अमेरिका ने हुवावेई, उसकी अनुषंगी कंपनियों को ब्लैकलिस्ट में डाला

By प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क | Publish Date: May 16 2019 2:40PM
अमेरिका ने हुवावेई, उसकी अनुषंगी कंपनियों को ब्लैकलिस्ट में डाला
Image Source: Google

यह कदम चीन की दिग्गज दूरसंचार कंपनी हुवावे को अमेरिकी नेटवर्कों से दूर रखने के उद्देश्य से उठाया गया है। यह फैसला बुधवार को लिया गया। इससे चीन के साथ टकराव और बढ़ने की आशंका है क्योंकि हुवावे को लेकर दोनों देश के बीच पहले से ही विवाद चल रहा है।

वॉशिंगटन। व्यापार मोर्चे पर चीन के साथ गतिरोध के बीच अमेरिका के राष्ट्रपति डॉनल्ड ट्रंप ने अमेरिकी कंपनियों को विदेश में बने दूरसंचार उपकरण लगाने से रोकने संबंधी कार्यकारी आदेश पर हस्ताक्षर किए हैं। ये उपकरण राष्ट्रीय सुरक्षा के लिए खतरा पैदा कर सकते हैं। यह कदम चीन की दिग्गज दूरसंचार कंपनी हुवावे को अमेरिकी नेटवर्कों से दूर रखने के उद्देश्य से उठाया गया है। यह फैसला बुधवार को लिया गया। इससे चीन के साथ टकराव और बढ़ने की आशंका है क्योंकि हुवावे को लेकर दोनों देश के बीच पहले से ही विवाद चल रहा है। अमेरिका का मानना है कि हुवावे से पश्चिमी बुनियादी ढांचा नेटवर्क में जासूसी से जुड़ा खतरा पैदा कर सकता है। 

भाजपा को जिताए

इसे भी पढ़ें: ईरान के राष्ट्रपति हसन रूहानी बोले, हमें ईरान को कोई धमका नहीं सकता

यह आदेश आने वाले दिनों में लागू हो जाएगा। इसके तहत हुवावे को अमेरिकी प्रौद्योगिकी खरीदने के लिए अमेरिकी सरकार से लाइसेंस लेने की जरूरत होगी। अमेरिका के वाणिज्य विभाग के उद्योग एवं सुरक्षा ब्यूरो (बीआईएस) ने घोषणा की है कि वह हुवावे टेक्नॉलजीज कंपनी लिमिटेड और उसकी अनुषंगी कंपनियों को एंटिटी लिस्ट (व्यापार से जुड़ी काली सूची) में शामिल करेगी। उद्योग एवं सुरक्षा ब्यूरो इस सूची में राष्ट्रीय सुरक्षा और विदेश नीति हितों के खिलाफ काम करने वाली विदेशी इकाइयों - जैसे व्यक्ति, कंपनी, कारोबार, शोध संस्थान या सरकारी संगठन - को शामिल करता है। 

इसे भी पढ़ें: रमज़ान में लोग सहिष्णुता तथा शांति की कामना करते हुए होते हैं एकजुट: ट्रंप



वाणिज्य विभाग का आरोप है कि हुवावे की गतिविधियां अमेरिका की राष्ट्रीय सुरक्षा या विदेश नीति हित के खिलाफ है। इस सूची में शामिल कंपनी या व्यक्ति को अमेरिकी प्रौद्योगिकी की बिक्री या स्थानांतरण करने के लिए बीआईएस के लाइसेंस की जरूरत होती है। यदि बिक्री या स्थानांतरण अमेरिकी सुरक्षा या विदेश नीति को नुकसान पहुंचाने वाला हो तो लाइसेंस देने से मना किया जा सकता है। फेडरल रजिस्टर में प्रकाशित होने पर यह कदम प्रभावी होगा। 

इसे भी पढ़ें: व्यापार समझौता नहीं करने से बुरी तरह प्रभावित होगा चीन: ट्रंप

वाणिज्य मंत्री विल्बर रॉस ने कहा कि अमेरिकी राष्ट्रपति के सहयोग से वाणिज्य विभाग के उद्योग एवं सुरक्षा ब्यूरो की यह कार्रवाई हुवावे को एनटिटी सूची में शामिल करेगी। हुवावे दुनिया की सबसे बड़ी दूरसंचार उपकरण निर्माता कंपनी है। रॉस ने कहा कि यह कदम विदेशी स्वामित्व वाली इकाइयों को अमेरिकी प्रौद्योगिकी का उन तरीकों से उपयोग करने से रोकेगा, जो अमेरिकी राष्ट्रीय सुरक्षा या विदेश नीति के हितों को संभावित रूप से कमजोर करते हैं। उन्होंने कहा कि ट्रंप के निर्देश पर यह कदम उठाया गया है।

रहना है हर खबर से अपडेट तो तुरंत डाउनलोड करें प्रभासाक्षी एंड्रॉयड ऐप