हांगकांग प्रदर्शनकारियों ने रात भर चली घेराबंदी को शांतिपूर्ण ढंग से किया खत्म

hong-kong-protesters-finish-the-siege-overnight-in-a-peaceful-manner
पुलिस ने प्रदर्शनकारियों द्वारा एशिया के इस वित्तीय केंद्र में यातायात को बाधित करने के लिए लगाए गए अवरोधकों को सुबह तक हटा लिया था और केवल कुछ समूह खास कर युवाओं के समूह रह गए थे। कई लोग मुख्यालय के बाहर ही सोए।

हांगकांग। हांगकांग में प्रदर्शनकारियों ने पुलिस मुख्यालय की रात भर चली घेराबंदी शनिवार को शांतिपूर्ण ढंग से खत्म कर दी। हालांकि विरोध वापस लेते हुए वे इस बात से निराश थे कि हांगकांग की नेता द्वारा विवादास्पद प्रत्यर्पण विधेयक औपचारिक रूप से वापस लिए जाने और पुलिस की जोर-जबरदस्ती के लिए माफी की उनकी मांगों पर ध्यान नहीं दिया गया। पुलिस ने प्रदर्शनकारियों द्वारा एशिया के इस वित्तीय केंद्र में यातायात को बाधित करने के लिए लगाए गए अवरोधकों को सुबह तक हटा लिया था और केवल कुछ समूह खास कर युवाओं के समूह रह गए थे। कई लोग मुख्यालय के बाहर ही सोए। 

इसे भी पढ़ें: रोसारियो को हांगकांग में प्रवेश से रोके जाने पर फिलीपीन ने कहा- पासपोर्ट की वजह से रोका गया होगा

प्रदर्शनकारियों के अगले कदम पर विचार करने के लिए इकठ्ठा होने के बाद सरकार के केंद्रीय परिसर से होकर गुजरने वाले बड़े रास्ते पर यातायात फिर से सुचारू हो गया था। पुलिस ने बताया कि नौ महिला एवं चार पुरुष कर्मचारियों को इस घेराव के दौरान अस्पताल में भर्ती कराना पड़ा। पुलिस के बयान में यह स्पष्ट नहीं हुआ कि ये झड़प में घायल हुए या बीमार पड़ गए थे।

इसे भी पढ़ें: हांगकांग में प्रत्यर्पण विधेयक के विरोध में हो रहे प्रदर्शन पर चीनी मिडिया ने साधी चुप्पी

हांगकांग में विधायी प्रस्तावों को लेकर पिछले दो हफ्तों से जबर्दस्त विरोध प्रदर्शन हो रहे हैं। कई लोग इसे स्वायत शासी क्षेत्र की न्यायिक स्वतंत्रता को कम करने या यूं कहें कि शहर की स्वतंत्रता को कमजोर करने के चीनी सरकार के प्रयासों के संकेत के तौर पर देख रहे हैं। हांगकांग की नेता कैरी लेम ने एक हफ्ते पहले तमाम विधेयकों पर चर्चा को अनिश्चित काल तक निलंबित कर दिया था। लेकिन प्रदर्शनकारियों की मांग है कि वह प्रत्यर्पण कानूनों में प्रस्तावित बदलावों को औपचारिक रूप से वापस लें। कुछ लोग लेम का इस्तीफा भी चाहते हैं।

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


अन्य न्यूज़