ट्रंप के ग्लोबल मीडिया प्रमुख ने बाइडेन समर्थक वीडियो पर जांच के दिए आदेश

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  जुलाई 31, 2020   16:21
ट्रंप के ग्लोबल मीडिया प्रमुख ने बाइडेन समर्थक वीडियो पर जांच के दिए आदेश

एजेंसी फॉर ग्लोबल मीडिया (एजीएम) के प्रमुख माइकल पैक ने बृहस्पतिवार को कहा कि उनके कर्मचारी ‘‘प्रो बाइडेन’’नामक सेगमेंट पर नजर रख रहे हैं और जिम्मेदार लोगों के खिलाफ अनुशासनात्मक कार्रवाई पर विचार कर रहे हैं। वीओए की उर्दू की वेबसाइट, ट्विटर, इंस्टाग्राम और फेसबुक अकाउंट पर इस महीने डाली गई उस सामग्री को हटा लिया गया है।

वाशिंगटन। अमेरिका द्वारा वित्त पोषित एक वैश्विक मीडिया एजेंसी ने वॉइस ऑफ अमेरिका (वीओए) वेबसाइट तथा संबंधित सोशल मीडिया के कई अकाउंट पर पूर्व उप राष्ट्रपति जो बाइडेन को दिखाने वाले एक वीडियो पैकेज को पोस्ट करने के मामले की जांच के आदेश दिए हैं। एजेंसी फॉर ग्लोबल मीडिया (एजीएम) के प्रमुख माइकल पैक ने बृहस्पतिवार को कहा कि उनके कर्मचारी ‘‘प्रो बाइडेन’’नामक सेगमेंट पर नजर रख रहे हैं और जिम्मेदार लोगों के खिलाफ अनुशासनात्मक कार्रवाई पर विचार कर रहे हैं। वीओए की उर्दू की वेबसाइट, ट्विटर, इंस्टाग्राम और फेसबुक अकाउंट पर इस महीने डाली गई उस सामग्री को हटा लिया गया है और एजेंसी का कहना है कि उस सामग्री ने संभवत: संघीय कानून का उल्लंघन किया है।

इसे भी पढ़ें: 14 भाषाओं में होगा जो बाइडेन का चुनाव प्रचार, ‘‘अमेरिका का नेता कैसा हो, जो बाइडेन जैसा हो’’ जैसे लगेंगे नारे

पैक ने वीओए और उसके सहयोगी नेटवर्कों को देखने वाली एजेंसी के ढांचे में बड़े बदलाव की शुरुआत की है जिसके लिए उनकी डेमोक्रेट और रिपब्लिकन दोनों आलोचना कर रहे हैं। कई डेमोक्रेटों ने आशंका जताई है कि पैक इन संस्थाओं को ट्रंप के दुष्प्रचार का साधन बना देना चाहते हैं। वीडियो पैकेज पर पैक की इस तरह की कार्रवाई भी आलोचकों की चिंताओं को और बढ़ा सकती है। एजीएम ने ‘मिलियन मुस्लिम वोट्स’ नाम वाले एक सोशल मीडिया अभियान के संदर्भ में कहा, ‘‘इस मुद्दे पर प्रसारित वीडियो को केवल राष्ट्रपति पद के संभावित डेमोक्रेट उम्मीदवार और पूर्व उप राष्ट्रपति जो बाइडेन के लिए वस्तुत: चुनाव प्रचार करार दिया जा सकता है।’’ इस वीडियो में मुस्लिम अमेरिकियों से बाइडेन को बात करते हुए दिखाया गया है। एजीएम ने कहा कि उसका प्रबंधन इस बात से चिंतित है कि वीओए के लोगो वाले वीडियो में आगामी राष्ट्रपति चुनाव के लिए उर्दू भाषी मुस्लिम अमेरिकी समुदाय के बीच मतों को प्रभावित करने की मंशा हो सकती है।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।