ब्रिटेन ने खतरे की चुनौती को अत्यंत गंभीर स्तर तक बढ़ाया

ब्रिटेन की प्रधानमंत्री टेरीज मे ने ब्रिटेन में आतंकवाद की चुनौती को गंभीर स्तर तक बढ़ा दिया है, जिसका मतलब है कि किसी और हमले की आशंका हो सकती है।

लंदन। ब्रिटेन की प्रधानमंत्री टेरीज मे ने ब्रिटेन में आतंकवाद की चुनौती को गंभीर स्तर तक बढ़ा दिया है, जिसका मतलब है कि किसी और हमले की आशंका हो सकती है। भयानक हमले के बाद प्रमुख स्थलों पर सेना तैनात कर दी गई है। इस हमले में कम से कम 22 लोगों की मौत हो गई और 59 घायल हो गए। प्रधानमंत्री टेरीजा ने कहा कि सोमवार को मैनचेस्टर में हुए आत्मघाती हमले के बारे में सुरक्षा बल इस बात से इंकार करने में अक्षम थे कि इस आत्मघाती हमले को सलमान अबिदी ने अकेले अंजाम दिया था या किसी और के साथ मिलकर। इस कदम का मतलब है कि देश के प्रमुख स्थलों को सुरक्षित रखने के लिए सेना की तैनाती की जाएगी।

मे ने कहा, ‘‘यह आशंका है, जिसे हम नजरअंदाज नहीं कर सकते हैं। इस हमले में कुछ लोगों का बड़ा समूह संबंधित है।’’ उन्होंने कहा कि खतरे की चुनौती को गंभीर स्तर तक बढ़ा दिया गया है। इसका मतलब है कि अगला हमला होने की आशंका है। मंगलवार रात राष्ट्र को अपने संबोधन में उन्होंने कहा, ‘‘खतरे के स्तर में बदलाव का मतलब है कि पुलिस को अतिरिक्त संसाधन और सहायता मुहैया कराई जाएगी क्योंकि वह हमारी सुरक्षा के लिए काम करते हैं।’’ पिछले 10 साल में ऐसा पहली बार हुआ है जब एक आतंकी हमले की चुनौती का स्तर सबसे उच्चतम स्तर तक पहुंच गया है। इस कदम के तहत ब्रिटेन की सड़कों पर 5,000 सैनिक तक तनात किए जाएंगे।

इस्लामिक आतंकी समूह ने हमले की जिम्मेदारी ली है तथा और अधिक हमले करने की धमकी भी दी है। खुफिया एजेंसी का मानना है कि पॉप सिंगर एरियाना ग्रांडे के कॉन्सर्ट में जिस डिवाइस में विस्फोट किया गया, वह इतना परिष्कृत है कि अबिदी को इसके लिए या तो विदेश में विशेषज्ञ प्रशिक्षण दिया गया था या फिर इस बम को एक तकनीशियन द्वारा बनाया गया था, जिसे अभी तक गिरफ्तार नहीं किया गया है। मे ने कहा वह नहीं चाहती थीं कि जनता ‘अनुचित रूप से चिंतित’ हों लेकिन उनका कहना है कि खतरे के स्तर को बढ़ाना समझदारी भरा कदम है।

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


अन्य न्यूज़