आखिर किसने दिया रूस के विपक्षी नेता नवलनी को ज़हर? जांच में जुटी पुलिस

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  अगस्त 27, 2020   18:42
आखिर किसने दिया रूस के विपक्षी नेता नवलनी को ज़हर? जांच में जुटी पुलिस

रूस में विपक्ष के नेता नवलनी के बीमार होने के कारणों का पता लगाने के लिये जांच के आदेश दिए गए है।सप्ताहांत में उन्हें बर्लिन के एक अस्पताल में स्थानांतरित किया गया था जहां डॉक्टरों को उनके शरीर में ऐसे रसायन मिले जिनसे जहर दिए जाने का शक पैदा हुआ।

मास्को। रूस की पुलिस ने विपक्षी नेता अलेक्सी नवलनी के अकस्मात बीमार होने के कारणों की प्रारंभिक जांच करने की घोषणा बृहस्पतिवार को की। नवलनी को संदिग्ध रूप से जहर दिए जाने के बाद वह पिछले सप्ताह कोमा में चले गए थे। रूस के गृह मंत्रालय की साइबेरियाई शाखा की ओर से बृहस्पतिवार को जारी एक वक्तव्य के अनुसार साइबेरिया में जांचकर्ता घटना से संबंधित सभी कड़ियों को जोड़ने का प्रयास कर रहे हैं और फॉरेंसिक अध्ययन के माध्यम से सुराग ढूंढने में लगे हैं। नवलनी, विपक्ष के नेता हैं और राष्ट्रपति पुतिन के मुखर आलोचक हैं। पिछले बृहस्पतिवार को विमान द्वारा साइबेरिया से मास्को वापस आते समय वह बीमार पड़ गए थे और उन्हें ओम्स्क शहर में अस्पताल में भर्ती कराया गया था।

इसे भी पढ़ें: चीन-अमेरिका के बीच बढ़ा तनाव, ड्रैगन ने दक्षिण चीन सागर के विवादित क्षेत्र में दागी ‘करियर मिसाइल’

सप्ताहांत में उन्हें बर्लिन के एक अस्पताल में स्थानांतरित किया गया था जहां डॉक्टरों को उनके शरीर में ऐसे रसायन मिले जिनसे जहर दिए जाने का शक पैदा हुआ। नवलनी के समर्थकों का कहना है कि उन्हें जानबूझकर जहर दिया गया। उन्होंने इसके पीछे रूस के सत्ता प्रतिष्ठान क्रेमलिन का हाथ होने का आरोप लगाया है। रूसी अधिकारियों ने इन आरोपों का खंडन किया है। नवलनी के समर्थकों ने पिछले सप्ताह रूस की जांच समिति से आग्रह किया था कि एक लोकप्रिय नेता की हत्या के प्रयास की घटना की आपराधिक दृष्टिकोण से छानबीन की जाए लेकिन अधिकारियों ने इसमें कोई रुचि नहीं दिखाई थी। जर्मन चांसलर एंजेला मर्केल, ब्रिटेन के प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन और अमेरिका के विदेश मंत्री माइक पोम्पिओ समेत कई पश्चिमी और यूरोपीय देशों के नेताओं द्वारा नवलनी मामले की तहकीकात की मांग किए जाने के बाद जांच की घोषणा की गई।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।