क्या होता है स्पिरुलिना? डायबिटीज और कैंसर जैसी घातक बीमारियों में है रामबाण इलाज, जानें अन्य फायदे

क्या होता है स्पिरुलिना? डायबिटीज और कैंसर जैसी घातक बीमारियों में है रामबाण इलाज, जानें अन्य फायदे

स्पिरुलिना एक तरह का शैवाल यानी पानी में पाए जाने वाला पौधा होता है। यह पौधा झील, झरने या खारे पानी में पाया जाता है। स्पिरुलिना कई पोषक तत्वों से भरपूर होता है इसलिए इसका इस्तेमाल आयुर्वेदिक दवाओं में भी किया जाता है। स्पिरुलिना के सेवन से डायबिटीज, हाई कोलेस्ट्रॉल और बीपी जैसी कई बीमारियों में लाभ होता है।

आज के समय में खराब जीवनशैली और खानपान की गलत आदतों के कारण डायबिटीज, बीपी, कोलेस्ट्रॉल जैसी कई समस्याएं आम हो गयी हैं। अधिकतर लोग इन समस्याओं के लिए दवाओं का सेवन करते हैं। लेकिन आप प्राकृतिक तरीकों से भी इन स्वास्थ्य समस्याओं से छुटकारा पा सकते हैं। ऐसा ही एक पौधा है- स्पिरुलिना, जो कई तरह की बीमारियों के इलाज में फायदेमंद माना जाता है।

इसे भी पढ़ें: इन 5 जंक फूड को खाने से नहीं होगा कोई नुकसान, सेहत के लिए हैं फायदेमंद

क्या है स्पिरुलिना?

स्पिरुलिना एक तरह का शैवाल यानी पानी में पाए जाने वाला पौधा होता है। यह पौधा झील, झरने या खारे पानी में पाया जाता है। स्पिरुलिना में भरपूर मात्रा में प्रोटीन और विटामिन मौजूद होता है इसलिए इसे सुपरफूड कहा जाता है। इसमें करीब 60 फ़ीसदी प्रोटीन होता है और 18 से ज्यादा विटामिन और मिनरल्स पाए जाते हैं। इसके अलावा इसमें विटामिन ए, आयर,न कैरोटीन, कैल्शियम, एंटी ऑक्सीडेंट और फाइटोन्यूट्रिएंट्स होते हैं। स्पिरुलिना कई पोषक तत्वों से भरपूर होता है इसलिए इसका इस्तेमाल आयुर्वेदिक दवाओं में भी किया जाता है। स्पिरुलिना के सेवन से डायबिटीज, हाई कोलेस्ट्रॉल और बीपी जैसी कई बीमारियों में लाभ होता है। आज के इस लेख में हम आपको स्पिरुलिना के फायदों के बारे में बताने जा रहे हैं -


स्पिरुलिना के फायदे 

डायबिटीज के मरीजों के लिए स्पिरुलिना बहुत फायदेमंद माना जाता है। इससे ब्लड शुगर कंट्रोल करने में मदद मिलती है और यह टाइप 1 और टाइप 2 डायबिटीज के रोगियों के लिए बहुत फायदेमंद है।

वेट लॉस के लिए भी स्पिरुलिना बहुत फायदेमंद माना जाता है। इसमें बीटा कैरोटीन, फैटी एसिड और क्लोरोफिल जैसे कई पोषक तत्व मौजूद होते हैं जिससे शरीर में जमा फैट को कम करने में मदद मिलती है।

स्पिरुलिना से कैंसर जैसी खतरनाक बीमारियों के जोखिम को दूर करने में भी मदद मिलती है। इसमें भरपूर मात्रा में एंटी ऑक्सीडेंट पर जाते हैं जो शरीर में मौजूद हानिकारक फ्री रेडिकल्स को नष्ट करते हैं। इसके नियमित सेवन से कैंसर से बचाव होता है।

इसे भी पढ़ें: काढ़ा पीने से फायदा ही नहीं, हो सकते हैं यह नुकसान भी, जानिए

स्पिरुलिना हमारे दिल के स्वास्थ्य के लिए भी फायदेमंद माना जाता है। इसके सेवन से बैड कोलेस्ट्रॉल का स्तर कम होता है और ब्लड प्रेशर कंट्रोल करने में मदद मिलती है। स्पिरुलिना के इस्तेमाल से हार्ट में रक्त संचार अच्छा रहता है जिससे दिल की बीमारियों का खतरा कम होता है।

हेपेटाइटिस और सिरोसिस जैसी लिवर संबंधी बीमारियों में भी स्पिरूलिना का इस्तेमा बहुत फायदेमंद माना जाता है। इसमें भरपूर मात्रा में प्रोटीन और फाइबर पाया जाता है जो लिवर को स्वस्थ और मजबूत बनाता है।

स्पिरुलिना के सेवन से शरीर की इम्युनिटी मजबूत बनती है। इसके नियमित सेवन से कोशिकाओं के उत्पादन की क्षमता बढ़ती है और शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ती है।

डिप्रेशन और तनाव जैसी मानसिक समस्याओं में भी स्पिरुलिना का इस्तेमाल बहुत फायदेमंद माना जाता है। इसमें भरपूर मात्रा में विटामिन b12 और फॉलिक एसिड पाया जाता है जो दिमाग को पोषण और ऊर्जा देने में मदद करता है। इससे नए ब्लड सेल्स का निर्माण होता है और तनाव और डिप्रेशन जैसी बीमारियों का जोखिम कम होता है।

गर्भवती महिलाओं के लिए भी स्पिरुलिना का सेवन बहुत फायदेमंद माना जाता है। इसमें भरपूर मात्रा में आयरन मौजूद होता है जिससे प्रेगनेंसी में होने वाली आयरन और खून की कमी को दूर करने में मदद मिलती है। इसके साथ ही स्पिरुलिना में मौजूद फाइबर प्रेगनेंसी में कब्ज की शिकायत को दूर करने में मदद करता है।

हमारी आंखों के लिए भी स्पिरुलिना बहुत फायदेमंद माना जाता है। इसमें विटामिन ए पाया जाता है जिससे आंखों की रोशनी बढ़ती है और मोतियाबिंद और रेटिनाइटिस जैसी बीमारियां दूर होती हैं।

स्पिरुलिना सेहत के साथ-साथ त्वचा के लिए भी बहुत फायदेमंद होता है। इसमें विटामिन, आयरन कैल्शियम और फास्फोरस जैसे पोषक तत्व मौजूद होते हैं जो त्वचा को स्वस्थ और चमकदार बनाते हैं। इससे डार्क सर्कल और झुर्रियों जैसी त्वचा संबंधी समस्याएं दूर होती हैं।

- प्रिया मिश्रा





डिस्क्लेमर: इस लेख के सुझाव सामान्य जानकारी के लिए हैं। इन सुझावों और जानकारी को किसी डॉक्टर या मेडिकल प्रोफेशनल की सलाह के तौर पर न लें। किसी भी बीमारी के लक्षणों की स्थिति में डॉक्टर की सलाह जरूर लें।