ऑडिशन के दौरान निर्देशक ने मुझे गोद में बैठने के लिये कहा था: जीना डेविस

By प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क | Publish Date: Aug 11 2019 4:31PM
ऑडिशन के दौरान निर्देशक ने मुझे गोद में बैठने के लिये कहा था: जीना डेविस
Image Source: Google

चर्चित अभिनेत्री जीना डेविस ने खुलासा किया है जब वह मनोरंजन उद्योग में नयी थीं तो शुरुआती दिनों में एक ऑडिशन के दौरान एक निर्देशक ने उन्हें गोद में बैठने के लिये कहा था। लैंगिक समानता पर मुखरता से अपनी बात रखने वाली 63 वर्षीय अभिनेत्री ने कहा कि पहले शक्तिशाली पुरुषों द्वारा यौन दुराचार किया जाना आम बात थी, लेकिन अब चीजों में तेजी से अच्छे बदलाव हुए हैं।

लॉस एंजिलिस। चर्चित अभिनेत्री जीना डेविस ने खुलासा किया है जब वह मनोरंजन उद्योग में नयी थीं तो शुरुआती दिनों में एक ऑडिशन के दौरान एक निर्देशक ने उन्हें गोद में बैठने के लिये कहा था। लैंगिक समानता पर मुखरता से अपनी बात रखने वाली 63 वर्षीय अभिनेत्री ने कहा कि पहले शक्तिशाली पुरुषों द्वारा यौन दुराचार किया जाना आम बात थी, लेकिन अब चीजों में तेजी से अच्छे बदलाव हुए हैं।

इसे भी पढ़ें: ''डोन्ट लुक बैक’ और ‘द वार रूम’ जैसी फिल्मों के चर्चित डॉक्यूमेंट्री निर्माता डी ए पेन्नेबेकर का निधन

डेविस ने यूएसए टुडे से कहा, मैं एक ऑडिशन दे रही थी जिसमें एक दृष्य में मुझे एक पुरुष कलाकार की गोद में बैठना था। निर्देशक ने कहा, इस दृष्य को मेरे साथ करो , और मुझे अपनी गोद में बैठा लिया। यह एक तरह का सैक्सी दृष्य था। मैं इसे नहीं करना चाहती थी और मैं बहुत असहज थी, लेकिन मुझे नहीं पता था कि आप न नहीं कह सकते। 

इसे भी पढ़ें: एक्ट्रेस जेसिका अल्बा का ट्विटर अकाउंट हैक, हैकर ने निकाली लोगों पर मन की भड़ास



फिल्म देल्मा एंड लुईस  के लिये चर्चित डेविस ने कहा कि #मीटू और टाइम्स अप के समय भी अलग-अलग जगहों से इस तरह की बातें सामने आईं। इस बीच, मशहूर अभिनेत्री जेना फोंडा ने कहा कि महिलाओं के अभियान ने हमें यह महसूस कराया है कि बलात्कार और छेड़छाड़ में हमारी गलती नहीं है। उन्होंने कहा कि मीटू और टाइम्स अप अभियानों के बाद हम यह महसूस करने लगे कि अगर उनके साथ यौन दुर्व्यवहार या बलात्कार होता है तो यह हमारी गलती नहीं।

इसे भी पढ़ें: आखिर क्यों डोनाल्ड ट्रंप पर जमकर भड़की सिंगर कार्डी बी... मामला गंभीर!

फोंडा (81) ने ब्रिटेन की पत्रिका  ओके  को दिये साक्षात्कार में कहा कि उन्होंने अपने जीवन में कई बार यह सबकुछ झेला है और उन्हें खुशी है कि आखिरकार महिलाओं की सुनी जा रही है। उन्होंने कहा, बचपन में मेरा बलात्कार किया गया, यौन उत्पीड़न किया गया, बॉस के साथ नहीं सोने पर मुझे नौकरी से निकाल दिया गया। मुझे लगा कि यह मेरी गलती है कि मैं सही चीजें नहीं कर और कह सकी। महिलाओं के आंदोलनों की सबसे अच्छी चीज है कि हम यह महसूस करने लगे हैं कि बलात्कार और उत्पीड़न हमारी गलती नहीं है। हमारा उत्पीड़न किया गया, जो सही नहीं। 

रहना है हर खबर से अपडेट तो तुरंत डाउनलोड करें प्रभासाक्षी एंड्रॉयड ऐप