ब्राजील के राष्ट्रपति ने दंगे के बाद तैनात सैनिकों को वापस बुलाया

ब्राजील के राष्ट्रपति माइकल टेमर ने उनके इस्तीफे की मांग को लेकर प्रदर्शनकारियों के दंगों के कारण सरकारी इमारतों की सुरक्षा में तैनात किए गए सैनिकों को वापस बुला लिया है।

ब्रासीलिया। ब्राजील के राष्ट्रपति माइकल टेमर ने उनके इस्तीफे की मांग को लेकर प्रदर्शनकारियों के दंगों के कारण सरकारी इमारतों की सुरक्षा में तैनात किए गए सैनिकों को वापस बुला लिया है। आलोचकों का मानना है कि सैनिकों की तैनाती राष्ट्रपति के भ्रष्टाचार में संलिप्तता की जांच के दायरे में आने के बाद अपने राजनीतिक करियर को बचाए रखने के लिए निराशा में उठाया गया कदम है। आधिकारिक जरनल में आनलाइन प्रकाशित एक डिक्री के अनुसार राष्ट्रपति ने 1500 संघीय सैनिकों की तैनाती के कदम को वापस ले लिया है–– यह देश का एक संवेदनशील मुद्दा है।

आदेश के बाद सैनिकों ने कुछ ही देर में ब्रासीलिया की सरकारी इमारतों से हटना शुरू कर दिया। बुधवार को हुए दंगों के निशान सरकारी इमारतों में दिखाई दे रहे थे। प्रदर्शनकारी मंत्रालयों में घुस गए और दंगा पुलिस से भिड़ गए। रक्षा मंत्री राउल जुगमन ने तैनाती को जायज ठहराते हुए गुरुवार को कहा कि दंगे में ‘‘निर्दयता को रोकने के लिए’’ यह जरूरी है। लेकिन 1964 से 1985 तक देश के सैन्य शासन में रहने के कारण सैनिकों की तैनाती का मुद्दा संवेदनशील है।

उप राष्ट्रपति रहे टेमर पूर्व राष्ट्रपति डिल्मा रूसेफ के भ्रष्टाचार में लिप्त होने के आरोपों के बाद इस पद पर आए थे। गौरतलब है कि बुधवार को तब हिंसा भड़क गई जब प्रदर्शनकारियों की भीड़ राष्ट्रपति पैलेस की ओर आगे बढ़ी। आमतौर प्रदर्शनकारी शांत थे पर इनके एक छोटे गुट ने पुलिस पर पथराव किया और मंत्रालय में घुस गए। इसके बाद पुलिस ने आंसू गैस के गोले छोड़े और भीड़ पर ग्रेनेड फेंके। टेमर के जांच के दायरे में आने के बाद देश में उनके इस्तीफे की मांग तेज हो गई है।

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


अन्य न्यूज़