पाकिस्तान ने कोविड-19 से मौत के आंकड़े पर डब्ल्यूएचओ की रिपोर्ट को खारिज किया

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  मई 7, 2022   17:55
पाकिस्तान ने कोविड-19 से मौत के आंकड़े पर डब्ल्यूएचओ की रिपोर्ट को खारिज किया
prabhasakshi

पाकिस्तान सरकार ने देश में कोविड-19 की वजह से हुई मौतों की संख्या पर विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) की रिपोर्ट को खारिज कर दिया है। सरकार ने आंकड़े एकत्र करने के लिए संयुक्त राष्ट्र निकाय की कार्यप्रणाली पर भी सवाल उठाया है।

 इस्लामाबाद। पाकिस्तान सरकार ने देश में कोविड-19 की वजह से हुई मौतों की संख्या पर विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) की रिपोर्ट को खारिज कर दिया है। सरकार ने आंकड़े एकत्र करने के लिए संयुक्त राष्ट्र निकाय की कार्यप्रणाली पर भी सवाल उठाया है। उसने मौतों की संख्या जुटाने के लिए इस्तेमाल किये गये सॉफ्टवेयर में त्रुटि की आशंका जताई है। डब्ल्यूएचओ की हाल में आई एक रिपोर्ट में दावा किया गया था कि पाकिस्तान में कोविड से 2,60,000 लोग मारे गए, लेकिन आधिकारिक आंकड़ों के अनुसार पाकिस्तान में मरने वालों की संख्या 30,369 थीं।

इसे भी पढ़ें: सीबीआई ने बैंक धोखाधड़ी मामले में पंजाब से आप विधायक के परिसरों पर छापेमारी की

‘समा न्यूज’ ने स्वास्थ्य मंत्री अब्दुल कादिर पटेल के हवाले से अपनी एक खबर में कहा, ‘‘हम कोविड से हुई मौतों पर ‘मैन्युअल’ रूप से आंकड़े एकत्र कर रहे हैं, इसमें कुछ अंतर हो सकता है लेकिन यह सैकड़ों हजारों में नहीं हो सकता। यह पूरी तरह से निराधार है।’’ डब्ल्यूएचओ ने बृहस्पतिवार को कहा था कि पिछले दो वर्षों में लगभग 1.5 करोड़ लोगों ने या तो कोरोना वायरस के संक्रमण से या स्वास्थ्य प्रणालियों पर पड़े इसके प्रभाव के कारण जान गंवाई। दक्षिण पूर्व एशिया, यूरोप और अमेरिका में ज्यादातर लोगों की मौत हुईं।

इसे भी पढ़ें: एलपीजी सिलेंडर की कीमत घटाकर 2014 के स्तर पर लाई जाए: कांग्रेस

पटेल ने कहा कि सरकार ने विश्व स्वास्थ्य निकाय के आंकड़े को खारिज करते हुए उसे गणना प्रक्रिया के बारे में बताया है। ‘समा न्यूज’ की खबर के अनुसार, सरकार को डब्ल्यूएचओ द्वारा मौतों की संख्या जुटाने के लिए इस्तेमाल किये गये सॉफ्टवेयर में त्रुटि का संदेह है। इस बीच, स्वास्थ्य से जुड़े मामलों पर तत्कालीन प्रधानमंत्री के पूर्व विशेष सहायक फैसल सुल्तान ने कहा कि पाकिस्तान में कोरोना वायरस से होने वाली मौतों पर डब्ल्यूएचओ का आंकड़ा “विश्वसनीय नहीं है”।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।