फर्जी पायलट लाइसेंस कांड ने खोली पाकिस्तान की पोल, 262 पायलट बैठे घर

फर्जी पायलट लाइसेंस कांड ने खोली पाकिस्तान की पोल, 262 पायलट बैठे घर

पाकिस्तान के उड्ड्यन मंत्री गुलाम सरवर खान के मुताबिक लगभग एक तिहाई पायलटों को विमान उड़ाने से रोक दिया गया है। इनमें पीआईए के 141, एयर ब्लू के नौ, सेरेने एयरलाइन के 10 और शाहीन एयरलाइंस के 17 पायलट शामिल हैं। बता दें कि इनमें 109 कमर्शल विमान पायलट हैं और 153 एयरलाइन ट्रांसपोर्ट पायलट है।

पाकिस्तान इस बार फिर विवादों में बना हुआ है। जहां कोरोना की मार झेल रहा पाकिस्तान में संक्रमितों के मामले थमने का नाम नहीं ले रही है वहीं अब इस देश के पायलटों के फर्जी लाइसेंस का मामला इन दिनों काफी चर्चे में बना हुआ है। एक खबर के मुताबिक इस फर्जी लाइसेंस के मामले में पाकिस्तान ने अपने 262 पायलटों पर बैन लगा दिया है। इसको लेकर खुद पाकिस्तान को अपने पायलटों पर संदेह है कि या तो उनके पास फर्जी लाइसेंस है या फिर उन्होंने धोखाधड़ी से लाइसेंस हासिल किया है। पाकिस्तान के उड्ड्यन मंत्री गुलाम सरवर खान के मुताबिक लगभग एक तिहाई पायलटों को विमान उड़ाने से रोक दिया गया है। इनमें पीआईए के 141, एयर ब्लू के नौ, सेरेने एयरलाइन के 10 और शाहीन एयरलाइंस के 17 पायलट शामिल हैं। बता दें कि इनमें 109 कमर्शल विमान पायलट हैं और 153 एयरलाइन ट्रांसपोर्ट पायलट है। वहीं दूसरी और न्यूज एजेंसी रायटर्स के मुताबिक वियतनाम की एविएशन ऑथोरिटी ने भी पाकिस्तानी पायलटों की उड़ान पर रोक लगा दी है। इंटरनेशनल एयर ट्रांसपोर्ट एसोसिएशन के मुताबिक पाकिस्तान के पायलटों के फर्जी लाइसेंस सुरक्षा के लिए बड़ा खतरा साबित हो सकता है।

 

पीआईए का विमान हादसा थी मानवीय चूक

इंटरनेशनल एयर ट्रांसपोर्ट एसोसिएशन के रिपोर्ट के मुताबिक पाकिस्तानी पायलटों के लाइसेंस में काफी दिक्कतें है। इसी को देखते हुए पाकिस्तान ने अपने 262 पायलटों को बैन करने का फैसला लिया। वित्तीय संकट से जूझ रही पाकिस्तान इंटरनेशनल एअरलाइंस ने ये फैसला कराची विमान हादसे की प्रारंभिक जांच रिपोर्ट आने के बाद लिया है जिसमें यह दावा किया गया है कि दुर्घटना विमान के कॉकपिट में बैठे चालक दल और हवाई यातायात नियंत्रण (एटीसी) की लापरवाही की वजह से हुआ है न कि विमान में तकनीकी खामी की वजह से। पाकिस्तान इंटरनेशनल एअरलाइंस (पीआईए) के प्रवक्ता के मुताबिक इतने पायलटों को विमान उड़ाने से रोके जाने से पीआईए का उड़ान परिचालन काफी प्रभावित होगा लेकिन सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए ये फैसला लेना काफी महत्वपूर्ण है। जिओ न्यूज ने पीआईए प्रवक्ता के हवाले से कहा कि जो पायलट अपने लाइसेंस को प्रमाणित कराएंगे, उन्हें ड्यूटी पर वापस आने दिया जाएगा। प्रवक्ता ने कहा, ‘‘हमने नागरिक उड्डयन प्राधिकरण से शेष लाइसेंसों की सूची भेजने को कहा है। हमें रिपोर्ट मिल गई है और हम अपना स्तर बेहतर बनाने पर काम कर रहे हैं।’’

 

लाइसेंस के लिए पायलटों की जगह दूसरे लोगों ने दी परीक्षा    

पाकिस्तानी पायलटों के एक संघ ने शनिवार को देश के विमानन मंत्री पर निशाना साधा जिन्होंने दावा किया था कि सरकारी पाकिस्तान इंटरनेशनल एयरलाइन्स और अन्य एयरलाइन्स के लिए काम कर रहे 262 पायलटों की जगह दूसरे लोगों ने परीक्षा दी थी और उन्होंने फर्जी तरीके से लाइसेंस हासिल किए। पाकिस्तान एयरलाइन्स पायलट संघ के प्रमुख कैप्टन चौधरी सलमान ने कराची में एक संवाददाता सम्मेलन में कहा कि विमानन मंत्री गुलाम सरवर खान के दावे झूठे हैं। कराची में ही पिछले महीने पीआईए के एक विमान के दुर्घटनाग्रस्त होने से 97 लोग मारे गए थे। सलमान ने कहा कि मंत्री के आरोपों में कोई सचाई नहीं है।