100 साल से भी पहले भारत से चुरायी गयी अन्नापूर्णा की अनोखी मूर्ति लौटाएगा यह देश

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  नवंबर 21, 2020   18:03
  • Like
100 साल से भी पहले भारत से चुरायी गयी अन्नापूर्णा की अनोखी मूर्ति लौटाएगा यह देश
Image Source: Google

कनाडा 100 साल से भी पहले भारत से चुरायी गयी अन्नापूर्णा की अनोखी मूर्ति लौटाएगा।यह मूर्ति नोर्मान मैकेंजी के 1936 के मूल वसीयत का हिस्सा है। विश्वविद्यालय ने बृहस्पतिवार को एक बयान में बताया कि कलाकार दिव्या मेहरा ने इस तथ्य को ओर ध्यान आकृष्ट किया कि इस मूर्ति को एक सदी से भी पहले गलत तरीके से लाया गया।

टोरंटो। कनाडा का एक विश्वविद्यालय ‘ऐतिहासिक गलतियों को सही करने’ और ‘उपनिवेशवाद की अप्रिय विरासत’ से उबरने की कोशिश के तहत हिंदू देवी अन्नपूर्णा की अनोखी मूर्ति भारत को लौटाएगा, जिसे एक सदी से अधिक समय पहले भारत से चुराकर लाया गया था। यह मूर्ति मैकेंजी आर्ट गैलरी में रेजिना विश्वविद्यालय के संग्रह का हिस्सा है। यह मूर्ति नोर्मान मैकेंजी के 1936 के मूल वसीयत का हिस्सा है। विश्वविद्यालय ने बृहस्पतिवार को एक बयान में बताया कि कलाकार दिव्या मेहरा ने इस तथ्य को ओर ध्यान आकृष्ट किया कि इस मूर्ति को एक सदी से भी पहले गलत तरीके से लाया गया। जब वह मैकेंजी के स्थायी संग्रह को खंगाल रही थीं और अपनी प्रदर्शनी की तैयारी कर रही थीं तब उनका ध्यान इस ओर गया। बयान के अनुसार, 19 नवंबर को इस मूर्ति का डिजिटल तरीके से लौटाने का कार्यक्रम हुआ और अब उसे शीघ्र ही वापस भेजा जाएगा।

इसे भी पढ़ें: ट्रंप के सबसे बड़े बेटे डोनाल्ड ट्रंप जूनियर कोरोना वायरस से संक्रमित, खुद को किया क्वारंटाइन

विश्वविद्यालय के अंतरिम अध्यक्ष और कुलपति डॉ थॉमस चेज ने इस मूर्ति को आधिकारिक रूप से भारत भेजने के लिए कनाडा में भारतीय उच्चायुक्त अजय बिसारिया से डिजिटल तरीके से मुलाकात की। बिसारिया ने कहा, ‘‘हम खुश हैं कि अन्नपूर्णा की यह अनोखी मूर्ति अपनी गृह वापसी की राह पर है। मैं भारत को इस सांस्कृतिक विरासत को लौटाने को लेकर सक्रिय कदम उठाने को लेकर रेजिना विश्वविद्यालय के प्रति आभारी हूं।’’ विश्वविद्यालय ने कहा कि अपनी गहन छानबीन के आधार पर मेहरा इस निष्कर्ष पर पहुंचीं कि 1913 में अपनी भारत यात्रा के दौरान मैकेंजी की नजर इस प्रतिमा पर पड़ी और जब एक अजनबी को मैकेंजी की इस मूर्ति को पाने की इच्छा का पता चला तो उसने वाराणसी में गंगा के घाट पर उसके मूल स्थान से उसे चुरा लिया।







दक्षिण फ्लोरिडा के नवनिर्वाचित सांसद कार्लोस गिमेनेज कोरोना वायरस से संक्रमित

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  नवंबर 28, 2020   18:36
  • Like
दक्षिण फ्लोरिडा के नवनिर्वाचित सांसद कार्लोस गिमेनेज कोरोना वायरस से संक्रमित
Image Source: Google

दक्षिण फ्लोरिडा के नवनिर्वाचित सांसद कार्लोस गिमेनेज कोरोना वायरस से संक्रमित हो गये हैं। उनके चुनाव अभियान दल ने शुक्रवार को यह जानकादी दी।

मियामी। दक्षिण फ्लोरिडा के नवनिर्वाचित सांसद कार्लोस गिमेनेज कोरोना वायरस से संक्रमित हो गये हैं। उनके चुनाव अभियान दल ने शुक्रवार को यह जानकादी दी। बयान के अनुसार मियामी डाडे काउंटी के पूर्व महापौर और उनकी पत्नी लूर्डेस बृहस्पतिवार को जांच के दौरान संक्रमित पाये गये।

इसे भी पढ़ें: शुभेंदु अधिकारी के संपर्क में बीजेपी, पार्टी में शामिल होने पर अभी कोई निर्णय नहीं  

दोनों को इस बीमारी के हल्के लक्षण थे। अभियान दल के अनुसार दोनों ने चिकित्सकों के परामर्श के मुताबिक खुद को घर में पृथक कर लिया है। गिमेनेज 2011 से इस माह तक मियामी डाडे के महापौर थे। वह तीन नवंबर के हुए आम चुनाव में अमेरिकी कांग्रेस के लिए निर्वाचित हुए हैं।







दक्षिण कोरिया में लगातार तीसरे दिन संक्रमण के 500 से अधिक मामले

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  नवंबर 28, 2020   18:30
  • Like
दक्षिण कोरिया में लगातार तीसरे दिन संक्रमण के 500 से अधिक मामले
Image Source: Google

दक्षिण कोरिया में लगातार तीसरे दिन कोरोना वायरस संक्रमण के 500 से ज्यादा मामले सामने आए हैं। कोरिया डिजीज कंट्रोल ऐंड प्रिवेंशन के अनुसार शनिवार को 504 मामले सामने आए जिससे देश में संक्रमण के मामले बढ़कर 33,375 हो गए।

सियोल। दक्षिण कोरिया में लगातार तीसरे दिन कोरोना वायरस संक्रमण के 500 से ज्यादा मामले सामने आए हैं। कोरिया डिजीज कंट्रोल ऐंड प्रिवेंशन के अनुसार शनिवार को 504 मामले सामने आए जिससे देश में संक्रमण के मामले बढ़कर 33,375 हो गए। संक्रमण से 522 लोगों की मौत हो चुकी है।

इसे भी पढ़ें: शुभेंदु अधिकारी के संपर्क में बीजेपी, पार्टी में शामिल होने पर अभी कोई निर्णय नहीं  

संक्रमण के नए मामलों में से 330 मामले घनी आबादी वाले सियोल मेट्रोपॉलिटन क्षेत्र से सामने आए है। इस इलाके में देश की आधी आबादी रहती है। इसके अलावा संक्रमण के मामले दाएगू सहित अन्य प्रमुख शहरों से भी सामने आए हैं।

इसे भी पढ़ें: दिल्ली में स्वास्थ्य सेवाओं की स्थिति को लेकर कांग्रेस ने AAP सरकार पर साधा निशाना  

गौरतलब है कि देश की गिरती अर्थव्यवस्था को संभालने के लिए सरकार ने आर्थिक गतिविधियों को शुरू करने की मंजूरी दी और सामाजिक दूरी के नियम में अक्टूबर माह में काफी ढील दी, जिसके बाद देश में संक्रमण के मामले बढ़े हैं।







NSA अजित डोभाल ने मालदीव की रक्षामंत्री मारिया दीदी के साथ की द्विपक्षीय वार्ता

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  नवंबर 28, 2020   12:14
  • Like
NSA अजित डोभाल ने मालदीव की रक्षामंत्री मारिया दीदी के साथ की द्विपक्षीय वार्ता
Image Source: Google

मालदीव में भारतीय उच्चायोग ने अपने आधिकारिक ट्विटर हैंडल से ट्वीट किया, ‘‘एनएसए अजित डोभाल और मालदीव की रक्षामंत्री मारिया दीदी ने रक्षा क्षेत्र में भारत और मालदीव के बीच द्विपक्षीय साझेदारी को गहरा करने के लिए सौहार्द्रपूर्ण और विस्तृत चर्चा की।’’

कोलंबो। राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार (एनएसए) अजित डोभाल ने हिंद महासागर के अहम द्विपक्षीय देश मालदीव की रक्षामंत्री मारिया दीदी के साथ द्विपक्षीय साझेदारी पर सौहार्द्रपूर्ण और विस्तृत चर्चा की। डोभाल ने कोलंबो में भारत, श्रीलंका और मालदीव के साथ हुई त्रिपक्षीय वार्ता के तहत दीदी से बातचीत की। उल्लेखनीय है कि भारत और मालदीव के साथ समुद्री सुरक्षा सहयोग पर श्रीलंका राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार स्तर की चौथी वार्ता की मेजबानी कर रहा है। वर्ष 2014 में नयी दिल्ली में हुई बैठक के छह साल बाद तीनों देशों के बीच एनएसए स्तर की वार्ता हो रही है। मालदीव में भारतीय उच्चायोग ने अपने आधिकारिक ट्विटर हैंडल से ट्वीट किया, ‘‘एनएसए अजित डोभाल और मालदीव की रक्षामंत्री मारिया दीदी ने रक्षा क्षेत्र में भारत और मालदीव के बीच द्विपक्षीय साझेदारी को गहरा करने के लिए सौहार्द्रपूर्ण और विस्तृत चर्चा की।’’ 

इसे भी पढ़ें: कोलंबो पहुंचे एनएसए अजील डोभाल, भारत-श्रीलंका-मालदीव के बीच होगी त्रिपक्षीय वार्ता 

उल्लेखनीय है कि त्रिपक्षीय वार्ता के लिए डोभाल शुक्रवार को कोलंबो पहुंचे थे। इस उच्चस्तरीय बैठक के एजेंडे में समुद्री दस्यु पर लगाम लगाना, सूचना साझा करने, मादक पदार्थों की तस्करी पर अंकुश लगाना, कानूनी व्यवस्था सहित समुद्री सुरक्षा के विभिन्न पहलु शामिल है। यह बैठक हिंद-प्रशांत क्षेत्र में प्रभाव बढ़ाने की चीन की कोशिश की बीच हो रही है। चीन हिंद महासगार में अपनी महत्वाकांक्षी समुद्री रेशम मार्ग योजना में मालदीव को अहम मानता है जबकि श्रीलंका के हम्बनटोटा बंदरगाह और अफ्रीका के जिबूती बंदरगाह का पहले ही अधिग्रहण कर चुका है।