बोरिस जॉनसन को अस्पताल से मिली छुट्टी, कहा- कोरोना वायरस को हराएगा ब्रिटेन

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  अप्रैल 12, 2020   21:48
  • Like
बोरिस जॉनसन को अस्पताल से मिली छुट्टी, कहा- कोरोना वायरस को हराएगा ब्रिटेन

कोविड-19 की जद में आए 55 वर्षीय जॉनसन अब ठीक हो चुके हैं। डाउनिंग स्ट्रीट ने उनके संदेश का वीडियो जारी किया। जॉनसन ने कहा हम कोरोना वायरस को हराएंगे और इसे मिलकर हराएंगे।

लंदन। ब्रिटेन के प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन ने अस्पताल से छुट्टी मिलने के बाद कहा कि उनका देश कोरोना वायरस को ‘‘हराएगा।’’

कोविड-19 की जद में आए 55 वर्षीय जॉनसन अब ठीक हो चुके हैं। डाउनिंग स्ट्रीट ने उनके संदेश का वीडियो जारी किया। जॉनसन ने कहा, ‘‘हम कोरोना वायरस को हराएंगे और इसे मिलकर हराएंगे।’’ उन्होंने कहा, ‘‘यद्यपि संघर्ष खत्म नहीं हुआ है, लेकिन हम इस राष्ट्रीय लड़ाई में प्रगति कर रहे हैं।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।




उत्तर-पश्चिमी पाकिस्तान में आतंकवादी हमला, दो सुरक्षा कर्मियों की मौत, एक घायल

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  जनवरी 20, 2021   09:14
  • Like
उत्तर-पश्चिमी पाकिस्तान में आतंकवादी हमला, दो सुरक्षा कर्मियों की मौत, एक घायल

स्थानीय पुलिस ने बताया कि घटना खैबर पख्तूनख्वा प्रांत के टैंक जिले में गोमल थाना क्षेत्र में हुई। उन्होंने बताया कि मृतक सिपाहियों की पहचान खालिद और अयाज के तौर पर हुई है। वहीं सिपाही मोहम्मद रमजान घायल हो गया है।

पेशावर। उत्तर-पश्चिमी पाकिस्तान में मंगलवार देर रात मोटरसाइकिल सवार कुछ आतंकवादियों ने ‘सिक्योरिटी फोर्स रोड प्रोटेक्शन’ दल पर गोलियां चला दी, जिसमें कम से कम दो सुरक्षाकर्मी मारे गए और एक अन्य घायल हो गया। स्थानीय पुलिस ने बताया कि घटना खैबर पख्तूनख्वा प्रांत के टैंक जिले में गोमल थाना क्षेत्र में हुई। 

इसे भी पढ़ें: पैसा नहीं चुकाने पर पाकिस्तान के विमान को मलेशिया ने किया जब्त, यात्रियों को नीचे उतारा 

उन्होंने बताया कि मृतक सिपाहियों की पहचान खालिद और अयाज के तौर पर हुई है। वहीं सिपाही मोहम्मद रमजान घायल हो गया है। पुलिस ने बताया कि सुरक्षा बलों ने घटनास्थल पर पहुंच, पूरे इलाके की घेराबंदी कर ली है और आतंकवादियों की तलाश शुरू कर दी है। अभी तक किसी भी आतंकवादी संगठन ने इस हमले की जिम्मेदारी नहीं ली है।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।




अभूतपूर्व सुरक्षा के बीच जो बाइडेन अमेरिका के 46वें राष्ट्रपति पद की लेंगे शपथ, ट्रंप समारोह में नहीं होंगे शामिल

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  जनवरी 20, 2021   09:04
  • Like
अभूतपूर्व सुरक्षा के बीच जो बाइडेन अमेरिका के 46वें राष्ट्रपति पद की लेंगे शपथ, ट्रंप समारोह में नहीं होंगे शामिल

निवर्तमान राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने कहा है कि वह शपथ ग्रहण में शामिल नहीं होंगे। शपथ ग्रहण कार्यक्रम सुबह करीब 11 बजे शुरू हो जाएगा जिस दौरान गायिका-नृत्यांगना लेडी गागा राष्ट्रगान गाएंगी और अमांडा गोरमैन इस अवसर के लिए लिखी गई एक खास कविता पढ़ेंगी।

वॉशिंगटन। जो बाइडेन बुधवार को अमेरिका के 46वें राष्ट्रपति जबकि कमला हैरिस उपराष्ट्रपति पद की शपथ लेंगी। ट्रम्प समर्थकों द्वारा कैपिटल हिल (संसद भवन परिसर) पर हाल में हुए हमले के बाद ऐतिहासिक शपथ ग्रहण समारोह के मौके पर सुरक्षा की बढ़ती चिंताओं के बीच बुधवार को बाइडेन और हैरिस शपथ ग्रहण करेंगे। मुख्य न्यायाधीश जॉन रॉबर्ट्स 12 बजते ही (स्थानीय समयानुसार) कैपिटल के वेस्ट फ्रंट में बाइडन को पद की शपथ दिलाएंगे। शपथ ग्रहण का यह पारंपरिक स्थान है जहां नेशनल गार्ड्स के 25 हजार से अधिक जवान सुरक्षा में तैनात रहेंगे। 

इसे भी पढ़ें: पहले 5 मार्च को होता था US के राष्ट्रपति का शपथ ग्रहण, फिर 20 जनवरी को क्यों होने लगा इनाॅगरेशन डे? 

निवर्तमान राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप समर्थकों के हिंसक प्रदर्शन को देखते हुए इस स्थान को किले में तब्दील कर दिया गया है। बाइडन (78) अपने परिवार की 127 वर्ष पुरानी बाइबिल के साथ शपथ लेंगे। इस दौरान उनकी पत्नी जिल बाइडेन अपने हाथों में बाइबिल लिए खड़ी रहेंगी। अमेरिका के इतिहास में सबसे अधिक उम्र के राष्ट्रपति बनने जा रहे बाइडेन शपथ ग्रहण के तुरंत बाद राष्ट्रपति के तौर पर देश के नाम अपना पहला संबोधन देंगे। ऐतिहासिक भाषण भारतीय मूल के अमेरिकी नागरिक विनय रेड्डी तैयार कर रहे हैं, जो एकता और सौहार्द पर आधारित होगा। हैरिस (56) पहली महिला, पहली अश्वेत और पहली दक्षिण एशियाई अमेरिकी उपराष्ट्रपति बनकर इतिहास रचेंगी। उन्हें सुप्रीम कोर्ट की पहली लैटिन सदस्य न्यायमूर्ति सोनिया सोटोमेयर पद की शपथ दिलाएंगी। 

इसे भी पढ़ें: जो बाइडेन के शपथ समारोह में हो सकता है हमला, FBI रख रही पैनी नजर 

सोटोमेयर ने बाइडेन को 2013 में उपराष्ट्रपति पद की शपथ दिलाई थी। वह दो बाइबिल को लेकर शपथ लेंगी जिसमें एक निकट पारिवारिक मित्र रेगिना शेल्टन की होगी और दूसरी देश के पहले अफ्रीका मूल के अमेरिकी सुप्रीट कोर्ट के न्यायाधीश थुरगूड मार्शल की होगी। इस वर्ष सत्ता हस्तांतरण अपने विवादों को लेकर याद किया जाएगा। चुनावों के बाद सामान्य तौर पर यह प्रक्रिया शुरू हो जाती थी लेकिन निवर्तमान राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप द्वारा तीन नवंबर के चुनाव परिणाम को अस्वीकार करने के बाद यह कई हफ्ते बाद शुरू हुआ है। ट्रंप ने कहा है कि वह शपथ ग्रहण में शामिल नहीं होंगे। शपथ ग्रहण कार्यक्रम सुबह करीब 11 बजे शुरू हो जाएगा जिस दौरान गायिका-नृत्यांगना लेडी गागा राष्ट्रगान गाएंगी और अमांडा गोरमैन इस अवसर के लिए लिखी गई एक खास कविता पढ़ेंगी। अभिनेत्री-गायिका जेनिफर लॉपेज भी इस दौरान प्रस्तुति देंगी।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।




पहले 5 मार्च को होता था US के राष्ट्रपति का शपथ ग्रहण, फिर 20 जनवरी को क्यों होने लगा इनाॅगरेशन डे?

  •  अभिनय आकाश
  •  जनवरी 19, 2021   19:59
  • Like
पहले 5 मार्च को होता था US के राष्ट्रपति का शपथ ग्रहण, फिर 20 जनवरी को क्यों होने लगा इनाॅगरेशन डे?

अमेरिकी संविधान के मुताबिक राष्ट्रपति और उपराष्ट्रपति के कार्यकाल की समयसीमा निर्धारित की गई है। ये समयसीमा 20 जनवरी को खत्म होती है। अमेरिकी संविधान के 20वें संशोधन के तहत इस तारीख का जिक्र किया गया है। इससे पहले शपथ ग्रहण पांच मार्च को होता था।

अमेरिका में नए राष्ट्रपति आधिकारिक रूप से 20 जनवरी को शपथ ग्रहण करते हैं। यह शपथ ग्रहण समारोह वॉशिंग्टन डीसी की कैपिटल बिल्डिंग की सीढ़ियों पर होता है। कल यानी 20 जनवरी को जो बाइडेन अमेरिका के राष्ट्रपति पद की शपथ लेंगे साथ ही कमला हैरिस भी उपराष्ट्रपति पद की शपथ लेंगी। 

इसे भी पढ़ें: कैपिटल हिल हिंसा: पांच बार के ओलंपिक पदक विजेता पर मामला दर्ज, बढ़ी मुश्किलें

क्यों 20 जनवरी को ही होता है शपथ

अमेरिकी संविधान के मुताबिक राष्ट्रपति और उपराष्ट्रपति के कार्यकाल की समयसीमा निर्धारित की गई है। ये समयसीमा 20 जनवरी को खत्म होती है। अमेरिकी संविधान के 20वें संशोधन के तहत इस तारीख का जिक्र किया गया है। इससे पहले शपथ ग्रहण पांच मार्च को होता था। जिसे बाद में 20 जनवरी को शपथ लेने की रवायत चल पड़ी। पहली बार 1937 में अमेरिका के राष्ट्रपति फ्रैंकलिन डी रूजवेल्ट ने दूसरी बार इस पद पर काबिज होने पर इस तारीख को शपथ ली थी। नियम के अनुसार अमेरिका में राष्ट्रपति पद का चुनाव नवंबर के पहले मंगलवार को होना तय है वहीं 20 जनवरी को नवनिर्वाचित राष्ट्रपति को शपथ दिलवाई जाती है। 

पहले 5 मार्च को होता था शपथ ग्रहण 

1937 से पहले अमेरिका में 5 मार्च को शपथ ग्रहण होता था। जार्ज वाॅशिंगटन ने फेडरल हाॅल की बाॅलकनी में 30 अप्रैल 1789 को शपथ लीथी। दूसरी बार राष्ट्रपति बनने पर उन्होंने 4 मार्च 1793 को शपथ लिया था। जेम्स मोनरो ने राष्ट्रपति बनने पर सुप्रीम कोर्ट के जजों से विचार करने के बाद 5 मार्च 1821 को अपना शपथ ग्रहण का कार्यक्रम रखा। इसके बाद अमेरिकी संविधान में 20वां संशोधन हुआ और राष्ट्रपति के शपथ लेने की तारीख 20 जनवरी हो गई। 







This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept