चीन ने शीतकालीन ओलंपिक के अमेरिकी बहिष्कार का विरोध किया, जवाबी कदम की चेतावनी दी

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  दिसंबर 8, 2021   10:22
चीन ने शीतकालीन ओलंपिक के अमेरिकी बहिष्कार का विरोध किया, जवाबी कदम की चेतावनी दी

व्हाइट हाउस द्वारा बीजिंग शीतकालीन ओलंपिक 2022 के ‘‘राजनयिक बहिष्कार’’ की घोषणा किए जाने के बाद चीन ने मंगलवार को कड़ा विरोध दर्ज कराया और कहा कि यह ओलंपिक भावना के विपरीत है। इसने अमेरिका को ‘‘ठोस जवाबी कदम’’ की भी चेतावनी दी।

बीजिंग। व्हाइट हाउस द्वारा बीजिंग शीतकालीन ओलंपिक 2022 के ‘‘राजनयिक बहिष्कार’’ की घोषणा किए जाने के बाद चीन ने मंगलवार को कड़ा विरोध दर्ज कराया और कहा कि यह ओलंपिक भावना के विपरीत है। इसने अमेरिका को ‘‘ठोस जवाबी कदम’’ की भी चेतावनी दी। व्हाइट हाउस की प्रेस सचिव जेन साकी ने सोमवार को चीन के शिनजियांग प्रांत में अल्पसंख्यक समूहों के खिलाफ कथित मानवाधिकार उल्लंघन का हवाला देते हुए घोषणा की कि अमेरिका बीजिंग में आयोजित होने जा रहे शीतकालीन ओलंपिक का राजनयिक बहिष्कार करेगा। यह एक ऐसा कदम है जो दोनों देशों के बीच पहले से ही चली आ रही तल्खी को और बढ़ाने का काम करेगा।

इसे भी पढ़ें: श्रीलंकाई नागरिक की लिंचिंग पर बोले इमरान खान, धर्म के नाम पर हिंसा बर्दाश्त नहीं

चीनी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता झाओ लिजियन ने अमेरिकी घोषणा की निंदा करते हुए कहा कि शिनजियांग में उइगर मुसलमानों के खिलाफ नरसंहार का आरोप वाशिंगटन द्वारा गढ़ा गया सदी का झूठ है। उन्होंने कहा कि वैचारिक पूर्वाग्रह, झूठ और अफवाहों के आधार पर अमेरिका बीजिंग शीतकालीन ओलंपिक को बाधित करने का प्रयास कर रहा है। उन्होंने कहा कि यह उसके दुर्भावनापूर्ण इरादों को और उजागर करेगा तथा उसकी विश्वसनीयता को नुकसान पहुंचाएगा।

इसे भी पढ़ें: कांग्रेस संसदीय दल की बैठक में बोलीं सोनिया गांधी, मोदी सरकार किसानों के प्रति है असंवेदनशील

झाओ ने कहा कि अमेरिकी बहिष्कार ओलंपिक चार्टर सिद्धांत के विपरीत है और चीन ठोस जवाबी कदम उठाएगा। उन्होंने चार फरवरी से 20 फरवरी तक बीजिंग और पड़ोसी हेबेई प्रांत के नगरों में होने वाले शीतकालीन ओलंपिक के लिए निमंत्रण भेजे जाने से पहले ही राजनयिक बहिष्कार का फैसला किए जाने पर अमेरिका की निंदा की।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।



Prabhasakshi logoखबरें और भी हैं...

अंतर्राष्ट्रीय

झरोखे से...