कांग्रेस के नेता मनीष तिवारी ने अमेरिका के राष्ट्रपति जो बाइडेन को लिखा पत्र, उठाया यह बड़ा मुद्दा

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  अप्रैल 22, 2021   14:57
कांग्रेस के नेता मनीष तिवारी ने अमेरिका के राष्ट्रपति जो बाइडेन को लिखा पत्र, उठाया यह बड़ा मुद्दा

कांग्रेस नेता ने जो बाइडेन से अमेरिका में सिखों के खिलाफ बढ़ते घृणा अपराधों के खिलाफ कार्रवाई की अपील की है।यह पत्र व्हाइट हाउस को बुधवार को प्राप्त हुआ। कांग्रेस नेता ने इंडियानापोलिस के ‘‘भयावह और नृशंस” त्रासदी के पीड़ित परिवारों के प्रति “गहरी संवेदनाएं” व्यक्त की हैं।

वाशिंगटन। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता मनीष तिवारी ने अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन को पत्र लिखकर अमेरिका में सिखों के खिलाफ बढ़ते नस्ली घृणा से प्रेरित अपराधों को लेकर चिंता व्यक्त की है। उन्होंने कहा कि पिछले हफ्ते इंडियानापोलिस में हुई गोलीबारी की गूंज भारत में और प्रवासी समुदाय दोनों में सुनी गई। इंडियानापोलिस में फेडेक्स केंद्र पर हुई सामूहिक गोलीबारी में चार सिखों समेत आठ लोगों की मौत हो गई थी। इनमें से तीन सिख महिलाएं थी। तिवारी ने बाइडन को लिखे पत्र में कहा, “हम एक तरफ नृशंस रूप से किए गए 9/11 के हमले की 20वीं बरसी की तरफ बढ़ रहे हैं, वहीं यह अफसोसजनक है। लेकिन मुद्दा उठाना जरूरी है क्योंकि उस त्रासदी के बाद नस्ली घृणा से प्रेरित अपराध बढ़े हैं जिनमें सिख समुदाय को निशाना बनाया जा रहा है।”

इसे भी पढ़ें: आतंकवाद को लेकर पाकिस्तान के साथ वार्ता जारी रखेगा अमेरिका, पेंटागन का आया बड़ा बयान

यह पत्र व्हाइट हाउस को बुधवार को प्राप्त हुआ। कांग्रेस नेता ने इंडियानापोलिस के ‘‘भयावह और नृशंस” त्रासदी के पीड़ित परिवारों के प्रति “गहरी संवेदनाएं” व्यक्त की हैं। उन्होंने कहा, “मैं भारतीय संसद में श्री आनंदपुर साहिब निर्वाचन क्षेत्र का प्रतिनिधित्व करता हूं। यह निर्वाचन क्षेत्र भारत के उत्तर पश्चिम क्षेत्र के पंजाब राज्य में स्थित है। पंजाब दुनिया भर में रहने वाले सिखों का प्राकृतिक एवं आध्यात्मिक घर है।” कांग्रेस नेता ने लिखा, “इंडियानापोलिस की दुर्भाग्यपूर्ण घटना की गूंज भारत और प्रवासी सिख समुदाय दोनों के बीच सुनी गई। यह त्रासदी मेरे लिए भी निजी है क्योंकि श्री आनंदपुर साहिब ही वह स्थान है जहां13 अप्रैल 1699 को खालसा पंथ की स्थापना की गई थी।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।



Prabhasakshi logoखबरें और भी हैं...

अंतर्राष्ट्रीय

झरोखे से...