• मंत्रिस्तरीय बैठक में साहेल राष्ट्रों के लिए आर्थिक सहायता जुटने की उम्मीद: UN

अवर महासचिव मार्क लोकोक ने ‘एपी’ को दिए गए एक साक्षात्कार में कहा कि बुर्किना फासो, माली और नाइजर में बने हालात तेजी से बढ़ती आबादी, जलवायु परिवर्तन तथा ‘‘उन सभी समस्याओं के कारणों से निपटने में विफलता’’ का संकेत हैं।

संयुक्त राष्ट्र। संयुक्त राष्ट्र में मानवीय मामलों के प्रमुख ने मंगलवार को होने वाली एक बड़ी मंत्रिस्तरीय बैठक में अफ्रीका के साहेल क्षेत्र में मानवीय संकट का सामना कर रहे तीन देशों के लिए एक अरब डॉलर की राशि जुटाई जा सकने और नेताओं को बढ़ते संघर्ष, असुरक्षा, कमजोर शासन और विकास की कमी जैसे संकटों का समाधान निकालने के लिए प्रेरित किया जाने की उम्मीद जताई है। अवर महासचिव मार्क लोकोक ने ‘एपी’ को दिए गए एक साक्षात्कार में कहा कि बुर्किना फासो, माली और नाइजर में बने हालात तेजी से बढ़ती आबादी, जलवायु परिवर्तन तथा ‘‘उन सभी समस्याओं के कारणों से निपटने में विफलता’’ का संकेत हैं।

इसे भी पढ़ें: UN में भारत का पाक पर निशाना, कहा- आतंकी घोषित करने के लिए UNSC का न हो दुरुपयोग

उन्होंने कहा कि इसी के परिणामस्वरूप, ‘‘बुर्किना फासो, माली और नाइजर के सीमावर्ती इलाकों में 1.3 करोड़ से अधिक लोगों को मानवीय सहायता की आवश्यकता है और इन लोगों में से ज्यादातर बच्चे हैं।’’ लोकोक ने कहा कि मंगलवार को डेनमार्क, जर्मनी और यूरोपीय संघ तथा संयुक्त राष्ट्र की जो ऑनलाइन बैठक होनी है, उसका उद्देश्य दुनिया के तेजी से बढ़ते मानवीय संकट को सामने लाना है ताकि आर्थिक सहायता बढ़ाई जा सके और समाधानों पर खास जोर दिया जा सके।

इसे भी पढ़ें: कोविड-19 संकट ने प्रकृति के साथ सामंजस्य बनाने के महत्व पर दिया जोर: प्रकाश जावड़ेकर

उन्होंने कहा कि हालात बहुत तेजी से बदतर हो रहे हैं। संयुक्त राष्ट्र के मानवीय मामलों के समन्वय कार्यालय ने कहा कि वर्तमान में अनुमानित 74 लाख लोग खाद्य असुरक्षा संकट का सामना कर रहे हैं, जो एक वर्ष पहले के मुकाबले तीन गुना है।