ब्रिटेन में विदेशी छात्रों के सबसे बड़े समूह के रूप में चीनियों से आगे निकले भारतीय

UK
प्रतिरूप फोटो
Google Creative Commons
आंकड़ों के मुताबिक बीते कुछ वर्षों में भारतीय छात्रों को प्रदान किए जाने वाले वीजा की संख्या में 273 प्रतिशत की वृद्धि से यह संभव हो सका है।

ब्रिटेन में पढ़ने वाले विदेशी छात्रों के सबसे बड़े समूह के रूप में भारतीय छात्रों ने पहली बार चीनी छात्रों को पीछे छोड़ दिया है। बृहस्पतिवार को जारी किए गए ब्रिटेन के आधिकारिक आव्रजन आंकड़ों में यह जानकारी सामने आई है। आंकड़ों के मुताबिक बीते कुछ वर्षों में भारतीय छात्रों को प्रदान किए जाने वाले वीजा की संख्या में 273 प्रतिशत की वृद्धि से यह संभव हो सका है। राष्ट्रीय सांख्यिकी कार्यालय (ओएनएस) द्वारा जुटाए गए ब्रिटेन के गृह विभाग के आंकड़ों से पता चलता है कि कुशल श्रमिक श्रेणी में वीजा हासिल करने वालों की सूची में भारतीय शीर्ष पर हैं।

इसके अनुसार, पिछले वर्ष 56,042 भारतीयों को इस श्रेणी में वीजा प्रदान किया गया था। ब्रिटेन में स्वास्थ्य एवं चिकित्सा क्षेत्र से जुड़े पेशेवरों की श्रेणी के तहत प्रदान किए गए कुल वीजा में से सबसे अधिक 36 प्रतिशत वीजा भारतीय नागरिकों को प्रदान किए गए। यह पेशेवर ब्रिटेन में सरकार द्वारा वित्त पोषित राष्ट्रीय स्वास्थ्य सेवा (एनएचएस) में भारतीय योगदान को मजबूत करते हैं। आंकड़ों के मुताबिक 2019 में कुल 34,261 भारतीय छात्रों को वीजा प्रदान किया गया जबकि 2022 में 1,27,731 छात्रों को वीजा दिया गया।

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


अन्य न्यूज़