यूक्रेन के इस्पात कारखाने पर बमबारी, जेलेंस्की अमेरिकी मंत्रियों से करेंगे मुलाकात

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  अप्रैल 24, 2022   16:08
यूक्रेन के इस्पात कारखाने पर बमबारी, जेलेंस्की अमेरिकी मंत्रियों से करेंगे मुलाकात
Google common license

यूक्रेन के अधिकारियों ने यह बात कही।वहीं,यूक्रेन के राष्ट्रपति वोलोदिमिर जेलेंस्की ने कहा है कि वह कीव में दो शीर्ष अमेरिकी अधिकारियों से मुलाकात करेंगे।जेलेंस्की ने बताया कि वह राजधानी कीव में रविवार को अमेरिका के विदेश मंत्री एंटनी ब्लिंकन और रक्षा मंत्री लॉयड ऑस्टिन से मुलाकात करेंगे जो रूस की सैन्य कार्रवाई के 60वें दिन हो रही है।

कीव।यूक्रेन में रूसी सेना ने दक्षिणी शहर मारियुपोल में सैनिकों और नागरिकों को आश्रय देने वाले एक इस्पात संयंत्र में घुसने की कोशिश की। इसे सामरिक रूप से महत्वपूर्ण बंदरगाह शहर में प्रतिरोध के आखिरी गढ़ को खत्म करने की रूसी कवायद बताया जा रहा है। यूक्रेन के अधिकारियों ने यह बात कही। वहीं, यूक्रेन के राष्ट्रपति वोलोदिमिर जेलेंस्की ने कहा है कि वह कीव में दो शीर्ष अमेरिकी अधिकारियों से मुलाकात करेंगे। जेलेंस्की ने बताया कि वह राजधानी कीव में रविवार को अमेरिका के विदेश मंत्री एंटनी ब्लिंकन और रक्षा मंत्री लॉयड ऑस्टिन से मुलाकात करेंगे जो रूस की सैन्य कार्रवाई के 60वें दिन हो रही है।

इसे भी पढ़ें: यदि अमेरिका भारत से मित्रता चाहता है तो दोस्त को कमजोर नहीं होना चाहिए : सीतारमण

उन्होंने संवाददाताओं से कहा कि वह नतीजे की उम्मीद कर रहे हैं, ‘‘न कि केवल उपस्थित होने या कुछ केक देने के लिए मुलाकात कर रहे हैं। हम विशेष चीजें और खास हथियारों की उम्मीद कर रहे हैं।’’ यूक्रेन में 24 फरवरी को रूसी सैन्य कार्रवाई शुरू होने के बाद से अमेरिकी मंत्रियों की कीव की यह पहली उच्चस्तरीय यात्रा होगी। ब्लिंकन ने मार्च में पोलैंड की यात्रा के दौरान यूक्रेन के विदेश मंत्री से मुलाकात करने के लिए थोड़ी देर के लिए यूक्रेन की धरती पर कदम रखे थे। जेलेंस्की की किसी अमेरिकी नेता से पिछली बार आमने-सामने की मुलाकात 19 फरवरी को हुई थी। उस समय उन्होंने म्यूनिख में अमेरिकी उपराष्ट्रपति कमला हैरिस से मुलाकात की थी। यह मुलाकात ऐसे समय हो रही है जब यूक्रेनी और रूसी लोग ऑर्थोडॉक्स ईस्टर मना रहे हैं। जेलेंस्की ने कहा, ‘‘पुनरुत्थान होगा। मृत्यु पर जीवन की जीत होगी। सच्चाई, झूठ को हराएगी। और शैतान दंडित होंगे तथा रूस इस सच्चाई का फिर से सामना करेगा, यह केवल समय का खेल है।’’ उल्लेखनीय है कि मारियुपोल शहर पर कब्जे के लिए रूसी सेना गत दो महीने से कोशिश कर रही है।

इसे भी पढ़ें: कश्मीर में मानवाधिकार के हालात पर अमेरिकी सांसद ने चिंता जताई

अजोव सागर के किनारे बसे इस शहर ने युद्ध के सबसे भयानक स्वरूप को देखा है। इस पर कब्जे से यूक्रेन का बंदरगाह से संपर्क कट जाएगा और रूसी सैनिकों को कहीं भी लड़ाई में आसानी होगी। इसके साथ ही क्रीमिया प्रायद्वीप के लिए जमीनी गलियारा तैयार हो जाएगा जिस पर रूस ने वर्ष 2014 में कब्जा किया था। करीब दो हजार यूक्रेनी सैनिक यूक्रेन के आखिरी मोर्चे मारियुपोल के अजोवस्ताल इस्पताल कारखाने पर कब्जा बरकरार रखने के लिए संघर्ष कर रहे हैं। इस कारखाने की जटिल सुरंग प्रणाली में आम नागरिकों ने भी शरण ले रखी है। यूक्रेनी सशस्त्र बल के जनरल स्टाफ प्रवक्ता आलेक्संद्र शतुपुन ने रविवार को बताया कि रूसी बल संयंत्र को नष्ट करने का कार्य जारी रखे हुए हैं और वे लंबी दूरी वाले लड़ाकू विमानों की मदद से हवाई हमले कर रहे हैं। युद्ध के अधिकतर समय मारियुपोल घेराबंदी में ही रहा। यूक्रेनी अधिकारियों का कहना है कि जब लड़ाई खत्म होगी तो उन्हें हजारों आम लोगों के मारे जाने और युद्ध अपराध के सबूत मिलेंगे। उपग्रह से ली गई तस्वीरों में कथित तौर पर दिखाई दे रहा है कि मारियुपोल के पश्चिमी और पूर्वी कस्बों में सामूहिक कब्र खोदी गई हैं। शतुपुन ने बताया कि रूसी बलों ने लुहांस्क के पोपस्ना और शिवरोदोनेत्स्क शहरों में हमले तेज कर दिए हैं। लुहांस्क के क्षेत्रीय गवर्नर सेरहिय हैदाई ने रविवार को कहा कि शनिवार को रूसी हमले में आठ लोगों की मौत हो गई और दो अन्य घायल हुए हैं। गवर्नर वेलेंटिन रेजनिचेंको ने बताया कि रूसी बलों ने पश्चिमी डोनबास के दिनीप्रो इलाके में भी बमबारी की है और कम से कम एक व्यक्ति की मौत रूसी मिसाइल की जद में आने से हुई है।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।



Prabhasakshi logoखबरें और भी हैं...

अंतर्राष्ट्रीय

झरोखे से...