एस्ट्राजेनेका वैक्सीन से खून के थक्के जमने का जोखिम कितना दुर्लभ? पढ़े यह रिपोर्ट

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  मई 28, 2021   15:09
एस्ट्राजेनेका वैक्सीन से खून के थक्के जमने का जोखिम कितना दुर्लभ? पढ़े यह रिपोर्ट

ऑस्ट्रेलिया में अब तक एस्ट्राजेनेका वैक्सीन की 21 लाख डोज दी गई हैं, जिनमें से टीटीएस के 24 मामले सामने आए हैं। तो टीटीएस का जोखिम लगभग ८८,००० में से एक है। ये आंकड़े इस संबंध में ब्रिटेन, यूरोप, मध्य पूर्व और कनाडा में एकत्र किए गए आंकड़ों के समान हैं।

लंदन। एक बार फिर से कोविड-19 का सामुदायिक संचरण बढ़ने के साथ, 50 वर्ष से अधिक आयु के लोग एस्ट्राजेनेका वैक्सीन से रक्त के थक्के जमने के दुर्लभ जोखिम के साथ वायरस से बचाव के लिए वैक्सीन लगवाने के फायदों को तौल रहे हैं मार्च 2021 में एस्ट्राजेनेका वैक्सीन के सामने आने के उपरांत रक्त के थक्के बनने की पहली रिपोर्ट के बाद से, थक्के जमने की बीमारी, जिसे वैक्सीन-जनित थ्रोम्बोटिक थ्रोम्बोसाइटोपेनिया (वीआईटीटी) या थ्रोम्बोसाइटोपेनिया सिंड्रोम (टीटीएस) के साथ थ्रोम्बोसिस कहा जाता है, के बारे में हमारी समझ बढ़ी है। अब हम जानते हैं कि इसका निदान और उपचार कैसे किया जाता है, इसलिए हमें इस स्थिति वाले रोगियों के लिए बेहतर परिणाम दिखने की संभावना है। यह कितना सामान्य और घातक है? यह राहत की बात है, एस्ट्राजेनेका वैक्सीन के बाद रक्त के थक्के जमना बहुत दुर्लभ है।

इसे भी पढ़ें: पाकिस्तान ने बांग्लादेश नरसंहार का खुलासा करने वाले हिंदू संगठन को धमकाया

ऑस्ट्रेलिया में अब तक एस्ट्राजेनेका वैक्सीन की 21 लाख डोज दी गई हैं, जिनमें से टीटीएस के 24 मामले सामने आए हैं। तो टीटीएस का जोखिम लगभग ८८,००० में से एक है। ये आंकड़े इस संबंध में ब्रिटेन, यूरोप, मध्य पूर्व और कनाडा में एकत्र किए गए आंकड़ों के समान हैं। हालांकि यूरोप से शुरुआती रिपोर्टों से संकेत मिलता है कि टीटीएस के लगभग 20 प्रतिशत मामले घातक थे, ऑस्ट्रेलिया में आज तक, 24 टीटीएस मामलों में से एक घातक रहा है। थ्रोम्बोसाइटोपेनिया सिंड्रोम (प्लेटलेट संख्या) के साथ रक्त के थक्के जमना वास्तव में क्या है? यद्यपि हमारे पास अभी तक पूर्ण स्पष्टीकरण नहीं है, ऐसा प्रतीत होता है कि एस्ट्राजेनेका वैक्सीन प्लेटलेट्स को सक्रिय कर सकती है, जो हमारे रक्त में छोटी कोशिकाएं होती हैं और रक्त को गाढ़ा करने के लिए महत्वपूर्ण होती हैं जो रक्तस्राव को रोकती हैं। कुछ लोगों में, यह सक्रिय प्लेटलेट्स एक प्रोटीन जारी कर सकते हैं, जिसे प्लेटलेट फैक्टर 4 (पीएफ4) कहा जाता है, जो एस्ट्राजेनेका वैक्सीन से जुड़ा होता है।

इसे भी पढ़ें: भारत-अमेरिका साझेदारी की समीक्षा के लिए जयशंकर ने की US NSA जेक सुलिवन से मुलाकात

ऐसा माना जाता है कि पीएफ4 प्रतिरक्षा प्रणाली को अधिक प्लेटलेट्स को सक्रिय करने के लिए प्रेरित कर सकता है, जिससे वे आपस में चिपक जाते हैं और इस तरह उनकी संख्या कम हो जाती है। यह क्रिया उस सामान्य प्रक्रिया से काफी भिन्न होती है जिसके द्वारा रक्त के थक्के बनते हैं। टीटीएस एक अनियमित प्रतिरक्षा प्रतिक्रिया का परिणाम प्रतीत होता है, मौजूदा साक्ष्यों से पता चलता है कि दिल का दौरा, स्ट्रोक, फेफड़ों मेंथक्का या नियमित रूप से रक्त को पतला करने की दवा लेने वाले लोगों को टीटीएस के जोखिम में किसी तरह की वृद्धि नहीं होती है। टीटीएस के मामलों को पहचानने और उनका इलाज करने के लिए नैदानिक ​​परीक्षण और दिशानिर्देशों की बड़ी भूमिका है। ज्यादातर मामलों में, रोगियों में कम प्लेटलेट काउंट, रक्त के थक्के जमने और पीएफ 4 के खिलाफ एंटीबॉडी मिलती है। इनमें से कई परीक्षण जल्दी किए जा सकते हैं। उपचार अब तुरंत शुरू हो सकता है, रक्त पतला करने की दवाओं और प्रतिरक्षा प्रणाली को कम करने वाली दवाओं के साथ।

इसे भी पढ़ें: अमेरिका के साथ संबध और सुधारना चाहता है पाकिस्तान, पेश की नई योजना

20 मई तक जब नवीनतम वैक्सीन सुरक्षा रिपोर्ट जारी की गई थी, टीटीएस वाले 24 ऑस्ट्रेलियाई लोगों में से 21 ठीक हो गए थे और उन्हें अस्पताल से छुट्टी दे दी गई थी और दो स्थिर थे और अस्पताल में ठीक हो रहे थे। तो कौन से दुष्प्रभाव सामान्य हैं, और क्या थक्का जमने का संकेत दे सकता है? किसी भी वैक्सीन के बाद कुछ दुष्प्रभाव होना एकदम सामान्य है। एस्ट्राजेनेका वैक्सीन के मामले में, ये टीकाकरण के बाद पहले दो दिनों में होते हैं और इसमें शामिल हैं: सरदर्द बुखार (ठंड लगना) मांसपेशियों और जोड़ों में दर्द जी मिचलाना थकान इंजेक्शन की जगह पर दर्द, जो पेरासिटामोल जैसे सरल उपायों से ठीक हो जाता है। इसी तरह एस्ट्राजेनेका वैक्सीन प्राप्त करने के बाद टीटीएस का संकेत देने वाले लक्षणों में शामिल हैं: लगातार या गंभीर सिरदर्द धुंधला या दोहरा दिखना सांस लेने में कठिनाई पेट, पीठ या सीने में गंभीर दर्द सूजन, लाली, पैर में दर्द असामान्य रक्तस्राव या चोट लगना। यदि आप अपने टीकाकरण के चार से 30 दिनों के बाद इनमें से किसी भी लक्षण का अनुभव करते हैं, तो तत्काल डाक्टर की सलाह लें। जोखिम और लाभों को संतुलित करना टीटीएस का जोखिम बहुत दुर्लभ है, कुछ लोगों को चिंता होगी और वे अपने डॉक्टर से उन पर चर्चा करना चाहेंगे। हालाँकि, ऑस्ट्रेलिया में कोविड के प्रकोप के चल रहे जोखिम और उनके संभावित घातक परिणामों के साथ-साथ इसके संभावित गंभीर दीर्घकालिक प्रभावों को देखते हुए अधिकांश लोगों के लिए, कोविड के खिलाफ टीकाकरण के लाभ संभावित जोखिमों से कहीं अधिक हैं।

-कार्लहेंज पीटर, बेकर हार्ट एंड डायबिटीज इंस्टीट्यूट और जेम्स मैकफैडेन, बेकर हार्ट एंड डायबिटीज इंस्टीट्यूट मेलबर्न 





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।