टैक्स रिकॉर्ड मामले पर अमेरिकी सुप्रीम कोर्ट ने डोनाल्ड ट्रंप को दिया झटका

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  फरवरी 23, 2021   12:56
  • Like
टैक्स रिकॉर्ड मामले पर अमेरिकी सुप्रीम कोर्ट ने डोनाल्ड ट्रंप को दिया झटका

उच्चतम न्यायालय ने ट्रंप के टैक्स रिकॉर्ड मामले की जांच पर रोक लगाने से इनकार कर दिया है।एक बयान में ट्रंप ने अभियोजकों की निंदा की और कहा कि उच्चतम न्यायालय को इस संदिग्ध मुहिम में शामिल नहीं होना चाहिए था, लेकिन उसने ऐसा किया।

वाशिंगटन। अमेरिका में उच्चतम न्यायालय से पूर्व राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप को बड़ा झटका देते हुए उनके खिलाफ टैक्स रिकॉर्ड मामले की जांच पर रोक लगाने से इनकार कर दिया। अदालत के सोमवार के आदेश से लंबी कानूनी लड़ाई का समापन हो गया। इससे पहले अदालत में मामले पर लंबे समय तक सुनवाई हुई थी। अभियोजन द्वारा की जा रही आपराधिक जांच के कारण ट्रंप के कर संबंधी रिकॉर्ड को सार्वजनिक नहीं किया जा सकता। हालांकि न्यायालय का आदेश ट्रंप के लिए झटका है क्योंकि वह अपने टैक्स रिकॉर्ड को गोपनीय रखने के लिए लंबे समय से कानूनी लड़ाई लड़ रहे थे। एक बयान में ट्रंप ने अभियोजकों की निंदा की और कहा कि उच्चतम न्यायालय को इस संदिग्ध मुहिम में शामिल नहीं होना चाहिए था, लेकिन उसने ऐसा किया।

इसे भी पढ़ें: कोरोना को न ले हल्के में, इस देश में कोविड-19 से मरने वालों की संख्या पहुंची पांच लाख के करीब

उन्होंने दावा किया कि डेमोक्रेटिक पार्टी द्वारा शुरू करायी गयी जांच पूरी तरह से राजनीति से प्रेरित है और डेमोक्रेटिक पार्टी के शासन वाले राज्य न्यूयॉर्क सिटी में इसकी सुनवाई हो रही है। उच्चतम न्यायालय ने इस मामले में आदेश देने से पहले कई महीने तक इंतजार किया। मामले में अंतिम शपथ पत्र 19 अक्टूबर को दाखिल हुआ था। अदालत का यह आदेश मैनहट्टन के डिस्ट्रिक्ट अटॉर्नी साइरस वांस जूनियर के लिए जीत की तरह है जिन्होंने एक जांच के तहत ट्रंप के 2019 से कर संबंधी रिकॉर्ड की मांग की थी।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।




फ्रांस के अरबपति राजनेता ओलिवियर दसॉल्ट की हेलिकॉप्टर दुर्घटना में मौत

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  मार्च 8, 2021   18:25
  • Like
फ्रांस के अरबपति राजनेता ओलिवियर दसॉल्ट की हेलिकॉप्टर दुर्घटना में मौत

फ्रांस के अरबपति एवं सांसद की हेलीकॉप्टर दुर्घटना में मौत हो गई।फ्रांसीसी राष्ट्रीय वायु दुर्घटना जांच एजेंसी ‘बीईए’ ने बताया कि एयरबस ‘एएस350’ हेलीकॉप्टर निजी हवाई क्षेत्र से उड़ान भरने के तुरंत बाद ही दुर्घटना ग्रस्त हो गया।

पेरिस। फ्रांस के एक अरबपति विमानन उद्योगपति एवं संसद सदस्य ओलिवियर दसॉल्ट की हेलीकॉप्टर दुर्घटना में मौत हो गई। विमान के पायलट की भी इस हादसे में मौत हो गई। अधिकारियों ने यह जानकारी दी। ओलिवियर दसॉल्ट (69) एक शक्तिशाली पारिवारिक व्यापारिक साम्राज्य के उत्तराधिकारी थे, जिनकी कम्पनी ने निजी विमान ‘फाल्कन’ और लड़ाकू विमान ‘रफाल’ का निर्माण किया और जो समाचार पत्र ‘ला फिगारो’ सहित कई अन्य व्यवसायों के मालिक थे। लिसेयुक्स के क्षेत्रीय अभियोजक कार्यालय के अनुसार, रविवार को हुई इस दुर्घटना के मामले में न्यायिक जांच जारी है। फ्रांसीसी राष्ट्रीय वायु दुर्घटना जांच एजेंसी ‘बीईए’ ने बताया कि एयरबस ‘एएस350’ हेलीकॉप्टर निजी हवाई क्षेत्र से उड़ान भरने के तुरंत बाद ही दुर्घटना ग्रस्त हो गया।

इसे भी पढ़ें: म्यांमा की सैन्य सरकार पर प्रतिबंध लगाने के लिए बढ़ रहा वैश्विक दबाव

बीईए के सदस्य सोमवार को घटनास्थल पहुंचेंगे। पत्रिका ‘फोर्ब्स’ ने ओलिवियर दसॉल्ट को 2020 में सबसे अमीर 500 लोगों की सूची में जगह दी थी। ‘दसॉल्ट ग्रुप’ उनके परिवार का ही है। ओलिवियर 2002 से निचले सदन में रिपब्लिकन का प्रतिनिधित्व कर रहे थे। फ्रांस के राष्ट्रपति एमैनुएल मैक्रों ने भी उनके निधन पर शोक व्यक्त किया है। उन्होंने ट्वीट किया कि उद्योग के कप्तान, सांसद, स्थानीय निर्वाचित नेता, वायु सेना के रिजर्व अधिकारी.... उनका इस तरह निधन बड़ी क्षति है।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।




पाकिस्तान में प्रतिबंधित ब्लूचिस्तान लिबरेशन आर्मी के 5 आतंकवादी ढेर, बड़े हमले की कर रहे थे तैयारी

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  मार्च 8, 2021   18:22
  • Like
पाकिस्तान में प्रतिबंधित ब्लूचिस्तान लिबरेशन आर्मी के 5 आतंकवादी ढेर, बड़े हमले की कर रहे थे तैयारी

पाकिस्तान में प्रतिबंधित ‘ब्लूचिस्तान लिबरेशन आर्मी’ के पांच आतंकवादी ढेर हो गए।अधिकारी के अनुसार, प्रतिबंधित अलगाववादी संगठन के आतंकवादियों ने सप्ताहांत में प्रांत में आतंकवादी हमले बढ़ा दिए थे।

कराची। पाकिस्तान के सुरक्षा बलों ने देश के अशांत क्षेत्र बलूचिस्तान प्रांत में प्रतिबंधित ‘बलूचिस्तान लिबरेशन आर्मी’ के पांच आतंकवादियों को मार गिराया। क्वेटा में आतंकवाद रोधी विभाग (सीटीडी) के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि खुफिया जानकारी के आधार पर चलाए एक अभियान के दौरान अलगाववादी संगठन के ये आतंकवादी मारे गए। उन्होंने कहा, ‘‘ वे क्वेटा में एक बड़े हमले की योजना बना रहे थे। विस्फोटक, ‘डेटोनेटर’ और हथियार भी उनके ठिकाने से बरामद हुए हैं।’’ अधिकारी ने बताया कि ये पांचों आतंकवादी श्रमिकों और सुरक्षा बलों पर हुए हमलों में भी शामिल थे।

इसे भी पढ़ें: म्यांमा की सैन्य सरकार पर प्रतिबंध लगाने के लिए बढ़ रहा वैश्विक दबाव

उन्होंने कहा, ‘‘ जब हमने इनके ठिकाने पर छापा मारा, तब इन्होंने आत्मसमर्पण करने की बजाय पुलिस अधिकारियों पर गोलियां चला दीं।’’ उन्होंने बताया कि कुछ आतंकवादी अंधेरे का फायदा उठाकर मौके से भाग निकलें। सीटीडी ने 10 किलोग्राम विस्फोट, तीन ‘डेटोनेटर’, दो विस्फोट छड़ें, दो ग्रेनेड, तीन कलाशनिकोव राइफल, 100 गोलियां, एक रिमोट संचालित यंत्र और 13 ‘बैटरी सेल’ बरामद करने का दावा किया है। अधिकारी के अनुसार, प्रतिबंधित अलगाववादी संगठन के आतंकवादियों ने सप्ताहांत में प्रांत में आतंकवादी हमले बढ़ा दिए थे।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।




ब्रिटेन में 56 साल से उससे अधिक आयु के लोगों को कोविड-19 टीके लगाने की शुरुआत

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  मार्च 8, 2021   16:43
  • Like
ब्रिटेन में 56 साल से उससे अधिक आयु के लोगों को कोविड-19 टीके लगाने की शुरुआत

ब्रिटेन में 56 साल से उससे अधिक आयु के लोगों को कोविड-19 टीके लगाने की शुरुआत की गई है।राष्ट्रीय स्वास्थ्य सेवा (एनएचएस) ने टीके लगवाने के लिये इस सप्ताह इस आयु वर्ग के करीब साढ़े आठ लाख लोगों को पत्र भेजे।

लंदन। ब्रिटेन में रविवार को 56 वर्ष और उससे अधिक आयु के लोगों को टीके लगाए जाने के साथ ही कोविड-19 टीकाकरण का दूसरा दौर शुरू हो गया। इससे पहले केवल 60 साल से अधिक आयु के लोगों को ही टीके लगाए जा रहे थे। राष्ट्रीय स्वास्थ्य सेवा (एनएचएस) ने टीके लगवाने के लिये इस सप्ताह इस आयु वर्ग के करीब साढ़े आठ लाख लोगों को पत्र भेजे।

इसे भी पढ़ें: म्यांमा की सैन्य सरकार पर प्रतिबंध लगाने के लिए बढ़ रहा वैश्विक दबाव

सोमवार तक साढ़े आठ लाख और लोगों को पत्र भेजे जाने हैं। एनएचएस ने कहा था कि एक तिहाई से अधिक वयस्क आबादी को जीवनरक्षक टीके लगाए जा चुके हैं। ब्रिटेन के स्वास्थ्य मंत्री मैट हैनकॉक ने कहा, एनएचएस टीकाकरण कार्यक्रम चरम पर है और 2 करोड़ 10 लाख से अधिक अति संवेदनशीललोगों को टीके की पहली खुराक दी जा चुकी है।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।




This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept