चीनी हाइपरसोनिक मिसाइल ने लगाया पूरी दुनिया का चक्कर, किसी भी देश के पास नहीं है इसका तोड़

चीनी हाइपरसोनिक मिसाइल ने लगाया पूरी दुनिया का चक्कर, किसी भी देश के पास नहीं है इसका तोड़

लगातार अपनी परमाणु ताकतों में इजाफा करने वाले चीन ने जुलाई में हाइपरसोनिक मिसाइल का टेस्ट किया था। प्राप्त जानकारी के मुताबिक हाइपरसोनिक मिसाइल ने पहले धरती का चक्कर लगाया था फिर अपने लक्ष्य की तरह हाइपरसोनिक स्पीड से आगे बढ़ी थी।

बीजिंग। चीन किसी दिन अमेरिका पर अचानक परमाणु हमला कर सकता है। अमेरिकी सेना के दूसरे सबसे बड़े अधिकारी ने यह चेतीवनी दी है। आपको बता दें कि चीन ने हाइपरसोनिक मिसाइल टेस्ट किया था। जिसको लेकर एक बड़ा खुलासा हुआ है। अमेरिकी अधिकारी ने बताया कि चीनी मिसाइल पूरी दुनिया का चक्कर लगाने के बाद वापस अपने देश लौट गई थी। यह अमेरिका के लिए चिंता का विषय है। 

इसे भी पढ़ें: गैर-जिम्मेदार मिसाइल परीक्षण के लिए रूस को अमेरिका ने लिया आड़े हांथ 

किसी और के पास नहीं है यह मिसाइल !

लगातार अपनी परमाणु ताकतों में इजाफा करने वाले चीन ने जुलाई में हाइपरसोनिक मिसाइल का टेस्ट किया था। प्राप्त जानकारी के मुताबिक हाइपरसोनिक मिसाइल ने पहले धरती का चक्कर लगाया था फिर अपने लक्ष्य की तरह हाइपरसोनिक स्पीड से आगे बढ़ी थी। मौजूदा समय में चीन की तरह अंतरिक्ष से मिसाइल दागने की क्षमता किसी और मुल्क के पास नहीं है।

अमेरिका की तरफ से जुलाई में पहली बार चीनी मिसाइल को लेकर बयान सामने आया था। अमेरिकी सेना के ज्वाइंट चीफ ऑफ स्टाफ के वाइस चेयरमैन जनरल जॉन हायटेन कहा था कि चीन ने लंबी दूरी वाली मिसाइल का परीक्षण किया।

वहीं चीन ने हाइपरसोनिक मिसाइल के परीक्षण से साफ इनकार किया है। उन्होंने कहा कि हम फिर से इस्तेमाल किए जाने वाले अंतरिक्ष यान का टेस्ट कर रहे थे। 

इसे भी पढ़ें: युद्धाभ्यास के दौरान मिसाइल मिसफायर होने की संभावना, 12 चीनी सैनिकों की हुई मौत: सूत्र 

रूस के पास है मिसाइल को रोकने की क्षमता

चीन की हाइपरसोनिक मिसाइल को महज रूस की रोक सकता है। आपको बता दें कि रूस का एस-500 डिफेंस सिस्टम अपने आप में किसी वज्र को रोकने की ताकत रखता है। ऐसे में वो चीन की हाइपरसोनिक मिसाइल को भी रोक सकता है लेकिन इसके अलावा किसी के पास भी इसे रोकने की क्षमता नहीं है।

मीडिया रिपोर्टस के मुताबिक जॉन हायटेन ने कहा था कि पिछले पांच सालों में चीन ने सैकड़ों हाइपरसोनिक मिसाइल का टेस्ट किया है। जबकि अमेरिका ने महज 9 का ही किया है।






Prabhasakshi logoखबरें और भी हैं...

अंतर्राष्ट्रीय

झरोखे से...