क्वालिटी कंटेंट के बदले न्यूज पब्लिशर्स को पैसा देगी गूगल, इन देशों के लिए लाया गया प्रोग्राम

क्वालिटी कंटेंट के बदले न्यूज पब्लिशर्स को पैसा देगी गूगल, इन देशों के लिए लाया गया प्रोग्राम

इस प्रोग्राम की वजह से न्यूज पब्लिशर्स को काफी फायदा होगा और उनके पास आय का एक नया साधन भी होगा। अभी तक न्यूज पब्लिशर्स को कमाई के लिए गूगल विज्ञापन पर निर्भर रहना पड़ता था।

नयी दिल्ली। अब मीडिया संस्थानों के साथ टेक्नॉलिजी की दिग्गज कंपनी गूगल ने बिजनेस करने के संकेत दिए हैं। बता दें कि न्यूज पब्लिशर्स को अब न्यूज के बदले अब पैसे मिलेंगे और इसका ऐलान गूगल ने किया है। फिलहाल गूगल यह सुविधा ऑस्ट्रेलिया, ब्राजील और जर्मनी के लिए शुरू करने वाला है। उम्मीद जताई जा रही है कि इस साल के अंत तक यह शुरू हो जाएगी। इस प्रोग्राम के तहत गूगल हाई-क्वालिटी बेस्ड कंटेंट के बदले में पब्लिशर्स को पैसे देगी।

इस प्रोग्राम की वजह से न्यूज पब्लिशर्स को काफी फायदा होगा और उनके पास आय का एक नया साधन भी होगा। अभी तक न्यूज पब्लिशर्स को कमाई के लिए गूगल विज्ञापन पर निर्भर रहना पड़ता था लेकिन इसकी शुरूआत के साथ ही रीडर्स को ओरिजिनल और हाई-क्वालिटी बेस्ड कंटेंट मुहैया होगा। 

इसे भी पढ़ें: ‘मेड इन चाइना’ फोन नहीं लेना तो, खरीदें ये मोबाइल ब्रैंड्स 

गूगल ने क्या कुछ कहा

गूगल ने इस नए प्रोग्राम की घोषणा करते हुए कहा कि जल्द ही यह प्रोग्राम बाकी के देशों में भी शुरू किया जाएगा। न्यूज पब्लिशर्स दर्जनों देशों से गूगल न्यूज के माध्यम से जुड़े हुए हैं। इस प्रोग्राम के तहत कम्पनी ऑडियो, वीडियो, फोटो और स्टोरी के लिए न्यूज पब्लिशर्स को पैसा देगी और यह कंटेंट गूगल मोबाइल ऐप पर उपलब्ध होगा।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, गूगल न्यूज प्रोडक्ट के वाइस प्रेसिडेंट ब्रैड बेंडर ने कहा कि ये शुरुआत एक बदलाव है, जिसकी मदद से न्यूज पब्लिशर्स अच्छे कंटेंट के जरिए पैसे कमा पाएंगे। इसके अतिरिक्त न्यूज पब्लिशर्स का पाठकों के साथ भी एक मजबूत रिश्ता कायम होगा। 

इसे भी पढ़ें: हैकर्स ने डोनाल्ड ट्रंप और बाइडेन के कैम्पेन को हैक करने का किया प्रयास: गूगल 

बीबीसी की रिपोर्ट के मुताबिक गूगल साइट्स पर यूजर्स को मुफ्त में आर्टिकल्स पढ़ने की सुविधा देगा। इससे रीडर्स की संख्या में इजाफा भी होगा और उन्हें अच्छे आर्टिकल्स पढ़ने की सहूलियत भी मिलेगी जो वो आसानी से नहीं पढ़ पाते हैं। वहीं यह भी कहा जा रहा है कि जब गूगल मुफ्त में आर्टिकल्स पढ़ने की सुविधा मुहैया कराएगा तो फिर रीडर्स लंबे समय के लिए अखबारों का सब्सक्रिप्शन लेने से कतराएंगे।