International Highlights: काबुल हवाईअड्डे पर बम धमाके, 'इस्लामिक स्टेट-खुरासान प्रांत' ने ली जिम्मेदारी

Afghanistan
बम धमाकों में 11 अमेरिकी नौसैनिकों और नौसेना के एक चिकित्साकर्मी की मौत हो गई जिसके बाद अमेरिका के राष्ट्रपति जो बाइडन ने बयान दिया कि हम इस हमले का करारा जवाब देंगे और हम हमलावरों को पकड़कर इसकी सजा देंगे।

अफगानिस्तान में 26 अगस्त को काबुल हवाईअड्डे के पास सिलसिलेवार तरीके से ब्लास्ट हुए। इस हमले में 72 से ज्यादा लोगों की मौत हो गयी। काबुल हवाईअड्डे के बाहर हुए इन हमलों की जिम्मेदारी इस्लामक स्टेट से संबद्ध रखने वाले ‘इस्लामिक स्टेट-खुरासान प्रांत’ (आईएसकेपी) ने ली है। वहीं बम धमाकों में 11 अमेरिकी नौसैनिकों और नौसेना के एक चिकित्साकर्मी की मौत हो गई जिसके बाद अमेरिका के राष्ट्रपति जो बाइडन ने बयान दिया कि हम इस हमले का करारा जवाब देंगे और हम हमलावरों को पकड़कर इसकी सजा देंगे।

काबुल हमले के बाद बदले बाइडन के सुर! बोले- आतंकियों हम तुम्हें पकड़कर इसकी सजा देंगे

अफगानिस्तान पर तालिबान के कब्जे के बाद सभी देश अफगानिस्तान से अपने नागरिको को वापस लेकर आ रहे हैं। काफी अफगानिस्तान के भी है जो वहां से भाग रहे थे क्योंकि वह तालिबान के जुल्मों को नहीं सहना चाहता। नागरिकों का रेक्स्यू अभियान रोकने के लिए काबुल एयरपोर्ट पर 26 अगस्त को सिलसिलेवार तरीके से ब्लास्ट हुए। इस हमले में 72 से ज्यादा लोगों की मौत हो गयी। अब इस पर जो बाइडन का बयान आया है। अमेरिका के राष्ट्रपति जो बाइडन ने काबुल हमले के लिए इस्लामी चरमपंथियों को जिम्मेदार ठहराया और हमले में मारे गए लागों की जान का बदला लेने का संकल्प लेते हुए कहा, ‘‘ हम तुम्हें (हमलावरों को) पकड़कर इसकी सजा देंगे।"

काबुल हवाई अड्डे के बाहर हमले में 12 अमेरिकी नौसैनिकों की मौत:अधिकारी

अफगानिस्तान में बृहस्पतिवार को काबुल हवाई अड्डे के पास हुए बम धमाकों में 11 अमेरिकी नौसैनिकों और नौसेना के एक चिकित्साकर्मी की मौत हो गई। दो अमेरिकी अधिकारियों ने यह जानकारी दी। अधिकारियों ने कहा कि अमेरिकी सेना के कई जवान घायल हुए हैं और इनकी संख्या बढ़ सकती है। वहीं, रूस के विदेश मंत्रालय ने कहा कि हवाईअड्डे के पास दो आत्मघाती हमलावरों और बंदूकधारियों ने भीड़ को निशाना बनाकर हमला किया, जिसमें कम से कम 13 लोगों की मौत हो गई जबकि दर्जनों लोग घायल हुए हैं।

इस्लामिक स्टेटस से जुड़ा आईएसकेपी आतंकी समूह ने काबुल हमले की जिम्मेदारी ली

अफगानिस्तान में इस्लामक स्टेट से संबद्ध ‘इस्लामिक स्टेट-खुरासान प्रांत’ (आईएसकेपी) ने काबुल हवाईअड्डे के बाहर हुए हमलों की जिम्मेदारी ली है। अफगान और अमेरिकी अधिकारियों के अनुसार, काबुल हवाईअड्डे के पास दो आत्मघाती हमलावरों और बंदूकधारियों ने अफगानों की भीड़ पर किए गए हमले में कम से कम 72 लोगों की मौत हो गई जबकि कई अन्य के घायल होने की खबर है।

इन दो देशों की सीमा पर पेशाब करना पड़ सकता है भारी, रखी जा रही नजर

रूस के साथ नॉर्वे की नदी सीमा पर एक पोस्ट लगया गया है जिसमें टूरिस्ट को सीधी चेतावनी दी है कि रूस की दिशा में पेशाब करना मना है। अग्रेंजी अखबार TOI की एक खबर के मुताबिक, अगर कोई भी टूरिस्ट रूस की दिशा में पेशाब करता पाया गया तो भारी जुर्माना देना पड़ेगा। बताया जा रहा है कि, ऐसा करना कानून के खिलाफ है। पोस्ट को बिल्कुल काले बोल्ड अक्षरों में अंग्रेजी में लिखा गया है ताकि उसे हर एक टूरिस्ट पढ़ सके और नियमों का पालन करें।

काबुल में हमला करने वाले आईएस-के की तालिबान के साथ है वैचारिक प्रतिद्वंद्विता, खुरासान की करना चाहता है स्थापना

अफगानिस्तान के 33 प्रांतों पर तालिबान का कब्जा है और इसके बाद काबुल में गुरुवार को पहला बड़ा धमाका हुआ है। काबुल हवाई अड्डे के बाहर जमा भीड़ पर हुए आत्मघाती हमले में 100 से अधिक लोगों की मौत हो गई, जिनमें 13 अमेरिकी सैनिक भी शामिल हैं। इस हमले की जिम्मेदारी आईएसआईएस-के ने ली है। ऐसे में सवाल खड़ा हो रहा है कि आईएसआईएस-के कौन सा संगठन है। 

अन्य न्यूज़