पाकिस्तान ने बॉन्ड जारी करके लिया कर्ज, लेकिन बहुत भारी पड़ेगा चुकाना

imran khan
अगर पाकिस्तानी सरकार इस बांड का पैसा 7 सालों में या समय नहीं दे पाती तो गिरवी रखा हुआ मोटर वे पाक सरकार का ना होकर दूसरे देशों के नागरिकों के पास चला जाएगा। इससे पाकिस्तान की संप्रभुता पर भी आंच आ सकती है।

पाकिस्तान अपनी बिगड़ रही आर्थिक सेहत के कारण बहुत बुरे हालातों से गुजर रहा है। पाकिस्तान में जो आज हालात बन चुके हैं इसके पीछे कहीं ना कहीं इस देश के नीति निर्माताओं और सत्ता पर काबिज लोगों को जिम्मेदार माना जा सकता है। खैर खबर पर आते हैं खबर यह है कि पाकिस्तान खुद को डिफॉल्टर होने से बचाने के लिए रिकॉर्ड ब्याज दर पर कर्ज ले रहा है। पाकिस्तान ने इसके लिए इस्लामिक सुकुक बाॉन्ड जारी कर 7.95% की ब्याज दर पर एक अरब डॉलर का कर्ज लिया है। आपको बता दें ये पाकिस्तानी इतिहास में इस्लामिक बॉन्ड पर ब्याज की सबसे अधिक दर है।

पाकिस्तान सरकार बॉन्ड जारी कर लेगा 1 अरब डॉलर का कर्ज

पाकिस्तान अभी अपने पुराने कर्जो से भी उबर नहीं पाया है। उसके पास अभी देश चलाने के लिए भी पर्याप्त पैसा नहीं है। इसीलिए पाकिस्तान ने हाल ही में यह इस्लामिक बॉन्ड जारी किए हैं। इसके जरिए पाकिस्तान ने अंतरराष्ट्रीय बाजार से 7.95% की ब्याज दर से 1 अरब डॉलर का कर्ज लिया है। इतना ही नहीं पाकिस्तान सरकार ने इसके बदले एक मोटर वे को गिरवी रख दिया है।

अगर पाकिस्तानी सरकार इस बांड का पैसा 7 सालों में या समय नहीं दे पाती तो गिरवी रखा हुआ मोटर वे पाक सरकार का ना होकर दूसरे देशों के नागरिकों के पास चला जाएगा। इससे पाकिस्तान की संप्रभुता पर भी आंच आ सकती है। आपको बता दें जब भी बॉन्ड जारी करने की बात आती है तो बड़े देश इससे पैसा उठाते हैं। इसका ब्याज 3% होता है। अमेरिका तो 2.5% की ब्याज दर पर ही  पैसा उठाता है। क्योंकि अगर इससे ज्यादा ब्याज दर पर आप कर्ज लेते हैं तो वह चुका पाना मुश्किल होता है।

पाकिस्तान की सरकार अभी अपने पिछले कर्जे भी नहीं चुका पाई है। ऐसे में नया कर्ज लेकर वह अपने बदहाल अर्थव्यवस्था को गर्त में ही डाल रही है। अगर ऐसा ही रहा तो पाकिस्तान अगला श्रीलंका भी हो सकता है। जहां पर पाकिस्तानी सरकार को अपने एसेट बेचकर कर्ज चुकाना पड़ सकता है।

अन्य न्यूज़