• अमेजन फाउंडर जेफ बेजोस की पहली अतंरिक्ष यात्रा सफल, देखें कैसा रहा सफर

अमेरिका के पहले अंतरिक्ष यात्री के नाम पर बना ब्ल्यू ओरिजिन का न्यू शेपर्ड रॉकेट सुदूरवर्ती पश्चिमी टेक्सॉस से रवाना हुआ। रॉकेट ने अपोलो 11 के चांद पर उतरने की 52वीं वर्षगांठ पर यात्रियों के साथ अपना पहला सफर किया। बेजोस ने इस तारीख के ऐतिहासिक महत्व की वजह से इसे चुना था।

वैन हॉर्न (अमेरिका)। जेफ बेजोस अपनी रॉकेट कंपनी की पहली यात्री उड़ान में सहयात्रियों के साथ मंगलवार को अंतरिक्ष में पहुंचे। एक हफ्ते से कुछ ही ज्यादा समय के अंदर अपने यान से अंतरिक्ष में पहुंचने वाले वह दूसरे अरबपति बन गए हैं। अमेजन कंपनी के संस्थापक के साथ इस उड़ान में चुनिंदा लोग मौजूद रहे जिनमें उनके भाई, नीदरलैंड्स का रहने वाला 18 वर्षीय एक युवक और टेक्सास में रहने वाली 82 वर्षीय पायलट शामिल हैं। इस सफर में ग्रह से बाहर जाने वाले सबसे युवा और सबसे बुजुर्ग उनके साथी बने।

इसे भी पढ़ें: कोरोना के डेल्टा स्वरूप को लेकर सचेत रहने की जरूरत, मौत के मामलों में आई काफी कमी: जो बाइडेन

अमेरिका के पहले अंतरिक्ष यात्री के नाम पर बना ब्ल्यू ओरिजिन का न्यू शेपर्ड रॉकेट सुदूरवर्ती पश्चिमी टेक्सॉस से रवाना हुआ। रॉकेट ने अपोलो 11 के चांद पर उतरने की 52वीं वर्षगांठ पर यात्रियों के साथ अपना पहला सफर किया। बेजोस ने इस तारीख के ऐतिहासिक महत्व की वजह से इसे चुना था। बेजोस हालांकि अंतरिक्ष पर्यटन की दिशा में शुरुआती शख्स बनने से नौ दिन से चूक गए जब रिचर्ड ब्रैनसन के वर्जिन गैलेक्टिक ने 11 जुलाई को अंतरिक्ष में पहुंचकर बाजी मार ली थी। रॉकेट पूरी तरह स्वचालित है और ऐसे में उड़ान भरने और नीचे आने के लिये उसके अंदर प्रशिक्षित कर्मियों के होने की कोई आवश्यकता नहीं है। इस उड़ान में कुल 10 मिनट का समय लगने की उम्मीद है। ब्रैनसन के वर्जिन गैलेक्टिक रॉकेट विमान के संचालन के लिये दो पायलटों की आवश्यकता होती है।

इसे भी पढ़ें: अमेरिका ने ड्रोन हमले में मिलिशिया के ट्रक को नष्ट किया : मिलिशिया अधिकारी

बेजोस करीब 66 मील (106 किलोमीटर) की ऊंचाई तक पहुंचने का लक्ष्य कर रहे हैं जो 11 जुलाई को रिचर्ड ब्रैनसन की उड़ान द्वारा तय ऊंचाई से 10 मील (16 किलोमीटर) ज्यादा है। करीब 60 फीट (18 मीटर) के रॉकेट ने कैप्सूल को पर्याप्त ऊंचाई तक पहुंचाने के लिये आवाज की गति से तीन गुना ज्यादा रफ्तार दी और इसके बाद वह लंबवत लैंडिंग के लिये अलग हो हुआ। इस कैप्सूल में पर्याप्त जगह है और यात्रियों को इसमें तीन से चार मिनट तक भारहीनता का लुत्फ उठाने को मिलेगा। बेजोस के साथ इस सफर में उनके साथ वैली फंक भी हैं। वह उन 13 महिला पायलटों में शामिल हैं जिन्होंने 1960 के दशक में नासा के पूर्ण पुरुष अंतरिक्षयात्री कोर में नासा के वह सभी परीक्षण प्राप्त किये थे जो उनके पुरुष साथियों ने लेकिन उन्हें कभी अंतरिक्ष में जाने का मौका नहीं मिला। इसके अलावा कंपनी के पहले भुगतान कर सीट हासिल करने वाले युवा ओलिवर डेमन भी इस उड़ान पर थे। ब्ल्यू ओरिजिन के सीईओ बॉब स्मिथ ने कहा कि इस साल के अंत तक दो और यात्री उड़ानों का लक्ष्य है।