भारत-बांग्लादेश सीमा पर हत्याएं ‘दुर्भाग्यपूर्ण’ : बांग्लादेश के विदेश मंत्री मोमेन

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  नवंबर 21, 2021   08:48
भारत-बांग्लादेश सीमा पर हत्याएं ‘दुर्भाग्यपूर्ण’ : बांग्लादेश के विदेश मंत्री मोमेन
प्रतिरूप फोटो

एक सवाल के जवाब में मोमेन ने संवाददाताओं से कहा, ‘‘यह भारत के लिए शर्मनाक और बांग्लादेश के लिए दुर्भाग्यपूर्ण है।’’ उन्होंने दावा किया कि पश्चिम बंगाल में नागरिक समाज एवं सामान्य लोगों ने भी इस मुद्दे पर चिंता जताई है।

ढाका| बांग्लादेश के विदेश मंत्री ए. के. अब्दुल मोमेन ने भारत-बांग्लादेश सीमा पर हत्याओं को ‘‘दुर्भाग्यपूर्ण’’ बताया क्योंकि भारत की सीमा पर तैनात बल घातक हथियारों का इस्तेमाल करते हैं जबकि शीर्ष स्तर पर आश्वासन दिया गया है कि सीमा प्रबंधन में गैर घातक हथियारों का इस्तेमाल होगा।

पश्चिम बंगाल के कूचबिहार जिले में शुक्रवार की सुबह भारत-बांग्लादेश सीमा पर दो बांग्लादेशी नागरिकों की हत्या के बाद मोमेन का बयान आया है। दोनों को बीएसएफ के गश्ती दल ने पशुओं की तस्करी से रोका जिसके बाद उन्होंने दल पर हमला कर दिया।

इसे भी पढ़ें: बांग्लादेश में पहली बार एक दिन में कोरोना से कोई मौत नहीं

कोलकाता एवं नयी दिल्ली से प्राप्त खबरों के अनुसार, जिला पुलिस ने दावा किया कि घटना में एक भारतीय नागरिक सहित तीन लोगों की मौत हो गई। सीमा सुरक्षा बल (बीएसएफ) का एक कर्मचारी भी घायल हो गया।

दक्षिण पश्चिम बांग्लादेश के तुंगीपारा में देश के संस्थापक शेख मुजीबुर रहमान के संग्रहालय के दौरा करने के दौरान एक सवाल के जवाब में मोमेन ने संवाददाताओं से कहा, ‘‘यह भारत के लिए शर्मनाक और बांग्लादेश के लिए दुर्भाग्यपूर्ण है।’’ उन्होंने दावा किया कि पश्चिम बंगाल में नागरिक समाज एवं सामान्य लोगों ने भी इस मुद्दे पर चिंता जताई है।

विदेश मंत्री ने कहा, ‘‘राज्य के आम आदमी, बुद्धिजीवियों, पत्रकारों और कलाकारों ने सीमा पर किसी भी तरह की हत्या को रोकने की हाल में मांग उठाई।’’ मंत्री ने कहा, ‘‘हम सीमा पर किसी की हत्या नहीं चाहते, चाहे वह बांग्लादेशी हो या भारतीय।’’

इसे भी पढ़ें: बाइडन ने गुरू नानक जयंती पर सिख समुदाय के लोगों को शुभकामनाएं दीं

उन्होंने कहा कि ढाका उम्मीद करता है कि भारतीय अधिकारी सीमा पर ‘‘बिल्कुल हत्या नहीं होना’’सुनिश्चित करेंगे। मोमेन ने कहा कि उच्चतम स्तर पर घातक हथियारों का इस्तेमाल नहीं करने के आश्वासन के बावजूद इस निर्णय को क्यों नहीं लागू किया जा रहा है।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।



Prabhasakshi logoखबरें और भी हैं...

अंतर्राष्ट्रीय

झरोखे से...