ब्रिटेन ने हांगकांग के साथ अपनी प्रत्यर्पण की व्यवस्था को निलंबित कर दिया

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  जुलाई 21, 2020   09:03
ब्रिटेन ने हांगकांग के साथ अपनी प्रत्यर्पण की व्यवस्था को निलंबित कर दिया

ब्रिटिश विदेश मंत्री डोमिनिक राब ने कहा कि उन्हें नये कानून तथा चीन में खासकर उइगर अल्संख्यकों के साथ बर्ताव में कथित मानवाधिकार उल्लंघन को लेकर चिंता है, ऐसे में चीन पर लगी हथियार पाबंदी का हांगकांग तक विस्तार किया जाएगा।

लंदन। चीन द्वारा हांगकांग पर नया राष्ट्रीय सुरक्षा कानून लगाये जाने के बाद ब्रिटेन ने सोमवार को उसके (हांगकांग के) साथ अपनी प्रत्यर्पण की व्यवस्था को निलंबित कर दिया। चीन के साथ तनाव बढ़ने के बीच ब्रिटिश विदेश मंत्री डोमिनिक राब ने कहा कि उन्हें नये कानून तथा चीन में खासकर उइगर अल्संख्यकों के साथ बर्ताव में कथित मानवाधिकार उल्लंघन को लेकर चिंता है, ऐसे में चीन पर लगी हथियार पाबंदी का हांगकांग तक विस्तार किया जाएगा। राब ने कहा, ‘‘ हम अपने अहम हितों की रक्षा करेंगे। हम अपने मूल्यों के लिए खड़े होंगे तथा हम चीन को उसके अंतरराष्ट्रीय दायित्यों के लिए जिम्मेदार ठहरायेंगे।’’

इसे भी पढ़ें: चीन से आयातीत यार्न के कम लागत पर आयात की जांच शुरू, घरेलू उद्योग हो रहा प्रभावित

राब ने हांगकांग के साथ प्रत्यर्पण संधियां निलंबित करने वाले अमेरिका, आस्ट्रेलिया और कनाडा का अनुसरण किया है। यह समीक्षा ऐसे समय की गयी है जब महज एक दिन पहले ही ब्रिटेन ने चीनी दूरसंचार कंपनी हुवावे को यहां नयी उच्च गति वाले मोबाइल फोन नेटवर्क में भूमिका देने की योजना से हाथ पीछे खींच लिया। उसने चीन और पश्चिमी ताकतों के बीच बढ़ते तनाव से उत्पन्न सुरक्षा चिंताओं के मध्य यह कदम उठाया है। बोरिस जॉनसन सरकार हांगकांग में नया राष्ट्रीय सुरक्षा कानून लगाने के चीन के निर्णय की पहले ही आलोचना कर चुकी है। ब्रिटेन ने चीन सरकार पर चीन-ब्रिटिश संयुक्त घोषणापत्र का गंभीर उल्लंघन करने का आरोप लगाया है जिसके तहत ब्रिटेन ने 1997 में चीन को हांगकांग का नियंत्रण सौंपा था और घोषणा की थी कि वह समुदाय के 30 लाख तक पात्र बाशिंदों के लिए नागरिकता का विशेष मार्ग खोलेगा। चीन ने ब्रिटेन के कदम पर ऐतराज किया है। ब्रिटेन में चीन के राजदूत लिउ शियोमिंग ने बीबीसी के एंड्रयू मार्र से कहा कि ब्रिटेन, अमेरिका की धुन पर ‘नाच’ रहा है।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।