• मौत की अफवाहों के बीच 9/11 की बरसी पर जारी हुए वीडियो में दिखाई दिया अलकायदा सरगना

इस वीडियो में आतंकवादी संगठन का सरगना अयमन अल जवाहिरी कहता हुआ सुनाई दे रहा है कि यरुशलम का कभी यहूदीकरण नहीं होगा। वीडियो में उसने जनवरी में रूसी सैनिकों को निशाना बनाकर किए हमले सहित अलकायदा द्वारा किए जा रहे अन्य हमलों की प्रशंसा की है।

बेरूत। अमेरिका पर हुए 9/11 हमले की 20वीं बरसी पर अलकायदा द्वारा जारी वीडियो में आतंकवादी संगठन का सरगना अयमन अल जवाहिरी एक बार फिर सामने आया है। कुछ महीने पहले उसके मारे जाने की अफवाह फैली थी। जेहादी वेबसाइटों पर नजर रखने वाले एसआईटीई खुफिया समूह ने कहा कि ताजा वीडियो शनिवार को जारी किया गया है। इस वीडियो में जवाहिरी कहता हुआ सुनाई दे रहा है कि ‘‘ यरुशलम का कभी यहूदीकरण नहीं होगा।’’ वीडियो में उसने जनवरी में रूसी सैनिकों को निशाना बनाकर किए हमले सहित अलकायदा द्वारा किए जा रहे अन्य हमलों की प्रशंसा की है। 

इसे भी पढ़ें: 9/11 हमलों के 20 साल बाद अलकायदा तो हार गया लेकिन जिहाद 'जिंदा' है 

एसआईटीई ने कहा कि जवाहिरी ने 20 साल की लड़ाई के बाद अफगानिस्तान से अमेरिकी सैनिकों की वापसी को भी रेखांकित किया है। समूह ने कहा कि जरूरी नहीं है कि जवाहिरी की टिप्पणी संकेत दे कि वीडियो को हाल में रिकॉर्ड किया गया है क्योंकि अमेरिकी सैनिकों की वापसी का समझौता तालिबान से फरवरी 2020 में हुआ था। एसआईटीई ने कहा कि अल जवाहिरी ने अफगानिस्तान और राजधानी काबुल पर पिछले महीने तालिबान के कब्जे का उल्लेख नहीं किया है लेकिन उसने एक जनवरी को रूसी सैनिकों को निशाना बनाकर सीरियाई शहर रक्का में किए गए हमले का उल्लेख किया है। उल्लेखनीय है कि पिछले साल के अंत में अफवाह उड़ी थी कि अल जवाहिरी की बीमारी की वजह से मौत हो गई है और उसके बाद कोई वीडियो सामने नहीं आया था। 

इसे भी पढ़ें: जॉर्ज बुश ने घरेलू चरमपंथ के प्रति लोगों को किया आगाह, कही यह अहम बात

एसआईटीई की निदेशक रिटा काट्ज ने कहा कि संभव है कि उसकी मौत हो गयी हो, अगर ऐसा है तो उसकी मौत जनवरी 2021 में या उसके कुछ समय बाद हुई होगी। अल जवाहिरी का भाषण 61 मिनट 37 सेकेंड के वीडियो में रिकार्ड किया गया है और इसका निर्माण आतंकवादी संगठन के सहाब मीडिया फाउंडेशन ने किया है। अल जवाहिरी मूल रूप से मिस्र का रहने वाला है और वर्ष 2011 में पाकिस्तान के एबटाबाद में अमेरिकी कार्रवाई में ओसामा बिन लादेन के मारे जाने के बाद अलकायदा का सरगना बना।