इस्तांबुल बम विस्फोट के हफ्ते भर बाद तुर्किये ने सीरिया,इराक में किये हवाई हमले

Turkey
प्रतिरूप फोटो
Google Creative Commons
मंत्रालय ने एक बयान में कहा कि लड़ाकू विमानों ने प्रतिबंधित कुर्दिस्तान वर्कर्स पार्टी या पीकेके और सीरियन पीपुल्स प्रोटेक्शन यूनिट्स या वाईपीजी के ठिकानों पर हमले किये।

तुर्किये ने सीरिया और इराक के उत्तरी क्षेत्रों पर हवाई हमले कर उन कुर्द समूहों को निशाना बनाया है, जो पिछले सप्ताह इस्तांबुल में हुए बम विस्फोट के लिए जिम्मेदार ठहराये गये हैं। यह जानकारी तुर्किये के रक्षा मंत्रालय ने रविवार को दी। मंत्रालय ने एक बयान में कहा कि लड़ाकू विमानों ने प्रतिबंधित कुर्दिस्तान वर्कर्स पार्टी या पीकेके और सीरियन पीपुल्स प्रोटेक्शन यूनिट्स या वाईपीजी के ठिकानों पर हमले किये। बयान के साथ एफ-16 विमान के उड़ान भरने की तस्वीरें और एक ड्रोन से हमले किये जाने की वीडियो फुटेज को भी जारी किया गया।

अभी, किसी भी समूह ने इस पर तत्काल कोई टिप्पणी नहीं की है। मंत्रालय ने संयुक्त राष्ट्र चार्टर के अनुच्छेद 51 के तहत तुर्किये के आत्मरक्षा के अधिकार का हवाला देते हुए शनिवार देर रात ‘क्लॉ-स्वॉर्ड’ नामक एक अभियान शुरू किया। इसने कहा कि इसके तहत उन क्षेत्रों को लक्षित किया गया, जिनका इस्तेमाल ‘‘आतंकवादी हमारे देश पर हमले करने के लिए करते हैं।’’

तुर्किये ने कहा कि उसका प्रयास हमलों को रोकना, अपनी दक्षिणी सीमा को सुरक्षित करना और ‘‘आतंकवाद का स्रोत नष्ट करना’’ है। ये हवाई हमले ऐसे समय किये गए हैं, जब गत 13 नवंबर को इस्तांबुल के बीचों-बीच हुए एक बम विस्फोट में छह व्यक्तियों की मौत हो गई और 80 से अधिक लोग घायल हो गए। तुर्किये के अधिकारियों ने पीकेके और उसके सीरियाई सहयोगी वाईपीजी पर हमले का आरोप लगाया है। हालांकि, कुर्द समूहों ने इसमें संलिप्तता से इनकार किया है। अंकारा और वाशिंगटन दोनों पीकेके को एक आतंकवादी समूह मानते हैं, लेकिन वाईपीजी की स्थिति पर असहमत हैं।

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


अन्य न्यूज़