विकासशील राष्ट्रों को विकास नीति बनाने के लिए अवसर मिलना चाहिए :दक्षिण अफ्रीका

By प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क | Publish Date: May 12 2019 5:44PM
विकासशील राष्ट्रों को विकास नीति बनाने के लिए अवसर मिलना चाहिए :दक्षिण अफ्रीका
Image Source: Google

इस बैठक में छह अल्प विकसित देश और 16 विकासशील देश जिनमें चीन, ब्राजील, साउदी अरब, दक्षिण अफ्रीका, बांग्लादेश, मलेशिया और नाइजीरिया शामिल हैं, शरीक होंगे। विश्व व्यापार संगठन (डब्ल्यूटीओ) के महानिदेशक राबर्टों अजेवेदो भी इस बैठक में शरीक होंगे।

जोहानिसबर्ग। नयी दिल्ली में सोमवार से शुरू हो रही डब्ल्यूटीओ की दो दिवसीय मंत्रीस्तरीय अनौपचारिक बैठक में दक्षिण अफ्रीका विकासशील देशों और खासतौर पर अफ्रीकी देशों की विकास नीति की जरूरत पर जोर देगा। एक वरिष्ठ मंत्री ने यह जानकारी दी। इस बैठक में छह अल्प विकसित देश और 16 विकासशील देश जिनमें चीन, ब्राजील, साउदी अरब, दक्षिण अफ्रीका, बांग्लादेश, मलेशिया और नाइजीरिया शामिल हैं, शरीक होंगे। विश्व व्यापार संगठन (डब्ल्यूटीओ) के महानिदेशक राबर्टों अजेवेदो भी इस बैठक में शरीक होंगे। 

भाजपा को जिताए

इसे भी पढ़ें: दक्षिण अफ्रीका की आम चुनाव में ANC की सत्ता पर पकड़ बरकरार

दक्षिण अफ्रीका के व्यापार एवं उद्योग मंत्री रॉब डेविस ने भारत रवाना से होने पहले कहा कि यह बैठक ऐसे वक्त में हो रही है जब वैश्विक व्यापार अनिश्चितता के दौर से गुजर रहा है, कुछ देशों में संरक्षणवाद बढ़ गया है और समावेशी वृद्धि के अभाव के चलते व्यापार समझौतों और वैश्विकरण के खिलाफ हवा चल रही है।उन्होंने कहा, ‘‘हमें एक बहुपक्षीय व्यापार का माहौल बनाने की जरूरत है जो औद्योगिकीकरण के अनुकूल हो और ढांचागत परिवर्तन एवं आर्थिक विविधकरण में सहयोग करे। यह बैठक विकासशील और अल्प विकसित देशों को इस बारे में आमराय बनाने का भी अवसर मुहैया करेगा कि डब्ल्यूटीओ सुधारों पर कैसे आगे बढ़ा जाए। 

रहना है हर खबर से अपडेट तो तुरंत डाउनलोड करें प्रभासाक्षी एंड्रॉयड ऐप   


Related Story

Related Video