्ष्मा भी कहा जाता है। यह एक संक्रामक बीमारी है जो बैक्टीरिया के कारण फैलता है। टीबी का बैक्टीरिया शरीर के एक हिस्से में नहीं बल्कि पूरे शरीर में किसी भी अंग में प्रवेश कर सकता है।

टीबी एक जानलेवा बीमारी है जो भारत में ही बल्कि पूरे दुनिया में तेजी से फैल रही है। लोगों के बीच इस बीमारी के बारे में जागरूकता फैलाने के लिए 24 मार्च को वर्ल्ड टीबी डे के रूप में मनाया जाता है। तो आइए हम वर्ल्ड टीबी डे के अवसर पर टीबी के बारे में चर्चा करते हैं।

टीबी जिसे टयूबरक्लोसिस के नाम से भी जाना जाता है। इसे तपेदिक, दण्डाणु और राजयक्ष्मा भी कहा जाता है। यह एक संक्रामक बीमारी है जो बैक्टीरिया के कारण फैलता है। टीबी का बैक्टीरिया शरीर के एक हिस्से में नहीं बल्कि पूरे शरीर में किसी भी अंग में प्रवेश कर सकता है। वैसे तो यह ज्यादातर फेफड़ों में पाया जाता है लेकिन कभी-कभी यह आंत, गुर्दे, जोड़ों और हड्डियों में पहुंच जाता है।

इसे भी पढ़ें: एक टीबी मरीज साल में कम से कम 15 और लोगों को यह बीमारी दे देता है

बीमारी का कारण

टीबी की बीमारी मरीज के खांसने, छींकने और थूकने पर निकलने वाले बैक्टीरिया के संपर्क में आने से होता है। इसके बैक्टीरिया कई घंटों तक हवा में रहते हैं जो स्वस्थ व्यक्ति को भी बीमार कर सकते हैं।

टीबी भी होती है कई तरह की 

टीबी की बीमारी खासतौर से तीन तरह की होती है। उनमें पेट का टीबी, हड्डी का टीबी और फुफ्सीय टीबी आदि हैं। पेट की टीबी में रोगी को बार-बार दस्त आती है और पेट में दर्द होता है। पेट की बीमारी का जब तक पता चलता है कि तब तक पेट में गांठ पड़ चुकी होती है। हड्डियों में होने वाली टीबी का बीमारी का पता जल्दी चल जाता है। इस बीमारी में शरीर पर फोड़े-फुंसियां होती है और हड्डी बहुत कमजोर हो जाती है। इसमें बहुत इलाज के बाद भी आराम नहीं मिलता है। फुफ्सीय टीबी की बीमारी के लक्षणों में सांस तेज चलना और सिर दर्द होना है।

टीबी के लक्षण

टीबी के लक्षणों की शुरूआत में खांसी आती है जो कई हफ्तों तक बनी रहती है। साथ ही बुखार भी आता है जो अक्सर शाम को बढ़ जाता है। इस बीमारी में वजन कम हो जाता है। मरीज को सांस लेने में भी परेशानी होती है। यही नहीं छाती में तेज दर्द होता है और बलगम में खून भी आता है। फेफड़ों में इंफेक्शन होता है और भूख भी कम हो जाती है।

कैसे करें बचाव

जब भी खांसी लम्बे समय तक बनी रहे तो डॉक्टर से मिलें। टीबी के मरीज से दूरी बना कर रहें। अगर किसी टीबी के मरीज से मिल रहे हैं तो उसके बाद अच्छी तरह से हाथ-पैर धुलें। हमेशा पौष्टिक आहार खाएं। मरीज को हमेशा बलगम पालीथीन में थूकने को कहें।


कैसे घातक है बीमारी

टीबी एक ऐसी बीमारी है जिसमें बैक्टीरिया प्रभावित अंग को खराब कर देता है। वह अंग फिर काम करना बंद कर देता है। टीबी एड्स के बाद दुनिया में सबसे तेजी से फैलने वाली बीमारी है। यह टीबी शहरी जीवन में होने वाले प्रदूषण जैसे धूल-मिट्टी से भी फैलती है।

इसे भी पढ़ें: बस इस एक उपाय से होगा एक महीने में आपका वजन कम

बच्चों को लेता है चपेट में

टीबी किसी भी उम्र के व्यक्ति को हो सकता है लेकिन बच्चों के लिए यह बहुत खतरनाक है। बच्चों को टीबी से बचाने के लिए पैदा होते ही बीसीजी का टीका लगाया जाता है।

-प्रज्ञा पाण्डेय





डिस्क्लेमर: इस लेख के सुझाव सामान्य जानकारी के लिए हैं। इन सुझावों और जानकारी को किसी डॉक्टर या मेडिकल प्रोफेशनल की सलाह के तौर पर न लें। किसी भी बीमारी के लक्षणों की स्थिति में डॉक्टर की सलाह जरूर लें।