अमेरिकी नाइट क्लब में गोलीबारी, पांच लोगों की मौत , हमलावर गिरफ्तार

shooting
प्रतिरूप फोटो
Google Creative Common
एल्ड्रिक को अमेरिका के कोलोराडो स्प्रिंग्स में समलैंगिकों के एक नाइट क्लब में गोलीबारी करने के आरोप में गिरफ्तार किया है। इस हमले में पांच लोगों की मौत हो गई थी, जबकि 25 अन्य घायल हो गए। अधिकारियों ने बताया कि हमले के बीच नाइट क्लब में मौजूद कुछ लोगों ने बहादुरी दिखाते हुए बंदूकधारी पर काबू पा लिया था

अमेरिका के कोलोराडो स्प्रिंग्स में समलैंगिकों के एक नाइट क्लब में गोलीबारी कर पांच लोगों की हत्या करने के आरोप में गिरफ्तार एंडरसन ली एल्ड्रिक ने डेढ़ साल पहले भी अपनी मां को एक देसी बम से हमला करने की धमकी दी थी, जिसके चलते आसपास के घरों को खाली कराना पड़ा था। अधिकारियों ने रविवार को यह जानकारी दी। उन्होंने बताया कि घटनास्थल पर पहुंची पुलिस और बम रोधी दस्ते ने बाद में एल्ड्रिक को आत्म समर्पण करने के लिए मना लिया था। हालांकि, इस घटना के बावजूद उसके खिलाफ परिजन को बंधक बनाने या धमकी देने के आरोप में कानूनी कार्यवाही किए जाने का कोई रिकॉर्ड नहीं है।

इस बात का भी कोई रिकॉर्ड नहीं है कि पुलिस ने एल्ड्रिक के खिलाफ कोलोराडो के बंदूक कानून के तहत कोई मामला दर्ज किया, जिसके आधार पर उसके पास से उन हथियारों और विस्फोटकों को जब्त करने की कार्रवाई की जा सकती थी, जिसके होने का दावा उसकी मां ने किया था। एल्ड्रिक को अमेरिका के कोलोराडो स्प्रिंग्स में समलैंगिकों के एक नाइट क्लब में गोलीबारी करने के आरोप में गिरफ्तार किया है। इस हमले में पांच लोगों की मौत हो गई थी, जबकि 25 अन्य घायल हो गए। अधिकारियों ने बताया कि हमले के बीच नाइट क्लब में मौजूद कुछ लोगों ने बहादुरी दिखाते हुए बंदूकधारी पर काबू पा लिया था और कुछ ही मिनट बाद घटनास्थल पर पहुंची पुलिस ने उसे गिरफ्तार कर लिया था।

इसे भी पढ़ें: संयुक्त राष्ट्र महासचिव पर बरसा उत्तर कोरिया, गुतारेस को बताया अमेरिका की कठपुतली

पुलिस प्रमुख आद्रियान वासक्वेज ने बताया था कि ‘क्लब क्यू’ में गोलीबारी की यह घटना शनिवार रात को हुई थी और घटनास्थल से एक राइफल समेत दो हथियार बरामद किए गए थे। ‘क्यू क्लब’ ने अपने फेसबुक पेज पर इस हमले को ‘‘घृणा अपराध’’ करार दिया था। हालांकि, काउंटी डिस्ट्रिक्ट अटॉर्नी माइकल एलन ने कहा था कि जांचकर्ता अब भी इस बात का पता लगाने की कोशिश कर रहे हैं कि हमले के पीछे का मकसद क्या था और इसमें घृणा अपराध के तहत मुकदमा चलाया जाना चाहिए या नहीं।

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


अन्य न्यूज़