नेपाल ने महाकाली नदी की घटना पर भारत को राजनयिक नोट भेजा

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  सितंबर 8, 2021   06:08
नेपाल ने महाकाली नदी की घटना पर भारत को राजनयिक नोट भेजा
प्रतिरूप फोटो

मामला भारतीय फौज (एस एस बी) की उपस्थिति में हुए नेपाली नागरिक की मौत और भारतीय हेलीकाप्टर के नेपाली क्षेत्र में उड़ान भरने से सम्बंधित है। नेपाल ने अपने राजनयिक नोट में कार्रवाई की मांगे की है ।

 नेपाल ने पिछले महीने कथित तौर पर भारतीय अर्द्धसैनिक बल एसएसबी की मौजूदगी में महाकाली नदी में एक नेपाली व्यक्ति के लापता होने तथा एक भारतीय हेलीकॉप्टर के नेपाली वायु क्षेत्र में उड़ान भरने के आरोपों के संबंध में भारत सरकार को एक राजनयिक नोट भेजा है।

भारत की सीमा से लगे धारचूला जिले की ब्यास नगर पालिका के रहने वाले 30 वर्षीय जय सिंह धामी30 जुलाई को महाकाली नदी में गिर गये थे। यह नदी भारत के साथ नेपाल की पश्चिमी सीमा पर बहती है। धामी रस्सी की मदद से नदी पार करने की कोशिश कर रहे थे। नेपाली मीडिया की खबरों में आरोप लगाया गया है कि वह नदी में गिर गये और लापता हो गये क्योंकि सशस्त्र सीमा बल (एसएसबी) जवानों ने कथित तौर पर नदी के दूसरी तरफ से रस्सी काट दी थी।

नेपाल के गृह मंत्रालय द्वारा गठित जांच समिति ने कहा कि घटना के दौरान भारत का बल एसएसबी उपस्थित था। यहां विदेश मंत्रालय के एक अधिकारी ने नाम जाहिर नहीं होने की शर्त पर कहा, ‘‘नेपाल के विदेश मंत्रालय ने मामले के संबंध में भारतीय दूतावास, काठमांडू के माध्यम से भारत सरकार को एक राजनयिक नोट भेजा।’’

सत्तारूढ़ पार्टी के नेताओं और विपक्ष दोनों ने इस मुद्दे को उठाया है। अंतत: शेर बहादुर देउबा सरकार को राजनयिक नोट भेजने का फैसला लेना पड़ा। विदेश मंत्रालय के सूत्रों ने कहा कि भारतीय वायु सेना के एक हेलीकॉप्टर द्वारा कथित रूप से नेपाल के हवाई क्षेत्र में उड़ान भरने से संबंधित विषय को भी पत्र में उठाया गया है।

विदेश मंत्रालय ने नेपाली शख्स के लापता होने के मामले में सरकारी जांच समिति की रिपोर्ट के संबंध में गृह मंत्रालय से प्राप्त पत्र के आधार पर भारत को राजनयिक नोट लिखा। जांच समिति ने सिफारिश की है कि इस मुद्दे को राजनयिक चैनलों के माध्यम से भारत सरकार के साथ उठाया जाए और दोषियों के खिलाफ कार्रवाई करने के साथ ही पीड़ित के परिवार को मुआवजा प्रदान किया जाए।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।



Prabhasakshi logoखबरें और भी हैं...

अंतर्राष्ट्रीय

झरोखे से...