आयरलैंड की ट्रेन में एक व्यक्ति ने भारतीय परिवार के साथ किया नस्ली दुर्व्यवहार

indian-family-racially-abused-on-train-in-ireland
इसमें कहा गया है कि भट्टाचार्य और उनके अभिभावकों से एक व्यक्ति ने लगभग एक घंटे तक नस्ली दुर्व्यवहार किया। उक्त व्यक्ति पूरी ट्रेन यात्रा के दौरान बीयर की एक कैन लिये उनके पास ही बैठा रहा और उनपर छींटाकशी करता रहा।

लंदन। आयरलैंड में छुट्टियां मनाने गए एक भारतीय परिवार से डबलिन जाने वाली एक ट्रेन में एक व्यक्ति ने उनके ‘‘उच्चारण, रंग और राष्ट्रीयता’’ को लेकर कथित तौर पर करीब एक घंटे तक छींटाकशी की। यह बात मीडिया की एक रिपोर्ट में कही गई है। ‘आइरिश टाइम्स’ की खबर के अनुसार प्रसुन भट्टाचार्य अपने परिवार के साथ आयरलैंड की तीन दिवसीय यात्रा पर थे। उनका परिवार ट्रेन से बेलफास्ट से डबलिन जा रहा था, उसी दौरान उनसे एक अन्य यात्री ने नस्ली छींटाकशी की। इसमें कहा गया है कि भट्टाचार्य और उनके अभिभावकों से एक व्यक्ति ने लगभग एक घंटे तक नस्ली दुर्व्यवहार किया। उक्त व्यक्ति पूरी ट्रेन यात्रा के दौरान बीयर की एक कैन लिये उनके पास ही बैठा रहा और उनपर छींटाकशी करता रहा।

इसे भी पढ़ें: आयरलैंड में 2030 तक पेट्रोल और डीजल कारों की बिक्री पर लगेगा प्रतिबंध

भट्टाचार्य ने कहा कि व्यक्ति ने उनके परिवार से ‘उनकी त्वचा के रंग, राष्ट्रीयता और अन्य चीजों’’ को लेकर छींटाकशी की। उन्होंने कहा कि उनका मानना है कि उक्त व्यक्ति नशे में था। भट्टाचार्य ने कहा कि उन्हें बहुत खराब लगा। खबर में कहा गया कि ट्रेन का गार्ड आया लेकिन उक्त व्यक्ति को ट्रेन से नीचे नहीं उतारा गया और उसकी छींटाकशी जारी रही। एक अन्य व्यक्ति जिसका नाम केवल पीटर बताया गया उसने कहा, ‘‘ट्रेन गार्ड कुछ और कदम उठा सकता था।

इसे भी पढ़ें: आयरलैंड में मतदान हुए शुरू, चुनाव में बेक्जिट होगा बड़ा मुद्दा

पीटर ने कहा कि वह यात्रा समाप्त होने पर भट्टाचार्य और उनके अभिभावकों के पास गए और उनसे खेद जताया। इमीग्रेंट काउंसिल आफ आयरलैंड में कम्युनिकेशंस एवं एडवोकेसी मैनेजर पिप्पा वूलनोग ने कहा कि घटना नस्लवाद से निपटने के लिए एक अधिक सक्रिय दृष्टिकोण की जरुरत को रेखांकित करती है। आइरिश रेल प्रवक्ता बैरी केनी ने कहा कि यह ‘‘एक चौंकाने वाली घटना’’ है और आइरिश रेल को ‘‘इसका बहुत खेद है कि इस परिवार को हमारी एक ट्रेन सेवा में यात्रा के दौरान ऐसे खराब व्यवहार का सामना करना पड़ा।’’ उन्होंने कहा कि ट्रेन में चल रहे कर्मियों ने नस्ली उत्पीड़न रोकने के लिए कदम उठाये और सुरक्षा का इंतजाम किया जो ट्रेन के कोनोली पहुंचने पर मुहैया करायी गई। उपभोक्ता ने आइरिश रेल से सीधे सोशल मीडिया पर सम्पर्क किया है और उनसे जांच में सहयोग के लिए और सूचना मुहैया कराने के लिए कहा गया है।

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


अन्य न्यूज़