एक मिसाइल परीक्षण स्थल को नष्ट करेगा उत्तर कोरिया: डोनाल्ड ट्रंप

By प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क | Publish Date: Jun 13 2018 4:37PM
एक मिसाइल परीक्षण स्थल को नष्ट करेगा उत्तर कोरिया: डोनाल्ड ट्रंप
Image Source: Google

एबीसी न्यूज ने अमेरिकी राष्ट्रपति के हवाले से बताया, ‘‘हां, वह परमाणु निरस्त्रीकरण कर रहे हैं, मेरा मतलब है कि वह समूची जगह को परमाणु रहित कर रहे हैं।

वॉशिंगटन। अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने कहा है कल उत्तर कोरियाई नेता किम जोंग - उन के साथ हुई उनकी शिखर वार्ता में प्योंगयांग अपने एक मिसाइल परीक्षण स्थल को नष्ट करने पर सहमत हो गया और वह अपने अन्य मिसाइल परीक्षण स्थलों को नष्ट करने की योजना की घोषणा अगले कुछ दिनों में करेगा। कल सिंगापुर में हुई शिखर वार्ता में ट्रंप और किम ने एक दस्तावेज पर दस्तखत किए थे जिसमें उत्तर कोरिया ने अमेरिकी सुरक्षा गारंटियों की एवज में ‘‘कोरियाई प्रायद्वीप के पूर्ण निरस्त्रीकरण’’ की प्रतिबद्धता जताई है। ट्रंप ने कहा कि किम ने उन्हें बताया कि वह परमाणु हथियारों से तौबा कर रहे हैं। एबीसी न्यूज ने अमेरिकी राष्ट्रपति के हवाले से बताया, ‘‘हां, वह परमाणु निरस्त्रीकरण कर रहे हैं, मेरा मतलब है कि वह समूची जगह को परमाणु रहित कर रहे हैं। मेरा मानना है कि वह अब शुरू करने वाले हैं। अन्य मिसाइल (परीक्षण) स्थलों के बारे में वे अगले कुछ दिनों में घोषणा करेंगें।’’

 
ट्रंप ने कहा कि वह एक मिसाइल इंजन परीक्षण स्थल नष्ट करने पर भी सहमत हुए हैं।उन्होंने कहा कि अमेरिका ने उत्तर कोरिया को सुरक्षा गारंटी मुहैया कराने का यकीन दिलाया है। ।अमेरिकी राष्ट्रपति ने कहा, ‘‘हमने उन्हें (सुरक्षा गारंटी) दी है, मैं खास चीजें नहीं बताना चाहता, लेकिन हमने उन्हें दिया है, वह खुश होंगे।’’ एक सवाल के जवाब में ट्रंप ने कहा कि कोरियाई प्रायद्वीप के परमाणु निरस्त्रीकरण का मतलब यह नहीं है कि अमेरिका ने दक्षिण कोरिया को जो परमाणु संरक्षण दे रखा है उस पर कोई बातचीत हुई है। ।बहरहाल , ट्रंप ने कहा कि उन्होंने किम के साथ हुई वार्ता में दक्षिण कोरिया से अमेरिकी सैनिकों की वापसी के बारे में कोई चर्चा नहीं की। 
 
उन्होंने कहा, ‘‘नहीं, हमने उस पर कोई चर्चा नहीं की। लेकिन युद्ध के खेल नहीं खेलने जा रहे। आप जानते हैं कि मैंने युद्ध के खेल को रोकना चाहा है। मुझे लगा कि वह काफी उकसावे वाले हैं। लेकिन मैं यह भी मानता हूं कि वे काफी महंगे हैं।’’ सिंगापुर में अपनी प्रेस कांफ्रेंस में ट्रंप ने कहा कि वह दक्षिण कोरिया में अमेरिकी सैन्य अभ्यासों को रोक देंगे। ट्रंप की इस घोषणा को प्योंगयांग को दी गई बड़ी रियायत के तौर पर देखा जा रहा है, क्योंकि वह लंबे समय से दावा करता रहा है कि यह सैन्य अभ्यास उस पर हमले की तैयारियों के तहत किए जा रहे हैं। ।युद्ध को काफी उकसाने वाला और अर्थव्यवस्था के लिए नुकसानदेह करार देते हुए ट्रंप ने कहा कि अमेरिका युद्ध के खेल नहीं खेलने वाला। 


 

रहना है हर खबर से अपडेट तो तुरंत डाउनलोड करें प्रभासाक्षी एंड्रॉयड ऐप