सिर पर साफा और हाथों में मोर्टार लिए दिखे जो बाइडेन, तालिबान को फिर से महान बनाने का भी दिया गया क्रेडिट, जानें क्या है पूरा मामला

सिर पर साफा और हाथों में मोर्टार लिए दिखे जो बाइडेन, तालिबान को फिर से महान बनाने का भी दिया गया क्रेडिट, जानें क्या है पूरा मामला

अमेरिकी राज्य पेंसिल्वेनिया में बाइडेन का विरोध करते हुए पोस्टर लगाए गए हैं। इनमें बाइडेन को तालिबान के लड़ाकों की ड्रेस में दिखाया गया है। जिसमें वे सिर पर साफा बांधे और हाथों में मोर्टार थामे नजर आ रहे है। इसके साथ ही पोस्टर में लिखा है- 'मेकिंग तालिबान ग्रेट अगेन'।

अफगानिस्तान पर तालिबान के कब्जे के बाद से ही अमेरिका में डेमोक्रेट राष्ट्रपति के प्रति नाराजगी देखने को मिल रही है। बाइडेन को इसकी वजह से खुद के लिए तालिबानी आतंकी जैसे शब्द भी सुनना पड़ रहा है। अफगानिस्तान में 20 साल का युद्ध क्या खत्म हुआ राष्ट्रपति बाइडेन के लिए स्थितियां ही पलट गई है। ठीक एक साल पहले तक वो लोकप्रियता के नए आयामों को छू रहे थे। लेकिन एक साल बाद लोग उन्हें आतंकी तक कहने से पीछे नहीं हट रहे हैं। ताजा घटना उनके गृह नगर पेंसिल्वेनिया की है। जहां बिल बोर्ड लगे हैं और उन्हें तालिबानी आतंकी की तरह दिखाया गया है। 

इसे भी पढ़ें: अमेरिका के राहुल गांधी हैं बाइडेन? कभी मीटिंग में बंद आंखों वाला वीडियो होता है वायरल, कभी भूल जाते हैं ऑस्ट्रेलियाई PM का नाम

अमेरिकी राज्य पेंसिल्वेनिया में बाइडेन का विरोध करते हुए पोस्टर लगाए गए हैं। इनमें बाइडेन को तालिबान के लड़ाकों की ड्रेस में दिखाया गया है। जिसमें वे सिर पर साफा बांधे और हाथों में मोर्टार थामे नजर आ रहे है। इसके साथ ही पोस्टर में लिखा है- 'मेकिंग तालिबान ग्रेट अगेन'। ट्रंप के समर्थक माने जाने वाले पेंसिल्वेनिया के पूर्व सीनेटर स्कॉट वैगनर ने बाइडेन के खिलाफ पोस्टर लगवाए हैं। लगभग 15,000 डॉलर की लागत से राजमार्गों पर एक दर्जन से अधिक बिलबोर्ड किराए पर लेकर लगवाए गए हैं।  

इसे भी पढ़ें: PM मोदी 24 सितंबर को क्वाड बैठक में होंगे शामिल, अमेरिकी राष्ट्रपति से भी होगी द्विपक्षीय बातचीत

बता दें अमेरिका के पूर्व राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के चुनावी अभियान के प्रचलित स्लोगन- 'मेक अमेरिका ग्रेट अगेन', की तर्ज पर ही होर्डिंग में 'मेकिंग तालिबान ग्रेट अगेन' लिखा गया है। यॉर्क डेली रिकॉर्ड की रिपोर्ट के अनुसार पूर्व सीनेटर वैगनर ने कई दिग्गजों से मुलाकात की, जिन्होंने वर्षों में अफगानिस्तान में अपने सबसे लंबे युद्ध में संयुक्त राज्य की सेवा की। वैगनर ने कहा कि इनमें से कई सैनिकों ने अपने पूरे शरीर - अंगों और मानस - को इस कारण के लिए बलिदान कर दिया।






Prabhasakshi logoखबरें और भी हैं...

अंतर्राष्ट्रीय

झरोखे से...