लंका संकट- राष्ट्रपति के फैसले के खिलाफ याचिकाओं पर फैसला सुरक्षित

By प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क | Publish Date: Dec 8 2018 12:18PM
लंका संकट- राष्ट्रपति के फैसले के खिलाफ याचिकाओं पर फैसला सुरक्षित
Image Source: Google

श्रीलंका के उच्चतम न्यायालय ने प्रधानमंत्री रानिल विक्रमसिंघे को बर्खास्त करने के बाद संसद भंग करने और मध्यावधि चुनाव कराने के राष्ट्रपति मैत्रीपाला सिरीसेना के विवादित

कोलंबो। श्रीलंका के उच्चतम न्यायालय ने प्रधानमंत्री रानिल विक्रमसिंघे को बर्खास्त करने के बाद संसद भंग करने, और मध्यावधि चुनाव कराने के राष्ट्रपति मैत्रीपाला सिरीसेना के विवादित फैसले के खिलाफ याचिकाओं पर निर्णय शुक्रवार को सुरक्षित रख लिया। राष्ट्रपति सिरीसेना के इन आदेशों से देश में बड़ा संवैधानिक संकट पैदा हो गया था।

यह भी पढ़ें- हीथर नोर्ट को UN में अमेरिकी राजदूत नियुक्त कर सकते हैं ट्रंप

वकीलों ने कहा कि सर्वोच्च न्यायालय ने निरंतर चार दिन 13 याचिकाओं पर सुनवाई की और शुक्रवार की सुनवाई हाल के इतिहास में उच्चतम न्यायालय की सबसे लंबी सुनवाई में से एक है।

यह भी पढ़ें- कोलंबिया के पूर्व राष्ट्रपति बेलिसारियो बेतंकूर का निधन

प्रधान न्यायाधीश नलिन परेरा की अध्यक्षता वाली सात सदस्यीय पीठ ने मंगलवार से संसद भंग करने की सिरीसेना की गजट अधिसूचना के खिलाफ दायर मौलिक अधिकार संबंधी याचिकाओं पर मौखिक दलीलें सुनना शुरू किया था।



रहना है हर खबर से अपडेट तो तुरंत डाउनलोड करें प्रभासाक्षी एंड्रॉयड ऐप   


Related Story

Related Video