जिनपिंग के डर से छोड़ दिया था चीन! अब इस देश में दिखे अलीबाबा के संस्थापक जैक मा

Jack Ma
creative common
अभिनय आकाश । Nov 30, 2022 8:27PM
कहा जाता है कि मा ने पिछले कुछ महीनों में चीन ही नहीं बल्कि कई देशों का दौरा किया है। मा ने 2019 में अपनी रिटायरमेंट की घोषणा की और कहा कि वह अपने कार्य डेस्क की तुलना में समुद्र तट पर अपने जीवन के आखिरी पल गुजारना चाहेंगे।

एक गरीब परिवार में जन्मे अलीबाबा के संस्थापक जैक मा बड़े होकर चीन के सबसे अमीर व्यक्तियों में से एक बन गए। लेकिन, मा अब अपने देश में नहीं रह रहे हैं। तो, वह इन दिनों कहाँ है? ताजा मीडिया रिपोर्ट में दावा किया गया है कि अलीबाबा के संस्थापक वर्तमान में जापान के टोक्यो में अपने परिवार के साथ रह रहे हैं। दरअसल, कहा जाता है कि मा ने पिछले कुछ महीनों में चीन ही नहीं बल्कि कई देशों का दौरा किया है। मा ने 2019 में अपनी रिटायरमेंट की घोषणा की और कहा कि वह अपने कार्य डेस्क की तुलना में समुद्र तट पर अपने जीवन के आखिरी पल गुजारना चाहेंगे। 

इसे भी पढ़ें: चीन ने अमेरिका को दी चेतावनी, भारत के साथ हमारे रिश्तों पर न दें दखल

अब सवाल यह है कि मा चीन से बाहर क्यों गए? खैर, यह अलीबाबा के संस्थापक द्वारा अक्टूबर 2020 में एक विवादास्पद भाषण देने के बाद शुरू हुआ था। उन्होंने कहा था कि चीन के सरकारी बैंकों की "पॉन शॉप मानसिकता" है। तब से, मा द्वारा स्थापित दो कंपनियों एंट ग्रुप और अलीबाबा ने नियामक बाधाओं का लगातार सामना किया। उन्होंने वैश्विक बैंकिंग नियमों को बुजुर्गों का क्लब करार दिया था। जैक मा के इस बयान के बाद चीन की कम्युनिस्ट पार्टी नाराज हो गई थी और चीन में इस आलोचना को क्मयुनिस्ट पार्टी पर हमले के रूप में लिया गया। 

इसे भी पढ़ें: चीन के पूर्व राष्ट्रपति Jiang Zemin का 96 साल की उम्र में निधन

अलीबाबा के संस्थापक अपने परिवार के साथ चीन से बाहर रह रहे हैं क्योंकि वह "एकाधिकार-विरोधी नियमों का उल्लंघन" करने पर चीनी सरकार के साथ मुसीबत में पड़ गए थे। कहा जाता है कि मा वर्तमान में टोक्यो में रह रहे हैं और उनके महीनों के लंबे प्रवास में हॉट स्प्रिंग्स और ग्रामीण इलाकों में स्की रिसॉर्ट शामिल हैं। मा के करीबी सूत्रों के हवाले से फाइनेंशियल टाइम्स की ओर से आ रही रिपोर्ट में कहा गया है कि मा नियमित रूप से अमेरिका और इस्राइल की यात्राएं करती रही हैं। कुछ महीने पहले मा को पिछले साल स्पेन के मल्लोर्का द्वीप पर देखा गया था।

अन्य न्यूज़