• पाकिस्तान में भरे हैं गधे ही गधे! संसद में गूंजे Donkey राजा के नारे

अभिनय आकाश Jun 15, 2021 12:05

पाकिस्तान में इमरान खान की सरकार बनने के बाद से पूरे मुल्क में गधों की तादाद में इजाफा होता नजर आ रहा है। पिछले तीन साल के कार्यकाल के दौरान हर साल गधों की तादाद में एक लाख का इजाफा हुआ है। बड़ी बात यह है कि इस दौरान पाकिस्तान में अन्य जानवरों की वृद्धि दर लगभग स्थिर रही है।

एक पुरानी कहावत है कि खुदा मेहरबान तो गधा पहलवान और इससे मिलते-जुलते एक जुमले की गूंज पूरे पाकिस्तान में सुनाई दे रही है। पाकिस्तान में बजट सत्र के दौरान विपक्षी पार्टियों ने इमरान सरकार को आड़े हाथों लेते हुए उनके खिलाफ एक ऐसा जुमला कसा जो देखते ही देखते पूरे पाकिस्तान में वायरल हो गया। अक्टूबर 2018  में पाकिस्तान के जाने माने लेखक और निर्देशक अजीज जिंदानी ने 'द डॉन्की किंग' नाम की एक एनिमेटेड फिल्म बनाई थी। विपक्ष ने ये जुमला पाकिस्तान की सबसे सफलतम फिल्मों में से एक 'The Donkey King'से लिया है। इसी फिल्म के जरिये पाकिस्तान की विपक्षी पार्टियां इमरान सरकार के काम-काज पर तंज कस रही हैं। अब इसके पीछे की कहानी के बारे में आपको बताते हैं।

इसे भी पढ़ें: पाकिस्तान में भारी बारिश एवं आंधी तूफान से नौ लोगों की मौत, 17 घायल

 हर साल बढ़ रहे एक लाख गधे

ये महज इत्तेफाक ही है कि पाकिस्तान में इमरान खान की सरकार बनने के बाद से पूरे मुल्क में गधों की तादाद में इजाफा होता नजर आ रहा है। पिछले तीन साल के कार्यकाल के दौरान हर साल गधों की तादाद में एक लाख का इजाफा हुआ है। बड़ी बात यह है कि इस दौरान पाकिस्तान में अन्य जानवरों की वृद्धि दर लगभग स्थिर रही है। आंकड़ों के मुताबिक वित्त वर्ष 2020-21 में गधों की संख्या बढ़कर 56 लाख से ज्यादा हो गई है। पाकिस्तान में 2020-21 के इनोनॉमिक सर्वे में बताया गया है कि देश में गधों की संख्या 55 लाख से बढ़कर 56 लाख हो गई है। इसी के साथ पाकिस्तान ने गधों की आबादी में दुनिया का तीसरा सबसे बड़ा देश होने का गौरव बरकरार रखा है। लिहाजा गधों की बढ़ती तादाद से निपटने के लिए पाकिस्तान चीन को गधे निर्यात करेगा। 

चीन में पाकिस्तानी गधो की बढ़ी डिमांड

पाकिस्तान के चीन को गधों की एक्सपोर्ट करने वाली एक हैरान करने वाली बात सामने आई है। खबरों के अनुसार चीन में पाकिस्तानी गधों की भारी डिमांड है। चीन इन्हें भारी दाम देकर खरीदता भी है। एक समझौते के अनुसार, पाकिस्तान चीन को हर साल 80 हजार गधों को भेजता है। जिनका उपयोग मांस और कई अन्य काम के लिए किया जाता है।