तनाव: पोलैंड और बेलारूम पर फंसे हैं सैकड़ों प्रवासी

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  नवंबर 15, 2021   14:50
तनाव: पोलैंड और बेलारूम पर फंसे हैं सैकड़ों प्रवासी

पोलैंड पुलिस ने एक वीडियो जारी किया है जिसमे बेलारूम की तरफ प्रवासियों के शिविर दिख रहे हैं। पोलैंड ने बेलारूस पर प्रवासियों को पोलैंड के रास्ते यूरोपीय संघ में घुसने के लिए कहने का आरोप लगाया है।

पोलैंड और बेलारूस में चल रहे विवाद के बीच हाड़ कंपा देने वाली सर्दी में बेलारूस से रोज सैकड़ों प्रवासी पोलैंड की सीमा में प्रवेश की कोशिश में हैं। पोलैंड की सीमा प्रवेश करने की कोशिश करने वालों में ज्यादातर प्रवासी मध्यपूर्व एशिया से हैं। पिछले कुछ महीनों में पोलैंड की सीमा में बेलारूस की ओर से घुसपैठ बढ़ी है। बेलारूस  न सिर्फ इन प्रवासियों को आसान वीसा मुहैया करा रहा है बल्कि पोलैंड सीमा तक प्रवासियों को फ्लाइट से भी भेज रहा है। पोलैंड पुलिस ने एक वीडियो जारी किया है जिसमे बेलारूम की तरफ प्रवासियों के शिविर दिख रहे हैं। पोलैंड ने बेलारूस पर प्रवासियों को पोलैंड के रास्ते यूरोपीय संघ में घुसने के लिए कहने का आरोप लगाया है।

क्या है वर्तमान संकट के कारण

पोलैंड के बॉर्डर गार्ड बल ने बताया कि सीमा रेखा के पार बेलारूस की तरफ करीब 800 लोगों ने शिविर लगाए हुए हैं साथ ही करीब 4,000 प्रवासी सिमा के पास के जंगलों में  भी छुपे होने की मजबूरी है। पोलैंड के प्रधानमंत्री ने खुद सीमा पर जा कर हालात का मुआयना किया उन्होंने अधिकारियों  को  बताया कि आने वाले दिनों में तनाव बढ़ सकता है। प्रधनमंत्री की चेतावनी के बाद पोलैंड के अधिकारियों ने मंगलवार को बेलारूस के साथ लगी एक सीमा को सुबह छह बजे बंद कर दिया। गौरतलब है कि पोलैंड सरकार ने सिमा पर सिपाही, बॉर्डर गार्ड और पुलिसकर्मियों की तैनाती को बढ़ा दिया हैं। यूरोपीय संघ के तीन सदस्य देश पोलैंड, लिथुआनिया और लातविया इस प्रवासी संकट से जूझ रहे हैं।सिमा पर बढ़ते तनाव को देखते हुए लिथुआनिया ने कहा है कि वो बेलारूस के साथ अपनी सीमा पर आपातकाल लागू कर सकता है।

पोलैंड के संकट में पड़ोसी देशों का मिल रहा समर्थन

पोलैंड को इस संकट का सामना करने में पड़ोसी देशों ने मदद का हाथ आगे बढ़ाया है यूरोपीय संघ के  सदस्य देशों के साथ ही अमेरिका ने भी समर्थन का आश्वासन दिया है।

जर्मनी के निर्गामी गृह मंत्री होर्स्ट सीहोफर ने कहा है कि संघ के सभी सदस्य देशों को "एक साथ खड़ा रहना चाहिए, क्योंकि (बेलारूस के राष्ट्रपति एलेग्जेंडर) लुकाशेंको रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन के समर्थन के साथ लोगों की किस्मत का इस्तेमाल कर पश्चिम को अस्थिर करना चाहते हैं" यूरोपीय आयोग से पोलैंड की मदद करने की मांग करते हुए सिमा पर पोलैंड के द्वारा लिए गए एक्शन को सही ठहराया।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।



Prabhasakshi logoखबरें और भी हैं...

अंतर्राष्ट्रीय

झरोखे से...