पाकिस्तान में करीब 1 महीने बाद कोरोना के एक दिन में सबसे कम मामले

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  जून 26, 2020   18:19
पाकिस्तान में करीब 1 महीने बाद कोरोना के एक दिन में सबसे कम मामले

पाकिस्तान में करीब एक महीने बाद कोरोना वायरस के एक दिन में सबसे कम मामले आए है।राष्ट्रीय स्वास्थ्य सेवा मंत्रालय की ओर से जारी आंकड़ों के मुताबिक पिछले 24 घंटों में कोविड-19 से 59 लोगों की मौत हुई जिसके बाद मृतक संख्या 3,962 हो गई है। अब तक 84,168 मरीज बीमारी से स्वस्थ हो चुके हैं।

इस्लामाबाद। पाकिस्तान में लगभग एक महीने बाद शुक्रवार को कोरोना वायरस के एक दिन में सबसे कम 2,775 मामले दर्ज किए गए। नये मामले सामने आने के बाद देश में संक्रमण के कुल मामले 1,95,745 हो गए हैं। एक दिन में सबसे ज्यादा 6,825 नये मामले 13 जून को सामने आए थे। वहीं 29 मई को, पाकिस्तान में सबसे कम 2,429 मामले सामने आए थे। राष्ट्रीय स्वास्थ्य सेवा मंत्रालय की ओर से जारी आंकड़ों के मुताबिक पिछले 24 घंटों में कोविड-19 से 59 लोगों की मौत हुई जिसके बाद मृतक संख्या 3,962 हो गई है। अब तक 84,168 मरीज बीमारी से स्वस्थ हो चुके हैं। कोविड-19 के सबसे अधिक 75,168 मरीज सिंध में हैं। इसके बाद पंजाब में 71,987, खैबर पख्तूनख्वा में 24,303, इस्लामाबाद में 11,981, बलोचिस्तान में 9,946, गिलगित-बाल्तिस्तान में 1,398 और पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर में 962 मरीज हैं।

इसे भी पढ़ें: आतंकियों का समर्थक पाकिस्तान, मुशर्रफ से इमरान तक शान में पढ़ चुके कसीदे

अब तक अधिकारियों ने 11,93,017 नमूनों की जांच की है जिसमें से 21,041 नमूनों की जांच पिछले 24 घंटों में की गई है। इस बीच, पाकिस्तान ने विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) से आगामी ईद-उल-अजहा के लिए दिशा-निर्देश तैयार करने में मदद मांगी है, जब कुर्बानी के लिए जानवरों को बेचे जाने के लिए देश भर में मवेशी बाजार लगते हैं। राष्ट्रीय स्वास्थ्य सेवा पर प्रधानमंत्री के विशेष सहायक जफर मिर्जा ने डब्ल्यूएचओ के क्षेत्रीय निदेशक डॉ अहमद अल मंधारी और उनकी टीम के साथ वीडियो लिंक के जरिए बृहस्पतिवार को हुई बैठक में दिशा-निर्देश तैयार करने के लिए मदद मांगी। मिर्जा ने कहा कि पाकिस्तान ठोस एवं समन्वित राष्ट्रीय प्रतिक्रिया के जरिए कोविड-19 से लड़ रहा है। प्रधानमंत्री इमरान खान ने कोरोना वायरस संकट से निपटने के अपने सरकार के तरीके का यह कहते हुए बचाव किया कि बीमारी की शुरुआत के बाद से ही आधिकारिक नीतियों में कोई भ्रम या विरोधाभास नहीं है।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।



Prabhasakshi logoखबरें और भी हैं...

अंतर्राष्ट्रीय

झरोखे से...