पाकिस्तान के प्रधानमंत्री शहबाज शरीफ नवंबर में चीन का दौरा करेंगे

Shahbaz Sharif
creative common
रक्षा मंत्रालय ने शनिवार को यह जानकारी दी। रक्षा मंत्री ख्वाजा आसिफ ने संवाददाता सम्मेलन को संबोधित करते हुए कहा कि चीनी राष्ट्रपति शी चिनफिंग ने शंघाई सहयोग संगठन (एससीओ) शिखर सम्मेलन के इतर उज्बेकिस्तान के समरकंद में एक बैठक के दौरान शरीफ को चीन आने का निमंत्रण दिया।

इस्लामाबाद। पाकिस्तान के प्रधानमंत्री शहबाज शरीफ नवंबर में चीन का दौरा करेंगे और उन्होंने रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन के मास्को आने का निमंत्रण भी स्वीकार कर लिया है। रक्षा मंत्रालय ने शनिवार को यह जानकारी दी। रक्षा मंत्री ख्वाजा आसिफ ने संवाददाता सम्मेलन को संबोधित करते हुए कहा कि चीनी राष्ट्रपति शी चिनफिंग ने शंघाई सहयोग संगठन (एससीओ) शिखर सम्मेलन के इतर उज्बेकिस्तान के समरकंद में एक बैठक के दौरान शरीफ को चीन आने का निमंत्रण दिया।

इसे भी पढ़ें: पाकिस्तान के रक्षा मंत्री ने किया खुलासा, रूस देगा पाकिस्तान को गेंहू और गैस

एससीओ का शिखर सम्मेलन शुक्रवार को संपन्न हुआ। शरीफ नवंबर के पहले सप्ताह में चीन के दौरे पर जाएंगे। आसिफ ने कहा कि रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने भी प्रधानमंत्री को मास्को आने का न्योता दिया है और यह दौरा भी होगा। रक्षा मंत्री ने कहा कि शी और शरीफ के बीच बातचीत के दौरान चीनी राष्ट्रपति ने पाकिस्तान को सदाबहार रणनीतिक मित्र बताया और 60 अरब डॉलर की चीन-पाकिस्तान आर्थिक गलियारा (सीपीईसी) परियोजना को मजबूती से आगे बढ़ाने की प्रतिबद्धता दोहराई। 

ख्वाजा आसिफ ने कहा कि एससीओ शिखर सम्मेलन से इतर शरीफ से मुलाकात के दौरान पुतिन ने यूक्रेन पर पाकिस्तान के रुख की सराहना की। आसिफ ने कहा कि एससीओ के सदस्य देशों ने अप्रत्याशित बाढ़ का सामना कर रहे पाकिस्तान का समर्थन करने की इच्छा व्यक्त की है।

इसे भी पढ़ें: शाहिद अफरीदी के बाद अब पाकिस्तान के इस दिग्गज ने खोल दी पीसीबी की पोल, बोले- 'सोता रहता है बोर्ड'

जून 2001 में शंघाई में शुरू एससीओ के आठ पूर्ण सदस्य हैं, जिनमें इसके छह संस्थापक सदस्य, चीन, कजाकिस्तान, किर्गिस्तान, रूस, ताजिकिस्तान और उज्बेकिस्तान शामिल हैं। भारत और पाकिस्तान 2017 में पूर्ण सदस्य के रूप में शामिल हुए। पाकिस्तान के चीन के साथ घनिष्ठ संबंध हैं, जबकि वह रूस के साथ संबंध सुधारने की कोशिश कर रहा है। पूर्व प्रधानमंत्री इमरान खान ने भी इस साल मास्को का दौरा किया था, लेकिन उनकी यात्रा को कोई तवज्जो नहीं मिली, क्योंकि उसी समय रूस ने यूक्रेन पर हमला किया था।

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


अन्य न्यूज़