कैलिफोर्निया सिख परिवार हत्या: शेरिफ ने कहा, संदिग्ध के लिए ‘नर्क में खास जगह’ है

Sikh Family
ANI Image
भारतीय मूल के एक सिख परिवार के चार सदस्यों के अपहरण और हत्या के बाद अमेरिकी राज्य कैलिफोर्निया की मर्स्ड काउंटी के शेरिफ भी बयान जारी किया है। जानकारी के अनुसार आरोपी वर्ष 2005 में हथियार चोरी का दोषी ठहराया गया था और वह 11 साल जेल की सजा काट चुका है।

लॉस एंजिलिस। अमेरिकी राज्य कैलिफोर्निया की मर्स्ड काउंटी के शेरिफ ने भारतीय मूल के एक सिख परिवार के चार सदस्यों का अपहरण करने वाले संदिग्ध को लेकर कहा कि इस व्यक्ति के लिए नर्क में खास जगह है। अपहरण के बाद एक आठ महीने की बच्ची समेत परिवार के सभी चार लोगों के शव एक बाग में मिले थे।

सरकार द्वारा सोमवार से लापता परिवार के सभी चार लोगों की मौत की पुष्टि किये जाने के बाद बुधवार रात को मर्स्ड काउंटी के शेरिफ (एक न्यायिक अधिकारी) वार्नके ने कहा कि अभी मैं जिस आक्रोश का अनुभव कर रहा हूं उसे बयां करने के लिए शब्द नहीं हैं। वार्नके ने संदिग्ध जीसस मैन्युएल सालगाडो के बारे में कहा कि इस व्यक्ति के लिए नर्क में एक खास जगह है।

11 वर्ष सजा काट चुका है आरोपी 

सालगाडो को वर्ष 2005 में हथियार चोरी का दोषी ठहराया गया था और वह 11 साल जेल की सजा काट चुका है। कैलिफोर्निया के सुधार एवं पुनर्वास विभाग ने कहा कि सालगाडो को वर्ष 2015 में जेल से रिहा किया गया था। अठतालिस वर्षीय सालगाडो ने मंलवार को हत्या के आरोप में गिरफ्तार होने के बाद एटवाटर कस्बे के पास आत्महत्या का प्रयास किया। एक कंपनी के कर्मचारी ने आठ महीने की बच्ची सहित परिवार के अन्य लोगों के शव मिलने की जानकारी देने के लिए शाम करीब 5.30 बजे (स्थानीय समयानुसार) फोन किया था।

निगरानी वीडियो में परिवार के अपहरण का कृत्य रिकॉर्ड हो गया था। शेरिफ वार्नके ने कहा कि जब जासूस मौके पर पहुंचे तो पता चला कि शव आठ महीने की आरूही, उनकी मां जसलीन कौर(27), उसके पिता जसदीप सिंह (36) और उसके चाचा अमनदीप सिंह (39) के हैं। यह सिख परिवार मूल रूप से पंजाब के होशियारपुर में हरसी पिंड गांव का निवासी था। शेरिफ ने कहा कि संदिग्ध के खुद के परिवार ने अधिकारियों से संपर्क करके बताया कि सालगाडो ने अपहरण में शामिल होने की बात स्वीकार की है। वार्नके ने कहा कि इस बात के साक्ष्य नहीं मिले हैं कि सालगाडो अपहरण से पूर्व पीड़ित परिवार को जानता था। उन्होंने कहा कि परिवार के अपहरण के बाद उसके एक सदस्य का एटीएम मर्स्ड से करीब 14 किलोमीटर उत्तर में एटवाटर में इस्तेमाल किया गया था। वार्नके ने यह भी बताया कि अहपरहरणकर्ता ने किसी तरह की फिरौती की मांग नहीं की थी।

वार्नके ने उम्मीद जताई कि जिला अटॉर्नी संदिग्ध को मौत की सजा सुनाएंगे जो एक नये वीडियो में दिख रहा है। इस वीडियो में परिवार के अपहरण के क्षण रिकॉर्ड हैं जिसमें जसदीप और अमनदीप के हांथ बांधकर उन्हें ले जाते हुए दिखाया गया है। इसके बाद इस वीडियो में जसलीन और उनकी बेटी आरूही को इमारत से ट्रक में ले जाते हुए दिखाया गया है।

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


अन्य न्यूज़