मॉडर्ना का प्रयोगात्मक कैंसर टीका मेलानोमा का इलाज करता है, रोकथाम नहीं

cancer vaccine
प्रतिरूप फोटो
Google Creative Commons
हालाँकि यह शायद बहुत अच्छी खबर है, लेकिन मुझे ऐसा लगता है कि शीर्षक अनजाने में भ्रामक हो सकते हैं। जिन टीकों के बारे में अधिकांश लोग जानते हैं वह दरअसल बीमारी को रोकने के लिए होते हैं, जबकि यह प्रयोगात्मक नया त्वचा कैंसर टीका केवल उन रोगियों का इलाज करता है जो पहले से बीमार हैं।

 मीडिया आउटलेट्स ने मेलेनोमा नामक एक आक्रामक प्रकार के त्वचा कैंसर के इलाज के लिए बायोटेक कंपनी मॉडर्ना द्वारा विकसित एक नए प्रायोगिक टीके के नैदानिक ​​परीक्षणों के उत्साहजनक नतीजों की सूचना दी है। हालाँकि यह शायद बहुत अच्छी खबर है, लेकिन मुझे ऐसा लगता है कि शीर्षक अनजाने में भ्रामक हो सकते हैं। जिन टीकों के बारे में अधिकांश लोग जानते हैं वह दरअसल बीमारी को रोकने के लिए होते हैं, जबकि यह प्रयोगात्मक नया त्वचा कैंसर टीका केवल उन रोगियों का इलाज करता है जो पहले से बीमार हैं।

अगर यह कैंसर को नहीं रोकता है तो इसे वैक्सीन क्यों कहा जाता है? मैं एक जैव रसायनज्ञ और आण्विक जीवविज्ञानी हूं जो स्वास्थ्य और रोग में रोगाणुओं की भूमिका का अध्ययन कर रहा हूं। मैं मेडिकल छात्रों को कैंसर जेनेटिक्स भी पढ़ाता हूं और मुझे इस बात में दिलचस्पी है कि जनता विज्ञान को कैसे समझती है। जबकि निवारक और उपचारात्मक टीकों को विभिन्न स्वास्थ्य देखभाल लक्ष्यों के लिए इस्तेमाल किया जाता है, वे दोनों प्रतिरक्षा प्रणाली को एक विशिष्ट रोग स्रोत को पहचानने और उससे लड़ने के लिए प्रशिक्षित करते हैं जो बीमारी का कारण बनता है।

निवारक टीके कैसे काम करते हैं? वायरस या बैक्टीरिया के कारण होने वाली बीमारियों को रोकने के लिए अधिकांश टीके स्वस्थ लोगों को बीमार होने से पहले दिए जाते हैं। इनमें पोलियो, खसरा, कोविड-19 और कई अन्य बीमारियों से बचाव करने वाले टीके शामिल हैं। शोधकर्ताओं ने मानव पेपिलोमावायरस और एपस्टीन-बार वायरस जैसे रोगाणुओं के कारण होने वाले कुछ प्रकार के कैंसर को रोकने के लिए भी टीके विकसित किए हैं।

आपकी प्रतिरक्षा प्रणाली कुछ रोगाणुओं और एलर्जी जैसी वस्तुओं को पहचानती है जो आपके शरीर का हिस्सा नहीं होती हैं और उन पर हमला करने और उन्हें नष्ट करने के लिए कोशकीय घटनाओं की एक श्रृंखला शुरू करती है। इस प्रकार, एक वायरस या जीवाणु जो शरीर में प्रवेश करता है उसे किसी विदेशी के रूप में पहचाना जाता है और माइक्रोबियल आक्रमणकारी से लड़ने के लिए प्रतिरक्षा प्रतिक्रिया को तैयार करता है। इसके बाद यह सेलुलर मेमोरी में दर्ज हो जाता है, जो अगली बार उसी सूक्ष्म जीव के घुसपैठ करने पर और भी तेज प्रतिरक्षा प्रतिक्रिया देता है।

समस्या यह है कि कभी-कभी प्रारंभिक संक्रमण गंभीर बीमारी का कारण बनता है इससे पहले कि प्रतिरक्षा प्रणाली इसके खिलाफ प्रतिक्रिया दे सके। जबकि आप दूसरे संक्रमण से बेहतर रूप से सुरक्षित हो सकते हैं, क्योंकि आपको पहले संक्रमण के संभावित हानिकारक परिणामों का सामना करना पड़ा है। यहीं पर निवारक टीके काम आते हैं। एक हानिरहित संस्करण या सूक्ष्म जीव के एक हिस्से को प्रतिरक्षा प्रणाली में पेश करके, शरीर रोग पैदा किए बिना इसके खिलाफ एक प्रभावी प्रतिक्रिया खड़ी करनासीख सकता है।

उदाहरण के लिए, गार्डासिल-9 वैक्सीन ह्यूमन पेपिलोमावायरस या एचपीवी से सुरक्षा करता है, जो सर्वाइकल कैंसर का कारण बनता है। इसमें वायरस में पाए जाने वाले प्रोटीन घटक होते हैं जो बीमारी का कारण नहीं बन सकते हैं लेकिन एक प्रतिरक्षा प्रतिक्रिया उत्पन्न करते हैं जो भविष्य में एचपीवी संक्रमण से बचाता है, जिससे सर्वाइकल कैंसर को रोका जा सकता है। मॉडर्ना कैंसर वैक्सीन कैसे काम करती है? सर्वाइकल कैंसर के विपरीत, त्वचा मेलेनोमा एक वायरल संक्रमण के कारण नहीं होता है, नवीनतम साक्ष्य इस बात की गवाही देते हैं।

न ही मॉडर्ना का प्रायोगिक टीका कैंसर को रोकता है जैसा कि गार्डासिल-9 करता है। मॉडर्ना वैक्सीन एक आक्रमणकारी से लड़ने के लिए प्रतिरक्षा प्रणाली को उसी तरह प्रशिक्षित करती है जिस तरह से निवारक टीके करते हैं। हालांकि, इस मामले में आक्रमणकारी एक ट्यूमर है, जो सामान्य कोशिकाओं का एक दुष्ट संस्करण है जो असामान्य प्रोटीन को आश्रय देता है जिसे प्रतिरक्षा प्रणाली विदेशी और हमले के रूप में पहचान सकती है।

ये असामान्य प्रोटीन क्या हैं और ये कहाँ से आते हैं? सभी कोशिकाएं प्रोटीन और अन्य जैविक अणुओं जैसे कार्बोहाइड्रेट, लिपिड और न्यूक्लिक एसिड से बनी होती हैं। कैंसर अनुवांशिक सामग्री, या डीएनए के क्षेत्रों में उत्परिवर्तन के कारण होता है, जो प्रोटीन बनाने के निर्देशों को कूटबद्ध करता है। उत्परिवर्तित जीन का परिणाम असामान्य प्रोटीन में होता है जिसे नियोएन्टीजेन कहा जाता है जिसे शरीर विदेशी के रूप में पहचानता है। यह नवजात ट्यूमर से लड़ने के लिए प्रतिरक्षा प्रतिक्रिया को सक्रिय कर सकता है। हालांकि, कभी-कभी प्रतिरक्षा प्रतिक्रिया कैंसर कोशिकाओं को वश में करने में विफल हो जाती है,।

ऐसा या तो इसलिए होता है कि प्रतिरक्षा प्रणाली एक मजबूत प्रतिक्रिया तैयार करने में असमर्थ होती है या कैंसर कोशिकाओं ने प्रतिरक्षा प्रणाली की सुरक्षा को दरकिनार करने का एक तरीका खोज लिया होता है। मॉडर्ना के प्रयोगात्मक मेलेनोमा वैक्सीन में आनुवंशिक जानकारी होती है जो ट्यूमर में नियोएन्टीजेन्स के हिस्से को कूटबद्ध करती है। यह आनुवंशिक जानकारी एमआरएनए के रूप में होती है, जो कि मॉडर्ना और फाइजर-बायोएनटेक कोविड-19 टीकों में इस्तेमाल किया जाने वाला ही रूप है।

महत्वपूर्ण रूप से, टीका कैंसर का कारण नहीं बन सकता है, क्योंकि यह प्रोटीन के केवल छोटे, गैर-कार्यात्मक भागों के लिए कूटबद्ध करता है। जब शरीर में उन प्रोटीन के टुकड़ों में अनुवांशिक सूचना पहुंचाई जाती है, तो वे ट्यूमर के खिलाफ हमला करने के लिए प्रतिरक्षा प्रणाली को ट्रिगर करते हैं। आदर्श रूप से, यह प्रतिरक्षा प्रतिक्रिया ट्यूमर को सिकुड़ने और गायब होने का कारण बनती है। प्रायोगिक एमआरएनए मेलेनोमा वैक्सीन, जो वर्तमान में अभी भी शुरुआती चरण के नैदानिक ​​परीक्षणों में है, व्यक्तिगत चिकित्सा की नई सीमा का एक उदाहरण है। रोगों के आणविक आधार को समझकर, शोधकर्ता यह पता लगा सकते हैं कि लोगों के बीच उनके अंतर्निहित कारण कैसे भिन्न होते हैं, और उन रोगों के खिलाफ व्यक्तिगत चिकित्सीय विकल्प प्रदान करते हैं।

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


अन्य न्यूज़