ब्रिटिश स्पीकर ने प्रधानमंत्री टेरेसा के ‘ब्रेक्जिट’ समझौते पर तीसरी बार मतदान से इंकार किया

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  मार्च 19, 2019   15:34
ब्रिटिश स्पीकर ने प्रधानमंत्री टेरेसा के ‘ब्रेक्जिट’ समझौते पर तीसरी बार मतदान से इंकार किया

ब्रिटेन को 29 मार्च को ईयू से बाहर होना है। ब्रिटेन सरकार ईयू से ब्रेक्जिट को थोड़ा टालने के लिए कह सकती है लेकिन उसके लिए सभी 27 ईयू नेताओं को अपनी अनुमति देनी होगी।

लंदन। ‘ब्रेक्जिट’ को लेकर संकट में फंसी ब्रिटेन की प्रधानमंत्री टेरेसा मे को ताजा झटका उस समय लगा जब ‘हाउस ऑफ कॉमन्स’ के स्पीकर जॉन बर्को ने आश्चर्यजनक घटनाक्रम के तहत यूरोपीय संघ (ईयू) से अलग होने के उनके समझौते पर तीसरी बार मतदान कराने की अनुमति नहीं दी। ब्रिटिश सांसद इससे पहले दो बार इस समझौते को खारिज कर चुके हैं। स्पीकर बर्को द्वारा प्रधानमंत्री टेरेसा की योजना खारिज करने के बाद अब प्रधानमंत्री अपनी कैबिनेट की बैठक बुलाएंगी जिसमें ईयू से अलग होने को लेकर अगले कदम पर विचार किया जाएगा। दरअसल, टेरेसा ब्रेक्जिट समझौते पर तीसरी बार मतदान कराने की तैयारी में थीं।

इसे भी पढ़ें: यूरोपीय संघ ने बिना समझौते के ब्रेक्जिट की चेतावनी दी

बर्को ने सोमवार को फैसला सुनाया कि अगर सरकारी प्रस्ताव ‘‘लगभग समान’’ रहता है तो उस पर एक बार और मतदान की अनुमति नहीं दी जाएगी। इस प्रस्ताव को जनवरी और पिछले सप्ताह क्रमश: 230 और फिर 149 वोटों के अंतर से गिराया जा चुका है। उन्होंने कहा कि वर्ष 1604 की संसदीय परंपरा के अनुसार, सांसदों से समान विषय पर दो बार बार मतदान के लिए नहीं कहा जा सकता। उन्होंने संकेत दिये कि उन्होंने दूसरी बार मतदान की अनुमति इसलिए दी थी क्योंकि सरकार ने दावा किया था कि विवादित आयरिश संबंधी उपबंध में कुछ बदलाव किया गया है। इस उपबंध में 29 मार्च को 28 सदस्यीय यूरोपीय संघ से ब्रिटेन के बाहर होने के लिए बेहतर समझौते का प्रस्ताव था।

इसे भी पढ़ें: ब्रेक्जिट सौदे को लेकर मतदान 12 मार्च तक होगा: टेरेसा मे

दरअसल, ब्रिटेन को 29 मार्च को ईयू से बाहर होना है। ब्रिटेन सरकार ईयू से ब्रेक्जिट को थोड़ा टालने के लिए कह सकती है लेकिन उसके लिए सभी 27 ईयू नेताओं को अपनी अनुमति देनी होगी। प्रधानमंत्री टेरेसा बृहस्पतिवार को यूरोपीय परिषद के शिखर सम्मेलन में भाग लेने के लिए ब्रसेल्स रवाना होंगी जहां ईयू नेता ब्रेक्जिट की समयसीमा 29 मार्च को आगे बढ़ाने के विषय पर सहमत होने पर विचार करेंगे।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।



Prabhasakshi logoखबरें और भी हैं...

अंतर्राष्ट्रीय

झरोखे से...