Jacinda Ardern का इस्तीफा: अनुचित आलोचनाओं और असाधारण अपेक्षाओं का नतीजा

Jacinda Ardern
प्रतिरूप फोटो
Google Creative Commons
फिर भी शायद हममें से कुछ ही कभी समझ सकते हैं कि वास्तव में एक देश का नेतृत्व करना कितना कठिन और पेचीदा काम है। विशेष रूप से संकट के समय में और हमारे आधुनिक मीडिया और ऑनलाइन वातावरण के साथ, एक नेता का हर बयान और हर कदम व्यापक जांच और टिप्पणी से घिरा होता है।

शेक्सपियर ने 1500 के दशक में लिखा था, जो सिर ताज पहनता है, वह बेचैन होता है। यह कोई नया विचार नहीं है कि शीर्ष स्तर के नेतृत्व के पद अत्यधिक तनावपूर्ण होते हैं और उनकी भारी कीमत चुकानी पड़ती हैं। लंबे समय तक रहने वाला तनाव हताशा में बदल सकता है। फिर भी शायद हममें से कुछ ही कभी समझ सकते हैं कि वास्तव में एक देश का नेतृत्व करना कितना कठिन और पेचीदा काम है। विशेष रूप से संकट के समय में और हमारे आधुनिक मीडिया और ऑनलाइन वातावरण के साथ, एक नेता का हर बयान और हर कदम व्यापक जांच और टिप्पणी से घिरा होता है।

न्यूजीलैंड की प्रधान मंत्री जेसिंडा अर्डर्न के बारे में की जाने वाली टिप्पणियों की एक परेशान करने वाली बात इनका अपमानजनक, हिंसक, यौनवादी और स्त्री विरोधी स्वर रहा है। हालांकि अर्डर्न ने इस्तीफा देने के अपने फैसले के कारणों में इस बात का जिक्र नहीं किया है कि उन्हें इस तरह से लक्षित किया जा रहा है, और उनके साथी और यहां तक ​​​​कि उनके बच्चे को भी लक्षित किया गया है, निश्चित रूप से इस सब ने उनके पहले से ही कठिन काम को और अधिक चुनौतीपूर्ण बना दिया होगा।

संकट, दयालुता और साहसी निर्णय संकट को लंबे समय से एक नेता के कौशल और चरित्र की सबसे गहन परीक्षा के रूप में देखा जाता रहा है। इन्हें कई बार ऐसे बड़े फैसले लेने पड़ते हैं जो वास्तव में जीवन और मृत्यु के निहितार्थ होते हैं। निर्णय तेजी से किए जाने चाहिए, लेकिन अकसर सही फैसले लेने और उनके परिणामों का अनुमान लगाने के लिए जरूरी जानकारी उपलब्ध नहीं होती। अर्डर्न के प्रधानमंत्री बनने के बाद उनपर एक के बाद एक संकटों का पहाड़ टूट पड़ा।

उन्होंने उनका जवाब देने में अपने चरित्र की ताकत और नेतृत्व कौशल का प्रदर्शन किया। क्राइस्टचर्च आतंकी हमलों से निपटने में उनके धैर्य, करुणा और इस तरह के जघन्य कृत्यों को यहां दोहराया नहीं जा सके, यह सुनिश्चित करने के निर्णायक संकल्प के लिए उनकी वैश्विक प्रशंसा हुई। अर्डर्न ने अपने फैसलों में कठोर निर्णय लेने के साहस के साथ करुणा और दया को मिलाने की कोशिश की जो उनकी शैली की एक प्रमुख विशेषता है। एक नेता से अवास्तविक अपेक्षाएँ महामारी के दौरान, अर्डर्न ने बार-बार साहसी निर्णय लेने की अपनी इच्छा को साबित किया है।

सरकार की कोविड प्रतिक्रिया के लिए जनता की समझ और समर्थन को जुटाने के उनके कौशल के साथ, यह उन्मूलन रणनीति की सफलता के लिए महत्वपूर्ण था। उनके नेतृत्व के कारण कई लोगों की जान और आजीविका बचाई गई। जब डेल्टा और उसके बाद ओमिक्रोन आया, तो अर्डर्न ने बदलते संदर्भ में सरकार की नीतियों को लगातार अनुकूलित करने की कोशिश की। उनकी दृढ़ता उनकी कई खूबियों में से एक हो सकती है, लेकिन हठधर्मिता उनकी कमजोरियों में से एक नहीं है।

बेशक सभी निर्णय इष्टतम साबित नहीं हुए - उनसे ऐसा होने की उम्मीद करना बेहद अवास्तविक होगा। उनके कुछ फैसलों ने एक मजबूत नकारात्मक प्रतिक्रिया दी। लेकिन नेताओं से पूर्णता की उम्मीद करना समझदारी नहीं है, और बड़े पद पर रहते हुए कठिन फैसले करना अनिवार्य रूप से काम का हिस्सा है जिससे हर कोई सहमत नहीं होगा। सेक्सिस्ट और महिला विरोधी दुर्व्यवहार में वृद्धि कोई भी नेता सर्वशक्तिमान नहीं है, खासकर लोकतंत्र में और विश्व स्तर पर आपस में जुड़ी दुनिया में।

अर्डर्न जिस नवीनतम संकट से जूझ रही है वह है जीवन यापन की लागत, जो न्यूजीलैंड के किसी भी प्रधान मंत्री के नियंत्रण से बहुत दूर वैश्विक ताकतों द्वारा संचालित है। न्यूज़ीलैंड की स्थिति कई अन्य देशों की तुलना में बेहतर है, लेकिन अर्डर्न के लिए दुर्भाग्य से कुछ लोगों के लिए यह बहुत कम मायने रखता है। वास्तविकता यह है कि उनकी बढ़ती अलोकप्रियता आंशिक रूप से लोगों की अवास्तविक उम्मीदों में निहित है। लोग यह समझना नहीं चाहते कि नेता वास्तव में क्या कर सकते हैं और क्या नहीं और उन्हें किसी को तो हालात के लिए दोषी ठहराना ही होता है।

लेकिन इस तथ्य से भी कोई इंकार नहीं कर सकता है कि उसके द्वारा निर्देशित आलोचनाओं में से अधिकांश सेक्सिस्ट और गलत व्यवहारों से भरी हुई हैं। इस तरह का व्यवहार अक्षम्य है। यह न्यूजीलैंड के लिए हमेशा के लिए शर्म की बात होनी चाहिए कि अर्डर्न को इसका शिकार होना पड़ा। यह तर्क देकर इसे उचित नहीं ठहराया जा सकता है कि उनकी नीतियां विवादास्पद रही हैं और वह इस दुर्व्यवहार की हकदार हैं। अर्डर्न हालांकि न्यूजीलैंड की तीसरी महिला प्रधानमंत्री हैं और अब हमारे पास संसद के भीतर महिलाओं का समान प्रतिनिधित्व भी है। लेकिन अर्डर्न की इतनी अधिक आलोचना और दुर्व्यवहार की सेक्सिस्ट और नारीवादी प्रकृति से यह भी पता चलता है कि हम नेतृत्व में महिलाओं के समान व्यवहार करने से अभी बहुत दूर हैं।

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


अन्य न्यूज़