कब्र से निकाल कर चार्ली चैपलिन के शव को चुरा ले गये थे चोर... फिर क्या हुआ?

By रेनू तिवारी | Publish Date: May 17 2019 1:03PM
कब्र से निकाल कर चार्ली चैपलिन के शव को चुरा ले गये थे चोर... फिर क्या हुआ?
Image Source: Google

चार्ली चैपलिन शायद ही कोई ऐसा हो जिसने ये नाम न सुना हो। चार्ली चैपलिन कौन थे, कहा से आये थे, आज हम आपको उनसे जुड़ी कुछ ऐसी चीजों के बारें में बताएंगे जो आपने शायद ही सुनी हो।

नयी दिल्ली। इतिहास में कई ऐसे नाम दर्ज हैं जो किसी एक देश के नहीं बल्कि सारी दुनिया में चाहे और सराहे जाते हैं। चार्ली चैपलिन भी उनमें से एक हैं। बहुत कम लोगों को मालूम होगा कि दुनिया को हंसाने वाले चार्ली चैपलिन की मौत के बाद कुछ चोर उनकी कब्र खोदकर ताबूत निकाल ले गए और उनके परिवार से ताबूत के बदले में चार लाख पाउंड की मांग की। उन चोरों को धन तो नहीं मिला क्योंकि पुलिस ने चोरों को पकड़कर 17 मई के दिन चार्ली चैपलिन का ताबूत बरामद किया।

भाजपा को जिताए

चार्ली चैपलिन शायद ही कोई ऐसा हो जिसने ये नाम न सुना हो। चार्ली चैपलिन कौन थे, कहा से आये थे, आज हम आपको उनसे जुड़ी कुछ ऐसी चीजों के बारें में बताएंगे जो आपने शायद ही सुनी हो। महान एक्टर डायरेक्टर चार्ली चैपलिन ने अपनी मूक फिल्मों से अमेरिका में पूंजीवाद, फासिज्म और युद्ध के खिलाफ मजबूत संदेश देते थे।




 चार्ली चैपलिन वो हस्ती थे जिसको अमेरिका की टाइम पत्रिका  ने अपने कवर पेज पर जगह दी थी। आज भी जब कभी चार्ली चैपलिन का जिक्र करते हैं तो ऐसे शख्‍स की याद आती है, जिसने पूरी जिंदगी हमें हंसाने में गुजार दी। मगर चार्ली की अहमियत यहीं तक सीमित नहीं। उनकी बातें और जीवन को समझने का नजरिया हमें जिंदगी को आसान बनाने का तरीका सिखा देता है।
चार्ली चैपलिन का पूरा नाम सर चार्ल्स स्पेन्सर चैप्लिन था। चार्ली चैपलिन का जीवन 16 अप्रैल 1889 - 25 दिसम्बर 1977 तक था। चार्ली चैपलिन एक अंग्रेजी हास्य अभिनेता और फिल्म निर्देशक थे।
 चार्ली चैपलिन के पिता एक एक्टर थे और उन्हें शराब की लत थी। उनका बचपन काफी संघर्षों में बीता। उनकी मां को मेंटल अस्पताल में भर्ती कराने के बाद चार्ली और उनके भाई को अपने पिता के साथ रहना पड़ता था। कुछ सालों में चार्ली के पिता की मौत हो गई थी लेकिन उनके व्यवहार के चलते एक संस्था ने चार्ली और उनके भाई को पिता से अलग कराना पड़ा था। परेशानी भरे बचपन के बावजूद वे अमेरिकी सिनेमा में अपनी छाप छोड़ने में कामयाब रहे हालांकि अमेरिका ने 1952 में उन्हें बैन कर दिया था।
 

रहना है हर खबर से अपडेट तो तुरंत डाउनलोड करें प्रभासाक्षी एंड्रॉयड ऐप   


Related Story