अमेरिकी टेलीविजन स्टार पद्मा लक्ष्मी को UNDP की गुडविल एम्बेसेडर बनाया गया

By प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क | Publish Date: Mar 8 2019 5:33PM
अमेरिकी टेलीविजन स्टार पद्मा लक्ष्मी को UNDP की गुडविल एम्बेसेडर बनाया गया
Image Source: Google

लक्ष्मी ने यूएनडीपी में आयोजित एक संवाददाता सम्मेलन में कहा, ‘‘हम जब अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस मना रहे हैं... तो इस समय हमें यह बात याद रखनी चाहिए कि महिलाओं और लड़कियों को विश्वभर में सर्वाधिक भेदभाव और मुश्किलों का सामना करना पड़ता है।

संयुक्त राष्ट्र। भारतीय अमेरिकी टेलीविजन हस्ती एवं खाद्य विशेषज्ञ पद्मा लक्ष्मी को संयुक्त राष्ट्र विकास कार्यक्रम (यूएनडीपी) की नई ‘गुडविल एम्बेसेडर’ नियुक्त किया गया है और वह विश्वभर में असमानता एवं भेदभाव के खिलाफ एजेंसी की लड़ाई का समर्थन करेंगी। यूएनडीपी ने अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस पर यहां बृहस्पतिवार को लक्ष्मी को नियुक्त किए जाने की घोषणा की। एमी पुरस्कार के लिए नामित टेलीविजन हस्ती एवं पुरस्कार विजेता लेखिका लक्ष्मी अपनी नयी भूमिका में असमानता एवं भेदभाव के खिलाफ लड़ाई और वंचितों को सशक्त बनाने की ओर ध्यान केंद्रित करते हुए सतत विकास लक्ष्यों के प्रति समर्थन जुटाने का काम करेंगी। यूएनडीपी प्रशासक अचिम स्टीनर ने ‘गुडविल एम्बेसेडर’ के तौर पर लक्ष्मी के नाम की घोषणा की।

इसे भी पढ़ें: तिगमांशू धूलिया का फूटा गुस्सा, ''बकवास फिल्में भी अच्छी कमाई कर रहीं क्योंकि...''

लक्ष्मी ने यूएनडीपी में आयोजित एक संवाददाता सम्मेलन में कहा, ‘‘हम जब अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस मना रहे हैं... तो इस समय हमें यह बात याद रखनी चाहिए कि महिलाओं और लड़कियों को विश्वभर में सर्वाधिक भेदभाव और मुश्किलों का सामना करना पड़ता है। उन्होंने कहा कि यूएनडीपी गुडविल एम्बेसेडर के तौर पर वह इस बात पर लोगों का ध्यान खींचने की कोशिश करेंगी कि असमानता अमीर और गरीब देशों को समान रूप से प्रभावित करती है। लक्ष्मी ने कहा, ‘‘कई देश गरीबी कम करने में कामयाब रहे हैं लेकिन असमानता अधिक हठी प्रतीत होती है।’’’ उन्होंने कहा, ‘‘लिंग, आयु, जाति और नस्ल के आधार पर असमानता की जाती है।

इसे भी पढ़ें: अपने अभिनय से किरदार को जीवंत बना देतीं थी ललिता पवार

यह खासकर महिलाओं, अल्पसंख्यकों और उन अन्य लोगों को प्रभावित करती है जिन्हें समाज में अकल्पनीय भेदभाव का सामना करना पड़ता है।’’ स्टीनर ने कहा कि लक्ष्मी पहले भी भेदभाव के खिलाफ और वंचित तबके के लिए आवाज उठाती रही है। उन्होंने कहा, ‘‘आवश्यकता है कि उनकी तरह और लोग भी आवाज उठाएं ताकि हम सतत विकास लक्ष्यों के अपने सपने को साकार कर सकें जो कि लोगों और दुनिया में शांति और समृद्धि का साझा खाका हैं।



रहना है हर खबर से अपडेट तो तुरंत डाउनलोड करें प्रभासाक्षी एंड्रॉयड ऐप