भारत ने हिंद-प्रशांत क्षेत्र में शांति, सुरक्षा और समृद्धि का आह्वान किया

Indo-Pacific
प्रतिरूप फोटो
Google Creative Commons
विदेश राज्य मंत्री डॉ. राजकुमार रंजन सिंह ने यहां आयोजित आईओआरए की मंत्रिपरिषद (सीओएम) की 22वीं बैठक में भाग लेते हुए यह बात कही। आईओआरए हिंद महासागर क्षेत्र में 23 सदस्यों और 10 संवाद भागीदारों के साथ सबसे बड़ा और पूर्व-प्रतिष्ठित संगठन है।

भारत ने हिंद महासागर क्षेत्र और व्यापक हिंद-प्रशांत क्षेत्र में शांति, सुरक्षा और समृद्धि को बढ़ावा देने के लिए हिंद महासागर परिधि संघ (आईओआरए) को मजबूत करने की अपनी दृढ़ प्रतिबद्धता को बृहस्पतिवार को दोहराया। विदेश राज्य मंत्री डॉ. राजकुमार रंजन सिंह ने यहां आयोजित आईओआरए की मंत्रिपरिषद (सीओएम) की 22वीं बैठक में भाग लेते हुए यह बात कही। आईओआरए हिंद महासागर क्षेत्र में 23 सदस्यों और 10 संवाद भागीदारों के साथ सबसे बड़ा और पूर्व-प्रतिष्ठित संगठन है।

विदेश मंत्रालय की ओर से जारी एक बयान के मुताबिक विदेश राज्य मंत्री डॉ. राजकुमार रंजन सिंह ने आईओआरए में एक भारतीय प्रतिनिधिमंडल का नेतृत्व किया। उन्होंने आईओआर के साथ-साथ व्यापक भारत-प्रशांत क्षेत्र में शांति, सुरक्षा और समृद्धि को बढ़ावा देने के लिए आईओआरए को मजबूत करने के लिए भारत की दृढ़ प्रतिबद्धता की पुष्टि की।

मंत्री ने आपदा जोखिम प्रबंधन (डीआरएम) के आईओआरए प्राथमिकता वाले क्षेत्रों के समन्वयक के रूप में भारत के योगदान और आईओआरए सचिवालय की क्षमता निर्माण और मजबूती के लिए विज्ञान, प्रौद्योगिकी और नवाचार पर भी प्रकाश डाला। विदेश मंत्रालय की ओर से जारी एक बयान में कहा गया,‘‘हमारी जलवायु, खाद्य और ऊर्जा सुरक्षा के लिए मौजूदा वैश्विक चुनौतियों का सामना करते हुए, मंत्री ने लाइफ - पर्यावरण के लिए जीवन शैली और 2023 में बाजरा के अंतरराष्ट्रीय वर्ष की हमारी पहल पर प्रकाश डाला।

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


अन्य न्यूज़