इन दो देशों की सीमा पर पेशाब करना पड़ सकता है भारी, रखी जा रही नजर

Dont pee on Russia
निधि अविनाश । Aug 27, 2021 12:18PM
रूस की दिशा में पेशाब करना मना है और यह चेतावनी नॉर्वे ने अपने टूरिस्ट को दी है। बता दें कि अगर आप इसका उल्लघंन करते हुए पाए गए तो आपको इसका भारी जुर्माना देना पड़ सकता है। यह चेतावनी दो देशों के बीच के अच्छे संबंध और सम्मान को देखते हुए नॉर्वे ने लगाया है।

रूस के साथ नॉर्वे की नदी सीमा पर एक पोस्ट लगया गया है जिसमें टूरिस्ट को सीधी चेतावनी दी है कि रूस की दिशा में पेशाब करना मना है। अग्रेंजी अखबार TOI की एक खबर के मुताबिक, अगर कोई भी टूरिस्ट रूस की दिशा में पेशाब करता पाया गया तो भारी जुर्माना देना पड़ेगा। बताया जा रहा है कि, ऐसा करना कानून के खिलाफ है। पोस्ट को बिल्कुल काले बोल्ड अक्षरों में अंग्रेजी में लिखा गया है ताकि उसे हर एक टूरिस्ट पढ़ सके और नियमों का पालन करें। बता दें कि इस वॉर्निंग पोस्ट को जकोबसेल्वा नदी के तट पर लगाया गया है क्योंकि यह नदी नॉर्वे को रूस से अलग करती है। पोस्ट में लिखा गया है'  "रूस की ओर पेशाब करना मना'।  यह एक आधिकारिक वॉर्निंग साइनपोस्ट है और इसे नॉर्वेजियन सीमा रक्षकों द्वारा वीडियो निगरानी के करीब लगाया गया है। 

इसे भी पढ़ें: चीन, रूस और पाकिस्तान आखिर क्यों बन गए तालिबान के चियर लीडर्स? रिश्‍ते बनाने के लिए हैं उतावले

नॉर्वे के सीमा आयुक्त जेन्स-अर्ने होइलुंड ने इंटरनेट साइट बारेंट्स ऑब्जर्वर पर एक रिपोर्ट की पुष्टि करते हुए एएफपी को बताया कि, " यह पोस्ट राहगीरों को चेतावनी देने के लिए लगाया गया है और इसका उल्लंघन करने वालों पर 3,000 क्रोनर यानि कि 290 यूरो, 340 डॉलर का जुर्माना लगाया जाएगा। आपको बता दें कि यह क्षेत्र नार्वे की ओर पर्यटकों के लिए लोकप्रिय है और आप नदी के उस पार कुछ मीटर गज दूर रूस को बड़ी आसानी से देख सकते हैं। होइलंड ने कहा कि, प्रकृति में पेशाब करना अनिवार्य रूप से आक्रामक नहीं हैं लेकिन यह आपके दृष्टिकोण पर निर्भर करता है। यह सीमा पर एक तरह से आक्रामक व्यवहार पर प्रतिबंध लगाने वाले कानून के तहत आता है।

जानकारी के लिए बता दें कि नॉर्वे का यह कानून पड़ोसी राज्य और उसे सटे सीमाओं के लिए एक तरह से आक्रामक व्यवहार को प्रतिबंधित करता है। होइलुंड के अनुसार, काूनन के तहत यहां के अधिकारियों को काम सौंपा गया है कि रूस और नॉर्वे के बीच पड़ोसी संबंध अच्छे बने रहे और दोनों देशों के बीच हुए समझौतों का पूरा सम्मान किया जाए। बता दें कि नॉर्वे द्वारा रूस की तरफ पेशाब करने के कई मामले सामने आए है लेकिन रूस के अधिकारियों ने सीमा पर पेशाब की घटनाओं के बारे में कभी कोई शिकायत नहीं की है। 

इसे भी पढ़ें: रूस अफगानिस्तान में तालिबान एवं उसके विरोधियों के बीच टकराव में नहीं देगा दखल

गौरतलब है कि, नॉर्वे की सीमा रक्षकों द्वारा कई साल पहले रूस की तरफ पत्थर फेंकने के आरोप में 4 लोगों को गिरफ्तार किया गया था। वहीं, एक महिला ने केवल अपना बायां हाथ सीमा के दूसरी तरफ रख दिया था तो उसके लिए नॉर्वे अधिकारियों ने उस पर भारी जुर्माना लगाया था। बता दें कि सजा के तौर पर महिला को 8000 क्रोनर (नॉर्वे की करेंसी) देना पड़ा था। अधिकारियों ने बॉर्डर पर लगे सीसीटीवी कैमरों के जरिए महिला पर यह आरोप लगाए थे। इससे तो आप अनुमान लगा सकते है कि नॉर्वे अधिकारी सीमा नियमों को कितनी गंभीरता से लेते है। बता दें कि रूस के साथ नॉर्वे की 197.7 किलोमीटर (123 मील) भूमि सीमा आर्कटिक में नाटो की उत्तरी सीमा है।

अन्य न्यूज़